क्या छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ कांग्रेस नेता सिंहदेव ने राहुल गांधी के पैर छुए.. जानिए सिंहदेव की जुबानी..

गुरुवार, 20 दिसंबर 2018 (18:18 IST)
17 दिसंबर 2018 को छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ दो कैबिनेट मंत्रियों टीएस सिंहदेव और ताम्रध्वज साहू ने भी शपथ ली। इसी शपथ ग्रहण समारोह की एक तस्वीर आजकल सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है। इस वायरल तस्वीर के जरिये दावा किया जा रहा है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता टीएस सिंहदेव राहुल गांधी के पैर छू रहे हैं। इस तस्वीर में राहुल गांधी, मनमोहन सिंह, आरपीएन सिंह और टीएस सिंहदेव दिखाई दे रहे हैं।
 
48 साल का युवा 78 साल के बुजुर्ग को आशीर्वाद देते हुए- कैप्शन के साथ एक तस्वीर को लोग सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल कर रहे हैं। भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से संबंधित पेज इस तस्वीर के जरिये कांग्रेस की संस्कृति पर सीधा निशाना साधते हुए यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता 48 साल के नौजवान राहुल गांधी का चरण स्पर्श कर रहे हैं।
 


इंडिया टुडे की फैक्ट चेक टीम ने टीएस सिंहदेव से जब इस बारे में बात की, तो उन्होंने कहा- यह शपथ ग्रहण समारोह के वेन्यू की 17 दिसंबर की तस्वीर है। जब राहुल गांधी वहां पहुंचे तब मैं भी वहां मौजूद था। लेकिन मैंने राहुल के पैर नहीं छुए, बस उनसे हाथ मिलाया था। यह तस्वीर फर्जी है। मेरी आदत है कि मैं पार्टी के सीनियर नेताओं के पैर छूकर उनका आशीर्वाद लेता हूं, चाहे वो मुझसे उम्र में छोटे हों या बड़े। उस दिन भी ऐसा ही हुआ। शपथ लेने के बाद मैंने मंच पर बैठे नेताओं के पैर छुए। मैंने राहुल गांधी के पैर छूने के लिए भी हाथ बढ़ाया, लेकिन उन्होंने मुझे ऐसा करने से रोक दिया
 
हमें इस शपथ ग्रहण समारोह का वीडियो कांग्रेस के यूट्यूब चैनल पर मिला। शपथ लेने के बाद सिंहदेव कई कांग्रेसी नेताओं के पैर छूते दिख रहे हैं। वीडियो में यूं तो साफ नहीं दिखा, लेकिन ऐसा लगता है कि सिंहदेव ने राहुल गांधी के पैर छुए।
 


हमने पड़ताल आगे बढ़ाई, तो हमें ट्विटर पर शपथ ग्रहण समारोह का एक वीडियो मिला, जिसमें यह साफ दिख रहा है कि सिंहदेव शपथ लेने के बाद राहुल के पैर छूने के लिए झुके लेकिन राहुल ने उनका हाथ पकड़कर पैर छूने से रोक लिया।
 


यह तो स्पष्ट हो गया कि मंच पर सिंहदेव ने राहुल गांधी के पैर छूने की कोशिश की, लेकिन सिंहदेव का वायरल तस्वीर के फर्जी होने का दावा उनके खुद से बयान से मेल नहीं खाया। सिंहदेव से दोबारा पूछने पर उन्होंने कहा कि वह फ्लोर पर पड़ा रूमाल उठा रहे थे, लेकिन हमें तस्वीर में कोई रूमाल नहीं दिखा।
 
आपको बता दें कि वायरल तस्वीर को राजस्थान पत्रिका के रायपुर एडिशन ने 19 दिसंबर को ‘टीएस सिंहदेव की सादगी’ कैप्शन के साथ पब्लिश किया था। पत्रिका ने तस्वीर को जूम करके दिखाया कि मनमोहन सिंह को दिए गए बुके का धागा खुलकर नीचे गिर गया था, जिसमें कोई भी फंसकर गिर सकता था। इसलिए सिंहदेव उस धागे को उठा रहे हैं।
 
जब इंडिया टुडे की फैक्ट चेक टीम ने वायरल तस्वीर में दिखाई दे रहे कांग्रेस नेता आरपीएन सिंह से भी बात की तो उन्होंने बताया कि राहुल गांधी के शपथ ग्रहण समारोह में घुसते समय टीएस सिंहदेव ने राहुल के पैर छूने की कोशिश की, लेकिन राहुल ने उन्हें पैर छूने से रोक दिया।
 
हमें वायरल तस्वीर से संबंधित दूसरी तस्वीरें या वीडियो भी नहीं मिले, जो उस घटनाक्रम को स्पष्ट कर सके। और अब पत्रिका की रिपोर्ट, टीएस सिंहदेव और आरपीएन सिंह के बयानों से भी यह साफ नहीं हो सका कि सिंहदेव इस वायरल तस्वीर में राहुल के पैर छू रहे थे या नहीं।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख हे भगवान... अब भाजपा नेता ने हनुमानजी को बताया मुसलमान...