त्रिकोणासन से कमर को बनाएं छरहरा और कब्ज को भगाएं

संस्कृत शब्द त्रि अर्थात तीन और कोण अर्थात कोने या कार्नर। इस आसन को करने से व्यक्ति की आकृति त्रिकोण या त्रिभुज समान हो जाती है इसीलिए इसे त्रिकोणासन कहते हैं।
 
 
आसन विधि- सबसे पले सावधान की मुद्रा में सीधे खड़े हो जाएं। अब एक पैर उठाकर दूसरे से डेढ़ फुट के फासले पर समानांतर ही रखें। मतलब आगे या पीछे नहीं रखना है। अब श्‍वांस भरें। फिर दोनों बाजुओं को कंधे की सीध में लाएं। अब धीरे-धीरे कमर से आगे झुके। फिर श्वास बाहर निकालें। अब दाएं हाथ से बाएं पैर को स्पर्श करें। बाईं हथेली को आकाश की ओर रखें और बाजू सीधी रखें।
 
 
इस दौरान बाईं हथेली की ओर देखें। इस अवस्था में दो या तीन सेकंड रुकने के दौरान श्वास को भी रोककर रखें। अब श्‍वास छोड़ते हुए धीरे धीरे शरीर को सीधा करें। फिर श्‍वास भरते हुए पहले वाली स्थिति में खड़े हो जाएं। इसी तरह श्‍वास निकालते हुए कमर से आगे झुके। अब बाएं हाथ से दाएं पैर को स्पर्श करें और दाईं हथेली आकाश की ओर कर दें। आकाश की ओर की गई हथेली को देखें।
 
दो या तीन सेकंड रुकने के दौरान श्वास को भी रोककर रखें। अब श्‍वास छोड़ते हुए धीरे धीरे शरीर को सीधा करें। फिर श्‍वास भरते हुए पहले वाली स्थिति में खड़े हो जाएं। यह पूरा एक चरण होगा। इसी तरह कम से कम पांच बार इस आसन का अभ्यास करें।
 
 
सावधानी- कमर दर्द की शिकायत होने पर त्रिकोणासन का अभ्यास नहीं करें।

 
आसन का लाभ- त्रिकोणासन करने से कमर लचिली बनती है। कूल्हे, कमर और पेट की चर्बी घटाती है। पैरों की मांसपेशियों में खिंचाव होने के कारण वे मजबूत बनती है। सभी अंग खुल जाते हैं और उनमें स्फूर्ति का संचार होता है। आंतों की कार्यगति बढ़ जाती है। कब्ज से छुटकारा मिलता है। छाती का विकास होता है। पाचन शक्ति बढ़ती है और भूख भी खुलकर लगती है।
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख अमावस्या का यह रहस्य आप नहीं जानते होंगे, पढ़ें रोचक जानकारी...