Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

वैश्विक बिकवाली के चलते सेंसेक्स 624 अंक गिरकर बंद, रिलायंस में 10 प्रतिशत की मजबूती

webdunia
मंगलवार, 13 अगस्त 2019 (18:16 IST)
मुंबई। वैश्विक शेयर बाजारों में बिकवाली के जोर के बीच एचडीएफसी, एचडीएफसी बैंक, इंफोसिस, आईटीसी और आईसीआईसीआई बैंक के शेयर में भारी गिरावट के चलते मंगलवार को सेंसेक्स 624 अंक गिरकर बंद हुआ। बाजार में गिरावट के दौर को धता बताते हुए रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर 10 प्रतिशत तक चढ़ गया। इससे लुढ़कता सेंसेक्स थोड़ा संभला।
 
वैश्विक रुख के अलावा विभिन्न क्षेत्रों में ग्राहकी मांग धीमी पड़ने, अर्थव्यवस्था में मंदी दिखने और अन्य घरेलू वृहद आर्थिक चुनौतियों की वजह से भी निवेशकों के बीच धारणा कमजोर रही।
 
बीएसई का 30 कंपनियों के शेयर वाला सूचकांक सेंसेक्स 700 अंक तक का गोता लगाने के बाद शाम को 623.75 अंक अथवा 1.66 प्रतिशत गिरकर 36,958.16 अंक पर बंद हुआ। इसमें दिन के दौरान 36,888.49 अंक न्यूनतम और 37,755.16 अंक के उच्चतम स्तर के दायरे में कारोबार हुआ।
 
इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 183.80 अंक यानी 1.65 प्रतिशत घटकर 10,925.85 अंक पर बंद हुआ। दिन में इसमें 10,901.60 के न्यूनतम और 11,145.90 अंक के उच्चतम दायरे के बीच कारोबार हुआ। सबसे ज्यादा नुकसान में येस बैंक, महिंद्रा एंड महिंद्रा, बजाज फाइनेंस, भारती एयरटेल, एचडीएफएसी, मारुति, टाटा स्टील और एलएंडटी के शेयर रहे। इनमें 10.35 प्रतिशत तक की गिरावट दर्ज रही।
 
वहीं दूसरी तरफ रिलायंस इंडस्ट्रीज का शेयर 9.72 प्रतिशत बढ़कर बंद हुआ। इसकी बड़ी वजह रिलायंस इंडस्ट्रीज द्वारा सोमवार को खुद को 18 महीने में कर्ज मुक्त बनाने, तेल एवं पेट्रोरसायन कारोबार में 20 प्रतिशत हिस्सेदारी सऊदी अरब की कंपनी अरामको को बेचने और अगले महीने से जियो फाइबर की शुरुआत करने की घोषणा करना रही।
 
भारतीय वाहन विनिर्माताओं के संगठन 'सियाम' की मंगलवार को जारी रिपोर्ट के मुताबिक देश में जुलाई की वाहन बिक्री में 19 साल की यानी 18.71 प्रतिशत की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की गई है। वाहन उद्योग पिछले 2-3 महीने से भारी दबाव झेल रहा है। इसके चलते क्षेत्र के 15,000 लोग अपनी नौकरी गंवा चुके हैं और 10 लाख से अधिक नौकरियों पर खतरा मंडरा रहा है।
 
सेंट्रम ब्रोकिंग में वरिष्ठ उपाध्यक्ष जगन्नाधाम थुनुगुंत्ला ने कहा कि अमेरिका-चीन व्यापार तनाव को लेकर वैश्विक स्तर पर गहराती चिंता के चलते घरेलू बाजार का रुख वैश्विक बाजार के अनुरूप रहा। अर्जेंटीना और हांगकांग के बाजार में बिकवाली का दौर देखा गया।
 
इस बीच डॉलर के मुकाबले रुपया दिन में कारोबार के दौरान 49 पैसा गिरकर 71.27 के स्तर तक चला गया था। ब्रेंट कच्चा तेल भाव 0.51 प्रतिशत चढ़कर 58.27 डॉलर प्रति बैरल रहा।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Article 370 : पाकिस्तान को पता चली औकात, नहीं मिला कहीं भी समर्थन, अब प्रोपेगंडा