मूलांक के अनुसार चुनें अपना रंग, किस्मत बदलती देखकर रह जाएंगे दंग

मानव जीवन में रंगों का बहुत महत्व है। हर व्यक्ति को कोई ना कोई रंग बहुत पसंद होता है और यह पसंद भी उम्र के अनुसार बदलती जाती है।  उदाहरण स्वरूप कोई व्यक्ति कम उम्र में लाल और काले रंग के वस्त्रों का ज़्यादा प्रयोग करता है, लिखता काले रंग की स्याही से है, वाहन का रंग काला है, घर के दरवाजे का रंग भी चटखदार है, कर्मस्थल के रंग भी चमकदार है और वहीं व्यक्ति कुछ वर्षों बाद हल्के रंगों का प्रयोग करते पाए जाते है।

कहीं-कहीं पर इसके विपरीत भी देखने को मिलता है, जैसे कि पहले जो व्यक्ति हल्के रंगों का प्रयोग करते थे, उन्हें बाद में चमकदार रंगों का प्रयोग करते पाया गया। यह सब ग्रहों का प्रभाव है। रंग ग्रहों का प्रतिनिधित्व करते हैं। हर ग्रह का किसी ना किसी रंग से संबंध है। हर व्यक्ति को कोई ना कोई रंग अच्छा लगता है, या बुरा लगता है। हर व्यक्ति के लिए कोई रंग अनुकूल होता है, और कोई रंग बिल्कुल भी अनुकूल नहीं होता है। रंगों के माध्यम से हम व्यक्ति के जीवन में सफलता भी ला सकते हैं, और अगर कोई परेशानी है, तो उसे भी दूर कर सकते हैं। 
 
किस रंग से हम लिखते हैं, घर में कौन सा रंग है, कंपनी की ड्रेस का रंग, कपड़ों का रंग, गाड़ी का रंग, फर्श का रंग, दीवारों का रंग, दरवाजे का रंग, कंपनी के दीवार या दरवाज़ों का रंग, आपके लॅपटॉप बेग का रंग - हर रंग कुछ कहता है, कुछ करता है। निजी समस्या, कार्यस्थल की समस्या, किसी व्यक्ति के व्यवहार की समस्या, स्वास्थ्य समस्या या अन्य समस्या - रंगों से या कलर थेरपी से समुचित उपचार किया जा सकता है।  
 
अंक शास्त्र में रंगों का बड़ा महत्व है। आज हम व्यक्ति की जन्म दिनांक से उसके मूलांक का पता लगाते हैं, और मूलांक से व्यक्ति के लिए सबसे उपयुक्त रंग के बारे में बात करते हैं।
 
मूलांक 1: 
जिस भी व्यक्ति का जन्म किसी भी महीने की 1, 10, 19 अथवा 28 तारीख को हुआ है, उनका मूलांक 1 है। 
 
1 अंक सूर्य से शासित होता है।  
 
मूलांक 1 वाले जातकों के लिए सबसे उपयुक्त रंग है पीला या सुनहरा या सफेद। 
 
मूलांक 2:
जिस भी व्यक्ति का जन्म किसी भी महीने की 2, 11, 20 अथवा 29 तारीख को हुआ है, उनका मूलांक 2 है। 
 
2 अंक चंद्रमा से शासित होता है। 
 
मूलांक 2 वाले जातकों के लिए सबसे उपयुक्त रंग है सफेद, क्रीम या सी ग्रीन। 
 
मूलांक 3:
जिस भी व्यक्ति का जन्म किसी भी महीने की 3, 12, 21 अथवा 30 तारीख को हुआ है, उनका मूलांक 3 है..
 
3 अंक गुरु से शासित होता है। 
 
मूलांक 3 वाले जातकों के लिए सबसे उपयुक्त रंग है जामुनी, नारंगी, केसरिया, लाल, पीला, सुनहरा। परंतु लाल रंग का उपयोग कम एवं सावधानी से करना चाहिए। 
 
मूलांक 4:
जिस भी व्यक्ति का जन्म किसी भी महीने की 4, 13, 22 अथवा 31 तारीख को हुआ है, उनका मूलांक 4 है। 
 
4 अंक राहु से शासित होता है। 
 
मूलांक 4 वाले जातकों के लिए सबसे उपयुक्त रंग है ग्रे एवं नीला। काले रंग का उपयोग बिल्कुल ना करें। 
 
मूलांक 5:
जिस भी व्यक्ति का जन्म किसी भी महीने की 5, 14 अथवा 23 तारीख को हुआ है, उनका मूलांक 5 है। 
 
