Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

अंग्रेजी माह के अनुसार हिन्दू महीनों के नाम

webdunia

अनिरुद्ध जोशी

हिन्दू मास ( hindu masa ) को समझना थोड़ा कठिन है- मूलत: चंद्र मास को देखकर ही तीज-त्योहार मनाए जाते हैं। सबसे ज्यादा यही प्रचलित है। इसके अलाव नक्षत्र मास, सौर मास और अधिमास भी होते हैं। भारतीय पंचाग के अनुसार हिन्दु कैलेण्डर में 12 माह होते है जिनके नाम आकाशमण्डल के नक्षत्रों में से 12 नक्षत्रों के नामों पर रखे गए हैं। जिस मास की पूर्णमासी को चन्द्रमा जिस नक्षत्र में होता है, उसी के नाम पर उस मास का नाम रखा गया है। आओ जानते हैं कि ये माह अंग्रेजी माह के किस माह में आते हैं।
 
 
चैत्र माह : चित्रा नक्षत्र के नाम पर चैत्र मास नाम रखा गया है जो अंग्रेजी माह के मार्च और अप्रैल के बीच से प्रारंभ होता है।
 
वैशाख माह : विशाखा नक्षत्र के नाम पर वैशाख मास नाम रखा गया है जो अग्रेंजी माह के अप्रैल व मई मे बीच से प्रारंभ होता है।
 
ज्येष्ठ माह : ज्येष्ठा नक्षत्र के नाम पर ज्येष्ठ मास का नाम रखा गया है जो अंग्रेजी माह के मई और जून) के मध्य से प्रारंभ होता है।
 
आषाढ़ माह : आषाढ़ा नक्षत्र के नाम पर आषाढ़ मास का नाम रखा गया है जो कि जून और जुलाई के मध्य से प्रारंभ होता है। 
 
श्रावण माह : श्रवण नक्षत्र के नाम पर श्रावण मास का नाम रखा गया है जो जुलाई और अगस्त के मध्य से प्रारंभ होता है।
 
भाद्रपद माह : भाद्रा नक्षत्र के नाम पर भाद्रपद मास का नाम रखा गया है जो कि अगस्त और सितम्बर के मध्य से प्रारंभ होता है। 
 
आश्विन माह : अश्विनी नक्षत्र के नाम पर आश्विन मास का नाम रखा गया है जो सितम्बर और अक्तूबर के मध्य से प्रारंभ होता है। 
 
कार्तिक माह : कृत्तिका नक्षत्र के नाम पर कार्तिक मास का नाम रखा गया है जो अक्तूबर और नवम्बर के मध्य से प्रारंभ होता है।
 
मार्गशीर्ष माह : मृगशीर्ष या मृगशिरा नक्षत्र के नाम पर मार्गशीर्ष नाम रखा गया है जो नवम्बर और दिसम्बर के मध्य से प्रारंभ होता है। 
 
पौष माह : पुष्य नक्षत्र के नाम पर पौष माह का नाम रखा गया है जो कि दिसम्बर और जनवरी के मध्‍य से प्रारंभ होता है। 
 
माघ माह : मघा नक्षत्र के नाम पर माघ माह का नाम रखा गया है जो अंग्रेजी माह जनवरी और फरवरी के मध्य से प्रारंभ होता है।
 
फाल्गुन माह : फाल्गुनी नक्षत्र के नाम पर फाल्गुन मास का नाम रखश गया है जो कि फरवरी और मार्च माह के मध्य से प्रारंभ होता है। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

वास्तु टिप्स : किस काम के लिए कौन सा समय रहेगा अतिशुभ, जानिए 8 खास बातें