Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

बिकवाली के दबाव में सेंसेक्स 323 अंक लुढ़का, निफ्टी भी 88 अंक टूटा

webdunia
बुधवार, 24 नवंबर 2021 (17:51 IST)
मुंबई। शेयर बाजार में एक दिन की तेजी के बाद बुधवार को फिर से गिरावट रही। कारोबार के आखिरी घंटे में की गई बिकवाली से बीएसई सेंसेक्स 323 अंक से अधिक लुढ़क गया। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 88.30 अंक यानी 0.5 प्रतिशत की गिरावट के साथ 17,415.05 अंक पर बंद हुआ। मुख्य रूप से इंफो‍सिस, रिलायंस इंडस्ट्रीज और एचडीएफसी में नुकसान से बाजार में गिरावट आई।

तीस शेयरों पर आधारित सेंसेक्स कारोबार के दौरान ज्यादातर समय बढ़त में था, पर अंत में यह बिकवाली के दबाव से 323.34 अंक यानी 0.55 प्रतिशत की गिरावट के साथ 58,340.99 अंक पर बंद हुआ। पिछले छह कारोबारी सत्रों में सेंसेक्स में यह पांचवीं गिरावट है।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 88.30 अंक यानी 0.5 प्रतिशत की गिरावट के साथ 17,415.05 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स के शेयरों में मारुति, इन्फोसिस, टेक महिंद्रा, आईटीसी, रिलायंस, एलएंडटी, अल्ट्राटेक सीमेंट और एचडीएफसी सर्वाधिक 2.62 प्रतिशत तक नुकसान में रहे।

दूसरी तरफ, लाभ में रहने वाले शेयरों में आईसीआईसीआई बैंक, एनटीपीसी, कोटक बैंक, बजाज फाइनेंस, पावरग्रिड और एचसीएल टेक शामिल हैं। इनमें 1.45 प्रतिशत तक की तेजी रही। सेंसेक्स के 30 शेयरों में से 22 नुकसान में रहे।

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, वैश्विक बाजारों में मिलेजुले रुख के बीच उतार-चढ़ाव भरे कारोबार में शेयर बाजार बढ़त को बरकरार नहीं रख पाया। मुद्रास्फीति बढ़ने के बावजूद यूरो क्षेत्र में कारोबारी गतिविधियां नवंबर में बढ़कर 55.8 पहुंच गईं, जो अक्टूबर में 54.2 थी। इससे निवेशकों में भरोसा बढ़ा है।

उन्होंने कहा, घरेलू मोर्चे पर बैंकों और वित्तीय शेयरों में लाभ का असर तेल एवं गैस तथा वाहन क्षेत्रों में नुकसान से जाता रहा। बैंक शेयरों पर निवेशकों की नजर थी, क्योंकि सरकार ने दो बैंकों के निजीकरण का रास्ता आसान करने को लेकर संसद के शीतकालीन सत्र में बैंक कानून में संशोधन करने का प्रस्ताव किया है।

एशिया के अन्य बाजारों में भी गिरावट रही। अमेरिका में बांड प्रतिफल बढ़ने और अमेरिका तथा अन्य देशों के कच्चे तेल के दाम में कमी लाने के लिए उठाए गए कदमों से वैश्विक स्तर पर कीमतों में उतार-चढ़ाव से यह गिरावट आई।

यूरोप के प्रमुख बाजार भी दोपहर कारोबार के दौरान नुकसान में थे। इस बीच, अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया दो पैसे की मामूली बढ़त के साथ 74.40 पर बंद हुआ। शेयर बाजार में उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार विदेशी संस्थागत निवेशकों ने मंगलवार को शुद्ध रूप से 4,477.06 करोड़ रुपए मूल्य के शेयर बेचे।(भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

रामधुन पर आकर खत्म हुई भोपाल की घुटना तोड़ पॉलिटिक्स!