5 अंक शासित होता है बुध से। 
 
मूलांक 5 वाले जातकों के लिए सबसे उपयुक्त रंग है सारे रंगों के हल्के शेड्स एवं सफेद रंग।  
 
मूलांक 6:
जिस भी व्यक्ति का जन्म किसी भी महीने की 6, 15 अथवा 24 तारीख को हुआ है, उनका मूलांक 6 है। 
 
6 अंक शुक्र से शासित होता है। 
 
मूलांक 6 वाले जातकों के लिए सबसे उपयुक्त रंग है नीला, नीले रंग के सारे शेड्स, सफेद। 
 
मूलांक 7:
जिस भी व्यक्ति का जन्म किसी भी महीने की 7, 16 अथवा 25 तारीख को हुआ है, उनका मूलांक 7 है। 
 
7 अंक केतु से शासित होता है। 
 
मूलांक 7 वाले जातकों के लिए सबसे उपयुक्त रंग है सी ग्रीन, सफेद एवं क्रीम। काले रंग का उपयोग बिल्कुल ना करें। काले रंग के प्रति आकर्षण बहुत रहता है, परंतु यह रंग इनके स्वास्थ्य एवं भावनाओं पर प्रतिकूल प्रभाव करता है। 
 
मूलांक 8:
जिस भी व्यक्ति का जन्म किसी भी महीने की 8, 17 अथवा 26 तारीख को हुआ है, उनका मूलांक 8 है। 
 
8 अंक शनि से शासित होता है। आम भ्रांति है शनि ग्रह का रंग काला है पर यह सही नहीं है। 
 
मूलांक 8 वाले जातकों के लिए सबसे उपयुक्त रंग है डार्क नेवी ब्लू एवं किसी भी रंग के डार्क शेड्स या सफेद। 
 
मूलांक 9:
जिस भी व्यक्ति का जन्म किसी भी महीने की 9, 18 अथवा 27 तारीख को हुआ है, उनका मूलांक 9 है। 
 
9 अंक मंगल से शासित होता है। 
 
मूलांक 9 वाले जातकों के लिए सबसे उपयुक्त रंग है लाल एवं लाल के शेड्स, पीला एवं सफेद। 
 
अगर किसी को जन्म दिवस या मूलांक नहीं पता है, ऐसे सभी लोग नीले रंग का प्रयोग कर सकते है। नीला रंग सबसे पॉज़िटिव रंग है और सभी जातक नीले रंग का प्रयोग निश्चिंतता से कर सकते हैं।
 
आम तौर पर काला रंग सबसे ज़्यादा आकर्षक माना जाता है एवं सबसे ज़्यादा प्रयोग किया जाने वाला है। बेल्ट, जूते, बेग, पैंट, चश्मा, सूट काले रंग का ही ज़्यादातर उपयोग किया जाता है, जो कि सही नहीं है। काला रंग आमतौर पर किसी भी जातक के लिए बेहतर नहीं होता है एवं सभी पर कुछ ना कुछ प्रतिकूल प्रभाव डालता है, अतः काले रंग का उपयोग ना करने की सलाह दी जाती है। काला रंग व्यक्ति के मन में चल रही मानसिक उद्विग्नता या हलचल या दबाव को प्रदर्शित करता है। काले रंग को शोक या अवसाद का प्रतीक भी माना गया है। जो व्यक्ति किसी स्थिति का सामना नहीं कर पा रहा है या विरोध करना चाह रहा है, उसे अक्सर काला रंग पसंद आता है। फिल्मी कलाकारों द्वारा काले रंगों का अधिक प्रयोग करने से युवा अक्सर काले रंग के प्रति आकर्षित होते है, जो कि सही नहीं है। 
 
लाल रंग मेडिकल, प्रेम, कामेच्छा अथवा दवाइयों के एवं भोज्य पदार्थों से संबंधित व्यवसायों में ही उपयुक्त है, पर अन्य व्यवसायों के लिए नुक़सानदायक है। निजी उपयोग हेतु लाल रंग का प्रयोग कम से कम करें एवं उचित आकलन करके करें तो बेहतर होगा। 
 
जातकों को इन रंगों का अधिकाधिक उपयोग इन्हें ना सिर्फ़ उन्नति प्रदान करता है, साथ ही निजी एवं व्यावसायिक जीवन में आने वाली कई बाधाओं से भी मुक्ति दिलाता है। इन्हें कपड़े, बेग, रुमाल, आभूषण, घड़ी, घर या व्यवसाय स्थल की दीवारें, चादर, टाइल्स इत्यादि के रंग के चुनाव में इन रंगों का अधिक प्रयोग करना चाहिए। 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख मूलांक से जानें कैसे चमकाएं अपने भाग्य के सितारे, कौन सा करियर अपनाएं