खून से सना सेनेटरी नैपकिन का बयान देकर स्मृति ईरानी बुरी तरह फंसी

शुक्रवार, 26 अक्टूबर 2018 (00:39 IST)
सीतामढ़ी (बिहार)। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी केरल के सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर दिए गए विवादास्पद बयान (खून से सना सेनेटरी नैपकिन) को लेकर बुरी तरह फंस गई हैं। जिले की एक अदालत में गुरुवार को उनके खिलाफ एक परिवाद पत्र दायर किया गया है।
 
 
अधिवक्ता ठाकुर चंदन सिंह ने मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी सरोज कुमारी की अदालत में स्मृति ईरानी और महिलाओं के प्रवेश के विरोध में उक्त मंदिर के सामने प्रदर्शन कर रहे अज्ञात लोगों के खिलाफ भादवि की धारा 295 ए, 353, 124 ए, 120 बी आदि के तहत परिवाद पत्र दायर किया है।
 
सिंह ने अपने परिवाद में आरोप लगाया कि स्मृति ईरानी का पूरी नारी जाति को अपवित्र कहना महिलाओं की मर्यादा के खिलाफ और यह उच्चतम न्यायालय के आदेश का अनादर है। उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय ने सबरीमाला मंदिर में सभी आयु वर्ग के महिलाओं को प्रवेश की अनुमति दी थी लेकिन न्यायालय के फैसले का विरोध हो रहा है।
 
ईरानी ने इसको लेकर बयान दिया था कि अगर आप माहवारी के दिनों में खून से सना सेनेटरी नैपकिन लेकर अपने दोस्तों के घर नहीं जा सकते हैं, उस हालत में मंदिरों में भी नहीं जाना चाहिए। सबरीमाला मंदिर की पुरानी परंपरा के अनुसार 10 से 50 वर्ष की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं थी।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING