2010 : चर्चित मुकदमे

2011 में होंगे अहम फैसले

इसे मीडिया की खबरों में जगह पाने का जतन कह लीजिए या कानूनी हथियार के इस्तेमाल से इंसाफ पाने की ईमानदार कोशिश, लेकिन मशहूर हस्तियों के खिलाफ अलग-अलग मसलों पर याचिकाएँ दायर की गई।

अब सूची में पूर्व संघ प्रमुख केएस सुदर्शन, कांग्रेस के दो महासचिव राहुल गाँधी व दिग्विजय सिंह, ‘ड्रामा क्वीन’ राखी सावंत और योग गुरु बाबा रामदेव शामिल हो गए हैं। इन हस्तियों के खिलाफ दायर याचिकाओं का भविष्य नए साल में तय होना है।

इनमें से कुछ याचिकाएँ साफ इशारा करती है कि कांग्रेस और संघ परिवार के बीच ‘हिंदू अतिवाद’ के गरम मुद्दे की पृष्ठभूमि में चल रहा टकराव अदालत के गलियारों में भी कदम रख चुका है।

आतंकी गतिविधियों में शामिल संगठनों से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की कथित तुलना पर भड़के संघ स्वयंसेवक मुकेश पेड़वा ने राहुल और दिग्विजय के खिलाफ 15 नवंबर को एक स्थानीय अदालत में अर्जी पेश की। इसमें दोनों नेताओं पर भारतीय दंड विधान की धारा 500 (मानहानि) और धारा 153 (भड़काउ बयानबाजी) के तहत मुकदमा चलाए जाने की गुहार की गई। पेड़वा की याचिका पर आगामी 18 जनवरी को अगली सुनवाई होनी है।

संघ के अदालत का दरवाजा खटखटाए जाने के अगले ही दिन यानी 16 नवंबर को पूर्व संघ प्रमुख सुदर्शन एक याचिकाकर्ता के निशाने पर आ गए। यह याचिका कांग्रेस से जुड़े वकील शैलेंद्र द्विवेदी ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गाँधी पर सुदर्शन की कथित आपत्तिजनक टिप्पणियों के खिलाफ दायर की। याचिकाकर्ता का आरोप है कि भोपाल में 10 नवंबर को सोनिया के खिलाफ सुदर्शन की आपत्तिजनक टिप्पणियों से ‘राष्ट्रीय एकता को नुकसान पहुँचा और पूरी नारी जाति अपमानित हुई।’ द्विवेदी की याचिका 18 जनवरी 2011 को एक स्थानीय अदालत के सामने सुनवाई के लिये आनी है।

कई चर्चित हस्तियों के खिलाफ याचिकाएँ दायर कर चुके इस वकील ने कहा, ‘मैं एक पार्टी से जुड़ा हूँ। अगर मुझे लगता है कि कोई मेरे राष्ट्रीय नेता का अपमान कर रहा है तो यह पार्टी के प्रति मेरा कर्तव्य है कि मैं इस बारे में कुछ करूँ।’ बहरहाल, याचिकाओं का यह सिलसिला अभी थमा नहीं है। कांग्रेस महासचिव राहुल गाँधी के बारे में विकीलीक्स के खुलासे के बाद ‘भावनात्मक रूप से आहत’ होने के नाम पर एक महंत ने 20 दिसंबर को एक स्थानीय अदालत में याचिका दायर की और उन पर मुकदमा चलाए जाने की गुहार की। याचिका पर सुनवाई के लिए आगामी सात जनवरी की तारीख तय की गई है।

सियासत के नामी चेहरों के साथ ही, मशहूर आइटम गर्ल राखी सावंत और योग गुरु बाबा रामदेव के खिलाफ भी अदालतों का दरवाजा खटखटाया गया। राखी की मेजबानी वाले रियलिटी टीवी शो ‘राखी का इंसाफ’ में अपमानजनक टिप्पणी के बाद एक युवक की मौत के चर्चित मसले को शहर की एक अदालत में याचिका दायर कर उठाया गया है।

उधर, गाँधी परिवार के खिलाफ कथित आपत्तिजनक टिप्पणियों को लेकर रामदेव के खिलाफ याचिका पेश की गई है। दोनों हस्तियों के खिलाफ याचिकाओं पर नये साल के पहले महीने में सुनवाई होनी है।

वेबदुनिया पर पढ़ें