Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

सेंसेक्स, निफ्टी का रिकॉर्ड बनाने का सिलसिला जारी, अब निगाहें RBI की मौद्रिक समीक्षा पर

हमें फॉलो करें webdunia
गुरुवार, 4 फ़रवरी 2021 (19:50 IST)
मुंबई। शेयर बाजारों में तेजी का सिलसिला गुरुवार को लगातार चौथे कारोबारी सत्र में भी जारी रहा और सेंसेक्स 359 अंक और चढ़कर अपने सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गया। उत्साहवर्धक तिमाही नतीजों के बीच एफएमसीजी और बैंकिंग शेयरों में बढ़त से बाजार धारणा मजबूत हुई। कारोबारियों ने कहा कि बाजार भागीदारों ने एशियाई बाजारों के कमजोर रुख को नजरअंदाज किया और रिजर्व बैंक के शुक्रवार को आने वाले मौद्रिक समीक्षा बैठक के नतीजों से पहले लिवाली की।

बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स दिन में कारोबार के दौरान 50,687.51 अंक के अपने सर्वकालिक उच्च स्तर तक गया। बाद में सेंसेक्स 358.54 अंक या 0.71 प्रतिशत की बढ़त के साथ 50,614.29 अंक के अपने नए रिकॉर्ड स्तर पर बंद हुआ।

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 105.71 अंक या 0.71 प्रतिशत की बढ़त के साथ 14,895.65 अंक पर बंद हुआ। यह इसका नया रिकॉर्ड है। इससे पहले दिन में कारोबार के दौरान निफ्टी ने 14,913.70 अंक के अपने सर्वकालिक उच्च स्तर को छुआ।

सेंसेक्स की कंपनियों में आईटीसी का शेयर सबसे अधिक 6.11 प्रतिशत चढ़ गया। एसबीआई, बजाज फाइनेंस, ओएनजीसी, महिंद्रा एंड महिंद्रा, कोटक बैंक, बजाज फिनसर्व, एनटीपीसी तथा अल्ट्राटेक सीमेंट के शेयर भी लाभ में रहे।

एसबीआई का शेयर 5.73 प्रतिशत की बढ़त में रहा। देश के सबसे बड़े बैंक ने दिसंबर तिमाही में 5,196.22 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ कमाया है। हालांकि यह पिछले साल की समान अवधि से सात प्रतिशत कम है, लेकिन बाजार के अनुमान से अधिक है। एशियन पेंट्स, इंडसइंड बैंक, भारती एयरटेल, टेक महिंद्रा, टाइटन और इंफोसिस के शेयर भी 2.08 प्रतिशत तक टूट गए।

रिलायंस सिक्योरिटीज के प्रमुख-रणनीति विनोद मोदी ने कहा, घरेलू शेयर बाजार एशियाई बाजारों के कमजोर रुख के बावजूद बढ़त के साथ बंद हुए। ठोस बजट के बाद भारतीय अर्थव्यवस्था को लेकर उम्मीदें बढ़ी हैं। अर्थव्यवस्था के प्रति विदेशी निवेशकों का भरोसा कायम है।

उन्होंने कहा कि खास बात यह है कि दिन में कारोबार के दौरान घरेलू बाजार का बाजार पूंजीकरण 20,000 अरब रुपए के आंकड़े को पार कर गया। जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, हम मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की मौजूदा जारी बैठक से और अधिक की उम्मीद नहीं कर सकते हैं। आर्थिक परिदृश्य उत्साहवर्धक रहने की वजह से एमपीसी अपने नरम रुख को जारी रख सकती है।

बीएसई मिडकैप और स्मॉलकैप में 1.45 प्रतिशत तक का लाभ रहा। अन्य एशियाई बाजारों में टोक्यो, हांगकांग, सियोल और शंघाई में गिरावट आई। शुरुआती कारोबार में यूरोपीय बाजार बढ़त में थे। इस बीच, वैश्विक बेंचमार्क ब्रेंट कच्चा तेल वायदा 0.09 प्रतिशत की बढ़त के साथ 58.74 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया।

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 72.96 प्रति डॉलर पर स्थिर बंद हुआ। शेयर बाजारों के अस्थाई आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों ने बुधवार को शुद्ध रूप से 2,520.92 करोड़ रुपए के शेयर खरीदे।(भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

पाकिस्तान पर एक और सर्जिकल स्ट्राइक, जानिए अब क्या हुआ...