Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

भारतीय हॉकी टीम कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 से हटी, 10 दिनों का क्वारंटाइन नहीं था मंजूर

हमें फॉलो करें webdunia
मंगलवार, 5 अक्टूबर 2021 (19:41 IST)
नई दिल्ली: भारत कोविड-19 से जुड़ी चिंताओं और देश के यात्रियों के प्रति ब्रिटेन के भेदभावपूर्ण क्वारंटीन नियमों के कारण अगले साल बर्मिंघम में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों की हॉकी प्रतियोगिता से हटने का फैसला लिया है। हॉकी इंडिया के अध्यक्ष ज्ञानेंद्रो निंगोबम ने महासंघ के फैसले से भारतीय ओलिंपिक संघ (आईओए) के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा को अवगत करा दिया है।

हॉकी इंडिया ने कहा है कि बर्मिंघम राष्ट्रमंडल खेलों (28 जुलाई से आठ अगस्त) और ग्वांग्झू एशियाई खेलों (10 से 25 सितंबर) के बीच सिर्फ 32 दिन का अंतर है और वहअपने खिलाड़ियों को ब्रिटेन भेजकर जोखिम नहीं उठाना चाहता जो कोरोना वायरस महामारी से सबसे अधिक प्रभावित देशों में शामिल रहा है।
webdunia

निंगोबम ने लिखा, 'एशियाई खेल 2024 पेरिस ओलंपिक खेलों के लिए महाद्वीपीय क्वालीफिकेशन प्रतियोगिता है और एशियाई खेलों की प्राथमिकता को ध्यान में रखते हुए हॉकी इंडिया राष्ट्रमंडल खेलों के दौरान भारतीय टीमों के किसी खिलाड़ी के कोविड-19 संक्रमित होने का जोखिम नहीं ले सकता।'

ब्रिटेन ने हाल में भारत के कोविड-19 टीकाकरण प्रमाण पत्रों को मान्यता देने से इनकार कर दिया था और देश से आने वाले यात्रियों के पूर्ण टीकाकरण के बावजूद उनके लिए 10 दिन का कड़ा पृथकवास अनिवार्य किया है।

इंग्लैंड के कोविड-19 से जुड़ी चिंताओं और भारत सरकार के ब्रिटेन के सभी नागरिकों के लिए 10 दिन का पृथकवास अनिवार्य करने का हवाला देकर भुवनेश्वर में अगले महीने होने वाले एफआईएच पुरुष जूनियर विश्व कप से हटने के एक दिन बाद हॉकी इंडिया ने यह कदम उठाया है।
webdunia

ब्रिटेन की पाबंदियों के बाद भारत ने भी देश में आने वाले ब्रिटेन के नागरिकों पर उसी तरह के प्रतिबंध लगा दिए थे। भारत के नए नियमों के तहत ब्रिटेन से यहां आने वाले उसके सभी नागरिकों के टीकाकरण की स्थिति चाहे कुछ भी हो उन्हें यात्रा के 72 घंटे के भीतर आरटी-पीसीआर परीक्षण का नतीजा दिखाना होगा। भारत पहुंचने पर हवाई अड्डे में और फिर आठवें दिन उनके दो और आरटी-पीसीआर परीक्षण होंगे।

उल्लेखनीय है कि इंग्लैंड ने हाल ही में भारत के कोरोना टीकाकरण के प्रमाण पत्रों को मान्यता देने से इंकार कर दिया था और वैक्सीन के दोनों डोज लेने के बावजूद भारत से आने वाले यात्रियों के लिए 10 दिन का क्वारंटीन अनिवार्य कर दिया था। हॉकी इंडिया के इस फैसले को इंग्लैंड के सोमवार को अगले महीने भारत के ओडिशा में होने वाले जूनियर हॉकी विश्व कप से अपनी जूनियर हॉकी टीम का नाम वापस लेने के फैसले के बाद लिया गया रणनीतिक फैसला भी माना जा रहा है। इंग्लैंड ने भी भारत में कोरोना नियमों का हवाला देते हुए यह फैसला लिया था।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

CSK के ऑलराउंडर सैम करन चोटिल होकर हुए टी-20 विश्वकप से बाहर, इंग्लैंड ने भाई टॉम को किया शामिल