Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Margi Budh : 10 मार्च से कुंभ राशि में बुध हुए मार्गी, क्या होगा 12 राशियों पर असर

webdunia
margi budh
 
वाणी के कारक बुध इस माह 10 तारीख यानि 10 मार्च 2020 को 09:16 मिनट पर कुंभ राशि में मार्गी हो गए हैं। आइए जानते हैं बुध का मार्गी होना आपके लिए कितना शुभ है और कि‍तना अशुभ... 
 
बुध के मार्गी होने पर 12 राशियों पर प्रभाव 
 
मेष राशि
बुध का कुंभ राशि में मार्गी होना मेष राशि के जातकों के लिए शुभ माना जाएगा। क्योंकि बुध मेष से ग्यारहवें भाव में मार्गी हो रहे हैं। जिसके चलते धन लाभ के साथ ही परिवार में सुख शांति आने के साथ ही कुछ मांगलिक कार्यों का भी योग बन रहा है। व्यापार व करियर तथा विदेश संबंधित कार्यों में भी तेजी आएगी। सफलता आपके परिश्रम पर निर्भर करेगा।
 
वृषभ राशि
बुध का वृष से दशम भाव में बुध का मार्गी होना जातकों के लिए करियर में अच्छी प्रगति का संकेत दे रहा है। इसके साथ ही जो जातक अपने स्वास्थ्य को लेकर चिंतित थे उन्हें भी इससे राहत मिलता दिखायी देगा। सूर्य बुध का एक साथ भाग्य स्थान में योग बनाना भाग्य को प्रबल बनाने वाला योग बना रहा है। इसका अच्छा लाभ मिलेगा।
 
मिथुन राशि
आपकी कुंडली में बुध का नौवें भाव में मार्गी होना शुभ रहने वाला है। क्योंकि बुध राशि का स्वामी होकर भाग्य स्थान में सूर्य के साथ बुधादित्य योग बना रहा है। जो मिथुन राशि के जातकों के लिए अतिशुभ फल देने वाला है।
 
कर्क राशि
बुध कर्क राशि वालों के लिए आठवें भाव में मार्गी हो रहे हैं। जो सेहत से संबंधित मामलों में अच्छा लाभ नहीं देने वाले हैं। ऐसे में आपको अपने सेहत का बखूबी ध्यान देना होगा। सूर्य के साथ बुध गोचर में एक साथ कुंभ राशि में बैठने के कारण कर्क राशि के जातकों के लिए भी करियर, संपत्ति, व धन लाभ का योग बना रहा है।
 
सिंह राशि
सिंह राशि वालों के लिए बुध का सातवें भाव में मार्गी होना व्यापार, परिवार व संबंधों के लिए शुभ रहेगा। सूर्य के साथ बुध का भाग्य स्थान में सिंह राशि में बैठना सिंह जातकों को ऊर्जावान बनाने के साथ ही इनके आत्मबल में भी वृद्धि करने का कार्य करेगा। 
 
कन्या राशि
कन्या राशि वालों के लिए बुध छठे घर में मार्गी हो रहे हैं। आपके लिए शुभ है। आपके व्यापार व विदेश संबंधी कार्यों में सफलता मिलने की संभावना अधिक दिखाई दे रही है। बुध का सूर्य के साथ गोचर करना कन्या राशि के जातकों के लिए अति शुभ फल देने वाला होगा।
 
तुला राशि
तुला राशि के जातकों के लिए बुध का मार्गी होकर पांचवें भाव में आना अच्छे परिणाम देने वाला है। जिन जातकों के विवाह में देरी हो रही है। उनके लिए इस समय कुछ मौके बन सकते हैं। साथी के साथ चल रहा विवाद समाप्त हो सकता है। विवाहित जातकों के लिए भी समय ठीक रहने वाला है। भौतिक सुख में वृद्धि होगी।
 
वृश्चिक राशि
वृश्चिक जातकों की कुंडली में बुध का मार्गी अवस्था में चौथे भाव में आना सुख में वृद्धि के साथ ही मान सम्मान दिलाने का कार्य करेगा। करियर में भी आ रही रुकावट भी दूर होंगी। बुध का गोचर में सूर्य के साथ आदित्य योग बनाना इस राशि के जातकों के लिए भी शुभ संकेत दे रहा है।
 
धनु राशि
धनु राशि के जातकों के लिए तीसरे भाव में बुध का मार्गी होना, इनके लिए परिश्रम के बाद सफलता दिलाने कार्य करेगा। सेहत में भी उतार- चढ़ाव रहने की संभावनाएं दिखाई दे रही हैं किंतु बुध सूर्य का गोचर कुंभ राशि में होने से योगकारी भी बना रहा है। जो जातकों को परेशानियों से निकलने में मदद करेगा।
 
मकर राशि
मकर राशि के जातकों के लिए बुध का दूसरे भाव में मार्गी होना इनके धन में वृद्धि होने का संकेत दे रहा है। इसके साथ ही जातकों का रूका हुआ काम भी होने की संभावना दिखाई दे रही है। फंसा हुआ धन भी मिल रहा है। इसके साथ ही पुराना कोट कचहरी संबंधी विवाद का भी हल होने का संकेत मिल रहा है।
 
कुंभ राशि
कुंभ राशि के जातकों के लिए बुध का अपने ही घर में मार्गी अवस्था में आना कुंभ राशि के जातको के लिए अतिशुभ रहने वाला है। आपके बिगड़ते काम बन सकते हैं। संपत्ति में भी वृद्धि होगी। सेहत को लेकर आपकी चिंताएं समाप्त होने की भी संभावना दिखाई दे रही है। बुध सूर्य का आपके राशि में बुधादित्य योग बनाना, आपके लिए अच्छा रहने वाला है।
 
मीन राशि
मीन राशि के जातकों के लिए बुध का गोचर धन का दुरुपयोग करवाने वाला बनता है। इसके साथ ही जातक अपने कार्यों में स्थिर नहीं रहेगा। जिसके चलते कार्य को कुशलता से करने में आपको परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। बुध-सूर्य का गोचर में योग आपके लिए शुभ परिणाम देने वाला बन जाता है। ऐसे में आपको सफलता मिल सकती है।

webdunia
mercury transit effects

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

रंगपंचमी 2020 : रंगों भरी पंचमी पर देवता भीगते हैं रंगों से, जानिए महत्व