Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

आज से फाल्गुन मास आरंभ, 18 मार्च तक इस माह में आएंगे बड़े तीज-त्योहार

हमें फॉलो करें webdunia
गुरुवार, 17 फ़रवरी 2022 (10:50 IST)
हिन्दू पंचांग या कैलेंडर का अंतिम माह के फाल्गुन मास। यह माह माघ मास के बाद शुरु होता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार 17 फरवरी 2022 से यह महीना प्रारंभ हो चुका है जो 17 मार्च को होलिका दहन पर समाप्त होगा। इसके बाद प्रथम माह चैत्र माह लगेगा। आओ जानते हैं फागुन माह के प्रमुख व्रत और त्योहारों की लिस्ट।
 
 
1. गणेश चतुर्थी व्रत : 20 फरवरी रविवार को चतुर्थी का व्रत रखा जाएगा। इस दिन भगवान गणेशजी की पूजा होती है।
 
2. सीताष्टमी, शबरी जयंती : 24 फरवरी गुरुवार को सप्तमी के दिन श्री जानकी प्रकटोत्सव अर्थात सीताष्टमी रहेगी। इसी दिन शबरी जयंती भी है।
 
3. विजया एकादशी : 26 फरवरी शनिवार को विजया एकादशी का व्रत रखा जाएगा।
 
4. सोम प्रदोष : 28 फरवरी सोमवार को सोम प्रदोष का व्रत रखा जाएगा।
 
5. महाशिवरात्रि : 1 मार्च मंगलवार को महाशिवरात्रि का पर्व रहेगा। इस दिन शिव पार्वती पूजा होगी। इसी दिन बैद्यनाथ जयंती है और पंचक भी प्रारंभ हो जाएगा।
 
6. श्राद्ध अमावस्या : 2 मार्च बुधवार को फाल्गुन अमावस्या रहेगी। इस दिन स्नान और व्रत का महतव रहता है। इसी दिन विश्नोई मेला भी रहेगा।
 
 
7. फुलरिया दोज : 4 मार्च शुक्रवार को शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को फुलरिया दोज का व्रत रखा जाएगा जिसे फुलेरा या फुलोरिया दोज भी कहते हैं। भगवान श्रीकृष्ण और राधा को इस दिन फूलों से सजाया जाता है। फुलेरा दूज के दिन अबूझ मुहूर्त होता है।
 
8. विनायकी चतुर्थी व्रत : 6 मार्च रविवार को शुक्ल पक्ष की चतुर्थी का व्रत रखा जाएगा, जिसे विनायक चतुर्थी कहते हैं। इस दिन भगवान गणेशजी की पूजा होती है।
webdunia
Holika dahan 2022
9. होलाष्टक प्रारंभ : 10 मार्च गुरुवार को होलाष्‍टक प्रारंभ होगा और इसी दिन जैन धर्म के लोग रोहिणी व्रत रखेंगे।
 
 
10. आमलकी, रंगभरी एकादशी : 14 मार्च सोमवार को शुक्ल पक्ष की एकादशी रहेगी जिसे आमलकी और रंगभरी एकादशी के नाम से जाना जाता है। इसी दिन सूर्य कुंभ राशि से निकलकर मीन में प्रवेश करेगा जिसे सूर्य मीन संक्रांति कहते हैं। इसी दिन से खरमास समाप्त हो जाएगा।
 
11. प्रदोष व्रत, गोविंद द्वादशी : 15 मार्च शुक्ल पक्ष द्वादशी के दिन प्रदोष व्रत के साथ ही गोविंद द्वादशी रहेगी। इस व्रत को भौम प्रदोष व्रत कहते हैं क्योंकि यह मंगलवार को रखा जाएगा। कर्ज मुक्ति के लिए इसका व्रत रखना चाहिए। इसी दिन खाटूश्याम मेला लगेगा।
 
 
12. व्रत पूर्णिमा और होलिका दहन : 17 मार्च गुरुवार को चतुर्दशी के दिन होलिका दहन का पर्व मनाया जाएगा होगा और इसी दिन व्रत की पूर्णिमा का व्रत भी रखा जाएगा।
 
13. फाल्गुन पूर्णिमा होली उत्सव धुलेंडी : 18 मार्च शुक्रवार को फाल्गुन माह की पूर्णिमा रहेगी और इसी दिन होलिका उत्सव मनाया जाएगा। इस दिन से होलाष्‍टक समाप्त हो जाएगा। इसके बाद अगले दिन से चैत्र माह प्रारंभ हो जाएगा।
 
 
फाल्गुन माह में संतों की जयंती : 23 फरवरी को संत गाडगे महाराज की जयंती, 25 फरवरी को गुरु रामदास नवमी, अवतार मेहेर बाबा जन्मोत्सव, 26 फरवरी को दयानंद सरस्वती जयंती, 4 मार्च को रामकृष्ण परमहंस जयंती, 5 मार्च को पं. लेखाराम जयंती, 10 मार्च को संत दादू दयाल जयंती और 18 मार्च को चैतन्य महाप्रभु जयंती रहेगी।
 
मार्च माह के अन्य व्रत और त्योहार : इस माह में 20 मार्च रविवार को भाई दोज का पर्व मनाया जाएगा, चित्रगुप्त जी की पूजा होगी और संत तुकाराम की जयंती भी इसी दिन रहेगी। 21 मार्च को गणेश चतुर्थी अर्थात संकष्टी चतुर्थी का व्रत रहेगा। 22 मार्च को रंगपंचमी का पर्व रहेगी। 23 मार्च को एकनाथ छठ रहेगी। 24 मार्च को भानु सप्तमी रहेगी। 25 मार्च को शीतलाष्‍ट्मी यनि बसोरा का पर्व मनाया जाएगा। 28 मार्च को पापमोचनी एकादशी रहेगी। इसी दिन मां कर्मादेवी जयंती भी रहेगी। 29 मार्च को प्रदोष का व्रत रखा जाएगा। 30 मार्च को शिव चतुर्दशी रहेगी और इसी दिन माता हिंगलाज की जयंती भी रहेगी। इसी दिन वारुणी पर्व भी मनाया जाएगा। 31 मार्च को श्राद्ध अमावस्या रहेगी जिसके दूसरे दिन चैत्र माह की अमावस्या रहेगी। 2 अप्रैल को नववर्ष प्रारंभ होगा। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

21 फरवरी से महाकाल मंदिर उज्जैन में महाशिवरात्रि का महोत्सव आरंभ, शिव-पार्वती की मेहंदी-हल्दी रस्म