Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

19 फरवरी से 20 मार्च तक कुंभ राशि में अस्त रहेंगे गुरु, 6 राशियों के अच्छे दिन होंगे शुरू

हमें फॉलो करें webdunia
Jupiter sets 2022: 19 फरवरी 2022 शनिवार को कुंभ राशि में अस्त हो जाएंगे। गुरु का अस्त होना कुछ राशियों के लिए शुभ और कुछ के लिए अशुभ माना जा रहा है। हालांकि 7 ऐसी राशियां है जिनके लिए गुरु का अस्त होना शुभ है। आओ जानते हैं कि कौनसी हैं वे 6 राशियां।
 
मेष राशि (Aries): गुरु आपकी राशि के एकादश भाव में अस्त होंगे। इस दौरान शुभ परिणाम प्राप्त होंगे। आपके भाग्य में वृद्धि होगी और करियर में आपको नए अवसर प्राप्त होंगे। बेरोजगार हैं तो रोजगार मिलेगा। व्यापारी हैं तो धनलाभ होगा। रिश्तों में मधुरता आएगी।
 
मिथुन राशि (Gemini): आपकी राशि के दसवें भाव में गुरु अस्त होंगे। इस दौरान आपको भाग्य का साथ मिलेगा। घर परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। कर्ज से मुक्ति मिलने की संभावना है। आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। अविवाहित हैं तो विवाह के प्रस्ताव मिल सकते है।
 
सिंह राशि (Leo): आपकी राशि के सप्तम भाव में गुरु अस्त होंगे। इस दौरान करियर के अच्‍छे अवसार प्राप्त होंगे। नौकरीपेशा लोगों के लिए पदोन्नति और वेतन वृद्धि के योग बनेंगे। बेरोजगार हैं तो रोजगार मिलेगा। व्यापारियों की आमदानी में बढ़ोतरी होगी। दांपत्य जीवन सुखमय गुजरेगा।
 
तुला राशि (Libra): आपकी राशि के पंचम भाव में गुरु अस्त होंगे। इस दौरान आपको करियर में सफलता मिलेगी। नौकरी में सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेगा। व्यापार में मुनाफा बढ़ेगा। 
 
धनु राशि (Sagittarius): आपकी राशि के तृतीय भाव में गुरु अस्त होंगे। इस दौरान आपको भाग्य का पूरा सहयोग मिलेगा। कार्यक्षेत्र में उन्नति करेंगे और व्यापार में विस्तार होगा। करियर के लिहाज से यह अवधि आपके अनुकूल है। किसी कार्य के लिए यात्रा के योग भी बनेंगे। अलग-अलग माध्यमों से आमदनी में बढ़ोतरी होगी।
 
मीन राशि (Pisces): आपकी राशि के द्वादश भाव में गुरु अस्त होंगे। इस दौरान यदि आप नौकरीपेशा हैं तो सहकर्मी और अधिकारियों का सहयोग मिलेगा। पारिवारिक माहौल सुखद और सहयोगपूर्ण रहेगा। करियर में सफलता मिलेगी। व्यापार में मेहनत का फल मिलेगा।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

शिवाजी महाराज की सबसे ऊंची प्रतिमा कहां स्थापित हुई, जानिए विशेषताएं