Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

टोक्यो ओलंपिक से 15 दिन पहले बदले गए खेल मंत्री, हाल ही में इन 3 फैसलों की हुई थी तारीफ

हमें फॉलो करें webdunia
गुरुवार, 8 जुलाई 2021 (18:22 IST)
नई दिल्ली:निवर्तमान खेलमंत्री किरेन रीजीजू ने गुरूवार को कहा कि भारत को खेलों की महाशक्ति बनाने का सफर जारी रहेगा। टोक्यो ओलंपिक से एक पखवाड़ा पहले रीजीजू की जगह अनुराग ठाकुर को खेलमंत्री बनाया गया है।
 
मई 2019 में खेलमंत्री बने रीजीजू कैबिनेट में फेरबदल के साथ अब कैबिनेट मंत्री के रूप में विधि मंत्रालय का जिम्मा संभालेंगे। वहीं अनुराग ठाकुर को सूचना और प्रसारण के साथ खेल मंत्रालय सौंपा गया है।मणिशंकर अय्यर (2006 से 2008) के बाद खेल मंत्रालय का प्रभार संभालने वाले अनुराग ठाकुर पहले कैबिनेट मंत्री होंगे।
 
रीजीजू ने भारतीय खेल प्राधिकरण द्वारा गुरूवार को आयोजित विदाई समारोह में पत्रकारों से कहा ,‘‘ हमने भारत को खेलों में महाशक्ति बनाने के लिये सारे प्रयास किये । यह सफर जारी रहेगा , बस जिम्मेदारी बदल गई है ।’’
 
उन्होंने कहा ,‘‘ मेरा मंत्रालय बदल गया है लेकिन खेल मंत्रालय में ये प्रयास आगे भी जारी रहेंगे । मैं टीम को शुभकामना देता हूं।’’
 
उन्होंने कहा ,‘‘ खेल मंत्री के तौर पर मेरा पूरा कार्यकाल आयोजनों और गतिविधियों से भरपूर रहा। मैने युवा से लेकर सीनियर खिलाड़ियों से मुलाकात की और बात की । भारत को खेलों में आगे ले जाने का सफर जारी रहेगा और पूरा होगा।’’
रीजीजू ने खेल मंत्रालय में अपनी टीम की तारीफ करते हुए कहा कि इसने देशवासियों की आकांक्षाओं को पूरा करने और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नजरिये पर अमल करने की पूरी कोशिश की।
 
रीजीजू को ओलंपिक रजत पदक विजेता राज्यवर्धन सिंह राठौड़ की जगह स्वतंत्र प्रभार के साथ खेलमंत्री बनाया गया था। वह अल्पसंख्यक मामलों के राज्यमंत्री भी रहे और कुछ समय आयुष मंत्रालय का अस्थायी प्रभार भी उनके पास रहा।
 
भारत के 120 से अधिक खिलाड़ियों ने टोक्यो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई किया है। खेल कड़े सुरक्षा प्रोटोकॉल के बीच 23 जुलाई से टोक्यो में होंगे।
 
रीजीजू के कार्यकाल में राष्ट्रीय खेल पुरस्कारों की राशि में इजाफा हुआ और वित्तीय कठिनाई झेल रहे मौजूदा या पूर्व खिलाड़ियों को तुरंत मदद मिली। इसके साथ ही देश भर में साइ केंद्रों का बुनियादी ढांचा बेहतर किया गया।
गौरतलब है कि ओलंपिक में सिर्फ 15 दिन का समय ही बचा है और ऐसे समय में खेल मंत्री बदले गए हैं। 
 
हाल ही में किरेन रीजिजू ने ओलंपिक खेलने जाने वाले भारतीय एथलीट्स को देश के असली हीरो करार देते हुए देशवासियों से इन एथलीट्स को उसी तरह अपना समर्थन देने का आग्रह किया है जैसे वे देश के क्रिकेटरों को देते हैं।रीजीजू ने हाल ही में कुछ कड़े फैसले लिए थे जो कि सबने सराहे थे। 
 
चीनी कंपनी से खत्म किया करार
 
पिछले महीने केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रीजीजू ने अपने आवास पर आयोजित समारोह में टोक्यो ओलंपिक खेलों के लिए भारतीय टीम की आधिकारिक किट का अनावरण किया था लेकिन किट की निर्माता एक चीनी कंपनी थी इस कारण तत्काल प्रभाव से करार समाप्त कर यह निर्णय लिया था कि भारतीय खिलाड़ी टोक्यो ओलंपिक में बिना ब्रांड की जर्सी पहनेंगे। 
 
चोट की चिंता पर किया चोट
 
किरेन रीजीजू ने केंद्रीय एथलीट चोट प्रबंधन प्रणाली (सीएआईएमएस) का शुभारंभ भी किया। यह युवा मामलों और खेल मंत्रालय द्वारा एथलीटों को दी जाने वाली स्पोर्ट्स मेडिसिन और स्वास्थ्यलाभ सहायता को सुव्यवस्थित करने के लिए अपनी तरह की पहली पहल थी। यह योजना उन एथलीटों की मदद के साथ शुरू होगी जो टारगेट ओलंपिक पोडियम योजना (टॉप्स) विकास समूह का हिस्सा हैं, जिनके ओलंपिक 2024 और उसके बाद भाग लेने की उम्मीद है।
 
 
मंत्रीस्तीय प्रतिनिधिमंडल की जगह भेजा अतिरिक्त स्टाफ
 
खेल मंत्रालय ने हाल ही में यह निर्णय लिया था कि टोक्यो ओलंपिक के लिए मंत्रिस्तरीय कोई भी प्रतिनिधिमंडल नहीं भेजा जाएगा। मंत्रालय ने एथलीटों के बेहतर प्रदर्शन के लिए अधिकतम अतिरिक्त सहायक स्टाफ जैसे कोच, डॉक्टर, फिजियोथेरेपिस्ट की प्रतिनियुक्ति करने का निर्णय लिया था। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Euro 2020: सेमीफाइनल में डेनमार्क के गोलकीपर का ध्यान भटकाने के लिए इंग्लैंड के फैन ने की थी यह शर्मनाक हरकत