Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

शरारती बच्चों को भी चाहिए बड़ों से प्रशंसा

webdunia
सभी पैरेंट्स चाहते हैं कि उनके बच्चे आज्ञाकारी हों, उनकी सभी बातें मानें और उनके कहे अनुसार सारे काम करें। माता-पिता अपने बच्चों को दूसरों से अच्छा व्यवहार करना सिखाने की हरसंभव कोशिश करते हैं, लेकिन कुछ बच्चों पर उनके प्रयास विफल हो जाते हैं। पैरेंट्स के कई बार अच्छी समझाइश देने के बावजूद भी कुछ बच्चे शरारती हो जाते हैं और वे शरारत करना नहीं छोड़ते। ऐसे में पैरेंट्स अक्‍सर बच्चों को मारपीट और डांटकर सुधारने की कोशिश करते हैं, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि शरारती होना सिर्फ बुरा नहीं होता है, बल्कि बच्चों की शरारत के पीछे भी कई गुण छुपे होते हैं।
 
शरारती बच्चा किसे कहते हैं?
वे बच्चे, जिनकी हरकतों या व्यवहार से बड़े लोगों को परेशानी, चिढ़ व गुस्सा आ जाए या उनका व्यवहार विचित्र लगे। ऐसे बर्ताव वाले बच्चों को शरारती कहा जाता है।
 
आइए, जानते हैं शरारती बच्चे भी क्यों आपकी प्रशंसा के हकदार हैं? इन बच्चों में कौनसे गुण छिपे होते हैं, जिन पर ध्यान देकर आप उनके अच्छे गुणों को विकसित कर सकते हैं :
 
1. शरारती बच्चे अक्‍सर बड़ों की सलाह नहीं मानते, वे हर चीज खुद से करना चाहते हैं। ये व्यवहार उनके स्वतंत्र और इंडिपेंडेंट होकर किसी काम को करने के गुण को दर्शाता है। आप उन्हें छोटे-मोटे काम खुद से करने दें, वे अपनी ही गलतियों से बेहतर सीखेंगे। अगर आप एक इंडिपेंडेंट बच्चे को बड़ा करना चाहते हैं, तो अब से जब शरारती बच्चे आपकी बात न मानें और खुद ही कोई निर्णय लें तो आप उन्हें डांटें नहीं, बल्कि उनकी प्रशंसा  करें और उनका साथ दें।
 
2. शरारती बच्चे अक्‍सर एक जगह स्थिर नहीं बैठ पाते हैं। ये बहुत ऊर्जावान होते हैं। जब वे घर में हों तो कुछ न कुछ गतिविधि करेंगे ही या वे बाहर खेलने चले जाएंगे, लेकिन स्थिर और शांत होकर कम ही बैठेंगे। इस व्यवहार से आपको परेशानी हो सकती है, लेकिन यह उनका दुनिया को जानने-समझने का तरीका है, उन्हें फ्री रहना पसंद नहीं है। इन बच्चों में कुछ हद तक जोखिम लेने का गुण होता है। ऐसे में उन्हें चिल्लाने के बजाय आप उनकी कोई पसंदीदा क्लास लगाकर उन्हें व्‍यस्‍त कर दें।
webdunia
 
3. जब शरारती बच्चे बाहर खेलकर गंदे होकर घर आते हैं तब आपको उन पर गुस्सा करने की बजाय उन्हें प्यार से समझाना चाहिए और उनमें छुपे हुए जिज्ञासु और रचनात्मक गुण को समझना चाहिए। क्या आपको लगता है कि आपका बच्चा बिना कोई गड़बड़ किए कभी एक अच्छा कलाकार, वैज्ञानिक या खिलाड़ी बन सकता  है?
 
कुछ हद तक शरारती होना कई बच्चों में सामान्य है। आपको बच्चों की शरारत के पीछे की सही वजह समझकर उनके गुणों की तारीफ करनी चाहिए, लेकिन अगर आपका बच्चा हद से ज्यादा शरारती है, जिससे कि दूसरों को नुकसान पहुंच सकता है, तब काउंसलर की सलाह लें।


Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

ऋषि पंचमी व्रत : पौराणिक एवं प्रामाणिक कथा, अवश्‍य पढ़ें...