Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

कोरोना के बढ़ते संक्रमण से सेंसेक्स 465 अंक लुढ़का, निफ्टी भी 14500 के नीचे आया

हमें फॉलो करें webdunia
मंगलवार, 4 मई 2021 (17:49 IST)
मुंबई। वैश्विक शेयर बाजारों में सकारात्मक रुख के बावजूद बीएसई सेंसेक्स मंगलवार को 465 अंक लुढ़क गया। सूचकांक में अच्छी हिस्सेदारी रखने वाले रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक, एचडीएफसी लि. तथा इन्फोसिस में गिरावट से बाजार नीचे आया। 30 शेयरों वाला बीएसई सेंसेक्स 465.01 यानी 0.95 प्रतिशत की गिरावट के साथ 48,253.51 पर बंद हुआ। इसी प्रकार एनएसई निफ्टी 137.65 अंक यानी 0.94 प्रतिशत टूटकर 14,496.50 अंक पर बंद हुआ।

 
सेंसेक्स के शेयरों में सर्वाधिक करीब 2 प्रतिशत की गिरावट डॉ. रेड्डीज में आई। इसके अलावा रिलायंस इंडस्ट्रीज, सन फार्मा, एचडीएफसी बैंक, एचडीएफसी लि., इन्फोसिस, महिंद्रा एंड महिंद्रा और पॉवरग्रिड भी नुकसान में रहे। दूसरी तरफ ओएनजीसी, बजाज फाइनेंस, टीसीएस, नेस्ले इंडिया और एसबीआई आदि लाभ में रहे।
 
रिलायंस सिक्योरिटीज के रणनीतिक प्रमुख विनोद मोदी ने कहा कि घरेलू शेयर बाजारों में दोपहर के कारोबार में शुरुआती बढ़त बरकरार नहीं रह पाई और गिरावट के साथ बंद हुए। इसका मुख्य कारण कोविड-19 संक्रमण के मामले को लेकर चिंता है। इससे निवेशकों की धारणा प्रभावित हुई है।

 
सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को छोड़कर सभी क्षेत्रों में बिकवाली का दबाव रहा। औषधि कंपनियों के शेयरों में तीव्र सुधार देखने को मिला। कई राज्यों में रोजाना कोविड संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं, यह चिंता का कारण है। हालांकि महाराष्ट्र और दिल्ली समेत कई हिस्सों में नए मामलों की संख्या कम हुई है, जो राहत की बात है।

webdunia
 
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मंगलवार को जारी आंकड़े के अनुसार देश में कोविड-19 संक्रमित उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 34,47,133 हो गई, जो सोमवार को 34,13,642 थी। एशिया के अन्य बाजारों में हांगकांग और सोल बढ़त में रहे जबकि शंघाई और टोकियो अवकाश के कारण बंद रहे। यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरुआती कारोबार में बढ़त का रुख रहा। इस बीच अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 1.79 प्रतिशत बढ़त के साथ 68.77 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। (भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

अहमदाबाद में 45 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए टीकाकरण का काम रुका, जानिए क्यों