Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

बारिश के लिए आजमाया अनोखा टोटका, मेंढकों के जोड़े का कराया प्रतीकात्मक विवाह

हमें फॉलो करें webdunia
बुधवार, 20 जुलाई 2022 (11:04 IST)
गोरखपुर (यूपी)। भारत के अधिकतर भागों में भारी वर्षा के कारण बाढ़ आई हुई है, वहीं दूसरी ओर यूपी के गोरखपुर में सामान्य से कम बारिश होने से चिंतित यहां के लोगों ने भगवान को प्रसन्न करने के लिए कालीबाड़ी मंदिर में मेंढकों के जोड़े का प्रतीकात्मक विवाह समारोह आयोजित किया।
 
स्थानीय लोगों का मानना है कि बारिश के लिए यह टोटका कारगर होता है। मानसून में सामान्य से कम बारिश होने से चिंतित यहां के लोगों ने भगवान को प्रसन्न करने के लिए कालीबाड़ी मंदिर में मेंढकों के जोड़े का प्रतीकात्मक विवाह समारोह आयोजित किया। स्थानीय लोगों का मानना है कि बारिश के लिए यह टोटका कारगर होता है।
 
एक स्थानीय संगठन हिन्दू महासभा द्वारा आयोजित अनुष्ठान में शामिल लोगों ने बताया कि मंगलवार को सभी रीति-रिवाजों के साथ कालीबाड़ी मंदिर में 2 मेंढकों की शादी कराई गई। बड़ी संख्या में लोग विवाह समारोह को देखने पहुंचे।
 
हिन्दू महासंघ के रमाकांत वर्मा ने कहा कि पूरा क्षेत्र सूखे जैसी स्थिति का सामना कर रहा है और सावन महीने के 5 दिन बीत चुके हैं लेकिन अभी तक बारिश नहीं हुई है। पिछले हफ्ते हमने हवन पूजन और पुराणों में वर्णित अनुष्ठान किया। अब हमने मेंढकों की एक जोड़ी की शादी का आयोजन किया। हमें उम्मीद है कि अनुष्ठान निश्चित रूप से काम करेगा और हमारे इलाके में बारिश होगी। विवाह समारोह में मौजूद लोगों ने कहा कि इस अनुष्ठान का प्रभाव जरूर दिखेगा, उन्हें गर्मी से राहत मिलेगी और सूखे का ख़तरा टल जाएगा।
 
गौरतलब है कि सूखे जैसे हालात पैदा होने की आशंका के बीच 13 जुलाई को इंन्द्र देवता को खुश करने के लिए महराजगंज जिले में महिलाओं के एक समूह ने भाजपा विधायक जय मंगल कनौजिया और नगर पालिका अध्यक्ष कृष्ण गोपाल जायसवाल को कीचड़ से नहलाया था।
 
क्षेत्र में पुरानी मान्यता के तहत वर्षा के देवता इंन्द्र को प्रसन्न करने के लिए नगर के मुखिया को कीचड़ से नहलाया जाता है। इसी के तहत महराजगंज के पीपरदेउरा गांव की महिलाओं ने क्षेत्रीय विधायक और नगर पालिका अध्यक्ष को कीचड़ से स्नान कराया। जायसवाल ने बताया कि बहुत कम बारिश होने की वजह से हमारे सामने सूखे का खतरा उत्पन्न हो गया है और महिलाओं ने इन्द्रदेव को प्रसन्न करने के लिए बहुत पुरानी परंपरा को निभाया।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

शुरुआती कारोबार में रुपया हुआ 4 पैसे कमजोर, 79.96 रुपए प्रति डॉलर के भाव पर आया