इंडिया ओपन : पीवी सिंधू सेमीफाइनल में, प्रणीत और कश्यप हारे

शुक्रवार, 2 फ़रवरी 2018 (20:06 IST)
नई दिल्ली। गत चैंपियन और शीर्ष वरीय भारत की पीवी सिंधू ने आज यहां तीन गेम तक चले कड़े मुकाबले में स्पेन की बीटरिज कोरालेस को हराकर इंडिया ओपन 2018 बैडमिंटन टूर्नामेंट के महिला एकल सेमीफाइनल में जगह बनाई लेकिन पुरुष  एकल में आठवें वरीय बी साई प्रणीत और पारूपल्ली कश्यप टूर्नामेंट से बाहर हो गए।


दुनिया की चौथे नंबर की खिलाड़ी सिंधू ने दुनिया की 36वें नंबर की खिलाड़ी कोरालेस को 54 मिनट तक चले कड़े मुकाबले में 21-12 19-21 21-11 से हराकर अंतिम चार में जगह बनाई, जहां उनका सामना तीसरी वरीय थाईलैंड की रतचानोक इंतानोन से होगा। इंतानोन ने क्वार्टर फाइनल में हांगकांग की यिप पुई यिन को 21-11, 21-11 से हराया।

इंतानोन के खिलाफ सिंधू का रिकॉर्ड खराब है और थाईलैंड की इस खिलाड़ी के खिलाफ वह छह मैचों में से दो ही जीत पाई हैं। आठवें वरीय साई प्रणीत को तीसरे वरीय चीनी ताइपे के चाउ टिएन चेन के खिलाफ 15-21, 13-21 से हार का सामना करना पड़ा जबकि कश्यप को चीन के कियाओ बिन ने 21-16 21-18 से हराकर बाहर रास्ता दिखाया।

पुरुष  एकल में अब भारत की एकमात्र उम्मीद समीर वर्मा पर है। ओलंपिक रजत पदक विजेता सिंधू ने अपने दमदार स्मैश और नेट प्ले ही बदौलत कोरालेस को शुरू में कोई मौका नहीं दिया। दुनिया की चौथे नंबर की खिलाड़ी ने ब्रेक तक 11-5 की बढत बनाई।

सिंधू ने लगातार दो स्मैश के साथ अपनी बढ़त को 17-9 तक पहुंचाया। कोरालेस ने नेट पर शाट मारकर सिंधू को नौ गेम प्वाइंट दिए। स्पेन की खिलाड़ी ने एक ब्रेक प्वाइंट बचाया लेकिन फिर अगला अंक नेट पर उलझाकर पहला गेम गंवा दिया।

दूसरे गेम में कोरालेस ने 4-1 की बढ़त बनाई लेकिन सिंधू लगातार चार अंक के साथ 5-4 से आगे हो गई। सिंधू ने इसके बाद शटल की लाइन को लेकर कुछ गलतियां की। ब्रेक तक स्पेन की खिलाड़ी 11-9 से आगे थी। कोरालेस ने 13-11 के स्कोर पर लगातार छह अंक के साथ 19-11 की बढ़त बनाई। कोरालेस को इसके बाद सात गेम प्वाइंट मिले।

सिंधू ने दमदार खेल दिखाकर छह गेम प्वाइंट बचाए लेकिन अंतिम गेम प्वाइंट पर स्पेन की खिलाड़ी का शाट नेट से टकराकर भारतीय खिलाड़ी के पाले में गिर गया और स्कोर 1-1 हो गया। सिंधू ने तीसरे और निर्णायक गेम में खोई लय हासिल की। उन्होंने अपने तेज खेल की बदौलत जल्द ही 8-1 की बढ़त बनाई और ब्रेक तक 11-5 से आगे थी।

सिंधू ने 20-10 पर मैच प्वाइंट हासिल किए। कोरालेस ने एक अंक बचाया लेकिन अगला शाट वह बाहर मार बैठी। सिंधू ने मैच के बाद कहा, मैंने दूसरे गेम में काफी गलतियां की लेकिन कुल मिला मुकाबला अच्छा रहा। अब मैं रतचानोक के खिलाफ मुकाबले में बेहतर तैयारी के साथ उतरने की कोशिश करूंगी।

पुरुष  एकल में अपने से बेहतर रैंकिंग वाले कियाओ के खिलाफ कश्यप ने प्रभावी शुरूआत करते हुए जल्द ही 7-2 की बढ़त बनाई। कश्यप ने हालांकि इसके बाद सहज गलतियां करते हुए कियाओ को वापसी का मौका दिया जिन्होंने लगातार पांच अंक के साथ स्कोर 7-7 कर दिया। कश्यप ने इस दौरान कुछ शाट बाहर खेले जबकि उनके दो शाट नेट पर उलझे।

दोनों खिलाड़ियों के बीच प्रत्येक अंक को लेकर संघर्ष दिखा। दुनिया के 35वें नंबर के खिलाड़ी कियाओ ब्रेक तक 11-10 के मामूली अंतर से आगे थे। कियाओ ने लगातार सात अंक के साथ 18-11 की बढ़त बनाई और फिर आसानी से गेम जीत लिया।

दूसरे गेम में दुनिया के 52वें नंबर के खिलाड़ी कश्यप ने काफी गलतियां की जिससे चीन के खिलाड़ी ने 5-0 की बढ़त बनाई और ब्रेक तक वह 11-3 से आगे थे। कश्यप ने वापसी करते हुए 18-18 पर बराबरी हासिल कर ली। कियाओ ने लगातार दो अंक के साथ दो मैच प्वाइंट हासिल किए और फिर दमदार स्मैश के साथ मैच जीत लिया। प्रणीत को ताइपे के खिलाड़ीके खिलाफ लय हासिल करने में जूझना पड़ा। वह पहले गेम में जल्द ही 6-11 से पिछड़ गए, जिसके बाद टिएन चेन को गेम जीतने में कोई परेशानी नहीं हुई।

दूसरे गेम में भी टिएन चेन ने ब्रेक तक 11-7 की बढ़त बनाई और फिर 12-20 के स्कोर पर आठ मैच प्वाइंट हासिल किए। प्रणीत ने एक मैच प्वाइंट बचाया लेकिन इसके बाद शॉट बाहर मारकर जीत टिएन चेन को तोहफे में दे दी। टिएन चेन के खिलाफ यह उनकी लगातार चौथी हार है। (भाषा)

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख अंडर 19 विश्व कप : ऑस्ट्रेलिया को झटका, आरोन हार्डी फाइनल से बाहर