पांचवें दिन लगातार गिरावट में रहा बाजार, सेंसेक्‍स और निफ्टी लुढ़के

गुरुवार, 14 फ़रवरी 2019 (17:03 IST)
मुंबई। विदेशी बाजारों से मिले मिश्रित संकेतों के बीच तेल एवं गैस तथा ऊर्जा क्षेत्र की कंपनियों में रही भारी बिकवाली के दबाव में गुरुवार को घरेलू शेयर बाजार लगातार पांचवें दिन लाल निशान में बंद हुए। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 157.89 अंक की गिरावट में 35,876.22 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 47.60 अंक की गिरावट में 10,746.05 अंक पर बंद हुआ।

यूरोपीय बाजारों में आज तेजी का रुख रहा। नेस्ले, एस्ट्राजेनेका और एयरबस जैसे कंपनियों के सकारात्मक तिमाही परिणामों से निवेशकों का उत्साह बना रहा। ब्रिटेन का एफटीएसई 0.23 और जर्मनी का डैक्स 0.17 प्रतिशत की तेजी में रहा। चीन के मजबूत व्यापार आंकड़ों से एशियाई बाजारों में शुरुआती तेजी रही लेकिन अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के तीन माह के उच्चतम स्तर पर पहुंचने से बाजार पर दबाव हावी हो गया।

लंदन का ब्रेंट क्रूड वायदा नवंबर 2018 के बाद के उच्चतम स्तर 64.04 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। अन्य एशियाई बाजारों के साथ सेंसेक्स भी तेजी के साथ 36,065.08 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान यह 36,109.10 अंक के दिवस के उच्चतम और 35,799.42 अंक के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 0.44 प्रतिशत की गिरावट में 35,876.22 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की 30 में से 11 तेजी में और 19 गिरावट में रहीं। निफ्टी का ग्राफ सेंसेक्स के विपरीत रहा। निफ्टी गिरावट के साथ 10,786.10 अंक पर खुला।

कारोबार के दौरान यह 10,792.70 अंक के दिवस के उच्चतम और 10,718.75 अंक के दिवस के निचले स्तर से होता हुआ गत दिवस की तुलना में 0.44 प्रतिशत की गिरावट में 10,746.05 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 50 में से 29 गिरावट में और 21 तेजी में रहीं। दिग्गज कंपनियों के विपरीत छोटी और मंझोली कंपनियों में तेजी का रुख रहा। बीएसई का मिडकैप 0.52 प्रतिशत यानी 72.39 अंक की तेजी के साथ 14,107.61 अंक पर और स्मॉलकैप 0.17 प्रतिशत यानी 23.03 अंक की तेजी के साथ 13,363.99 अंक पर बंद हुआ।

बीएसई में कुल 2,654 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें से 1,365 में गिरावट और 1,165 में तेजी रही जबकि 124 कंपनियों के शेयरों के भाव अपरिवर्तित रहे। बीएसई के 20 समूहों में से नौ तेजी में और 11 गिरावट में रहे। तेल एवं गैस में 2.11, दूरसंचार में 1.95, ऊर्जा में 1.74,  आईटी में 1.28, टेक में 1.14, बेसिक मैटेरियल्स में 0.07, एफएमसीजी 0.06, यूटिलिटीज में 0.34, सीडी में 0.42, धातु में 0.18 और पीएसयू में 0.78 प्रतिशत की गिरावट रही। सीडीजीएस में 0.09, वित्त में 0.31, स्वास्थ्य में 0.49, इंडस्ट्रियल्स में 0.84, ऑटो में 0.44, बैंकिंग में 0.78, पूंजीगत वस्तु में 0.41, बिजली में 0.10 और रिएल्टी में 0.47 प्रतिशत की तेजी रही।

सेंसेक्स की 30 कंपनियों में 19 गिरावट में और 11 तेजी में रहीं। भारती एयरटेल में 3.09, इंफोसिस में 2.01, एशियन पेंट्स में 1.66, रिलायंस में 1.52, कोल इंडिया में 1.50, एचडीएफसी बैंक में 1.43, एचडीएफसी में 1.27, टीसीएस में 1.16, ओएनजीसी में 1.12, महिंद्रा एंड महिंद्रा में 1.08, पावर ग्रिड में 1.07, हिंदुस्तान यूनीलीवर में 0.93, कोटक बैंक में 0.77, भारतीय स्टेट बैंक में 0.45, एक्सिस बैंक में 0.36, एचसीएल टेक में 0.28, टाटा स्टील में 0.28, एनटीपीसी में 0.11 और मारुति में 0.09 प्रतिशत की गिरावट रही।

रिजर्व बैंक के फैसले से उत्साहित निवेशकों ने आज जमकर लिवाली की जिससे यस बैंक में सर्वाधिक 30.73 प्रतिशत की तेजी रही। टाटा मोटर्स में 3.17, सन फार्मा में 2.20, इंडसइंड बैंक में 1.27, आईसीआईसीआई बैंक में 0.91, हीरो मोटोकॉर्प में 0.80, वेदांता में 0.73, बजाज फाइनेंस में 0.64, एल एंड टी में 0.61, आईटीसी में 0.29 और बजाज ऑटो में 0.10 प्रतिशत की तेजी रही।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख ICC Cricket World Cup 2019 : विश्व कप में भारत और पाकिस्तान का सबसे बड़ा मुकाबला 16 जून को