Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

SBI डिजिटल प्लेटफॉर्म YONO को लेकर लेने वाला है बड़ा फैसला

webdunia
मंगलवार, 6 अक्टूबर 2020 (12:51 IST)
मुंबई। देश का सबसे बड़ा बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) अपने डिजिटल प्लेटफॉर्म योनो (YONO) को अलग इकाई बनाने के बारे में सक्रियता के साथ विचार कर रहा है। बैंक के चेयरमैन रजनीश कुमार ने यह कहा है। योनो यानी 'यू आनली नीड वन ऐप' स्टेट बैंक की एकीकृत बैंकिंग पलेटफॉर्म है।
कुमार ने सोमवार शाम एक सालाना बैंकिंग और वित्त सम्मेलन- सिबोस 2020 में कहा कि हम अपने सभी भागीदारों के साथ इस बारे में (योनो को अलग अनुषंगी बनाने) विचार विमर्श कर रहे हैं। सम्मेलन का आयोजन सोसायटी फॉर वर्ल्डवाइड इंटरबैंक फाइनेंसिशयल टेलीकम्युनिकेशंस (स्विफ्ट) ने किया।
कुमार ने कहा कि योनो के अलग इकाई बन जाने के बाद स्टेट बैंक उसका इस्तेमाल करने वालों में एक होगा। उन्होंने कहा हालांकि बातचीत अभी शुरुआती दौर में है, मूल्यांकन का काम अभी लंबित है। रजनीश कुमार ने हाल में कहा था कि योनो का मूल्यांकन 40 अरब डॉलर के आसपास हो सकता है।
 
कुमार ने स्पष्ट किया कि मैंने जो बयान दिया (योनो के मूल्यांकन पर) वह इस पर आधारित है कि जब मैं सभी स्टार्टअप के मूल्य पर गौर करता हूं और उसकी तुलना करता हूं तो ऐसे में निश्चित रूप से योनो का मूल्यांकन 40 अरब डॉलर से कम नहीं होना चाहिए। फिलहाल इस समय हमने इसके मूल्यांकन की कोई पहल नहीं की है, मेरा मानना है कि यह संभावना है।
 
योनो को 3 साल पहले शुरू किया गया था। इसके 2.60 करोड़ पंजीकृत यूजर्स हैं। इसमें रोजाना 55 लाख लॉगइन होते हैं और 4,000 से अधिक व्यक्तिगत ऋण आवंटन और 16 हजार के करीब योनो कृषि एग्री गोल्ड लोन दिए जाते हैं।
 
कुमार ने यह भी कहा कि स्टेट बैंक खुदरा भुगतान के लिए एक नई समग्र इकाई व्यवस्था के तहत अलग डिजिटल भुगतान कंपनी स्थापित करने पर भी विचार कर रहा है। रिजर्व बैंक ने इस साल अगस्त में एक अखिल भारतीय खुदरा भुगतान इकाई की अनुमति के लिए नियम कायदे जारी की थी। इसके लिए रिजर्व बैंक के पास आवेदन जमा कराने की अंतिम तिथि 26 फरवरी 2021 है। वर्तमान में देश में नेशनल पेमेंट्स कॉपोर्रेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) एकमात्र खुदरा भुगतान इकाई है। (भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

हाथरस कांड में CBI जांच पर क्यों अड़ी है योगी सरकार?, जानिए कारण