Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

30 साल बाद शनि का कुंभ राशि में महागोचर, किसे मिलेगा सबसे ज्यादा लाभ, बचाव के ये हैं उपाय

हमें फॉलो करें Solar Eclipse 2022
गुरुवार, 28 अप्रैल 2022 (15:33 IST)
Solar Eclipse 2022
Saturn in Aquarius 2022 : 30 वर्ष के बाद शनि ग्रह 29 अप्रैल 2022, शुक्रवार को कुंभ राशि में गोचर करने करने जा रहा है। इससे जहां मीन पर साढ़ेसाती (shani ki sade sati 2022) की शुरुआत होगी वहीं कर्क और वृश्चिक राशि पर शनि का ढैया (shani ki dhaiya 2022) शुरू होगा। जबकि धनु पर से साढ़ेसाती का प्रभाव खत्म होगा। वहीं मिथुन और तुला राशि पर से ढैया का प्रभाव खत्म होगा, लेकिन मकर और कुंभ पर साढ़े साती का प्रभाव जारी रहेगा। आओ जानते हैं कि 12 राशियों के ऐसे उपाय जिसके माध्यम से शनि के नकारात्मक प्रभाव से बचा जा सके।
 
किसे मिलेगा सबसे ज्यादा लाभ : मेष, वृषभ, मिथुन, तुला और धनु राशि को मिलेगा सबसे ज्यादा लाभ। 
 
शनि ग्रह के कुंभ राशि में प्रवेश, जानिए नकारात्मक प्रभाव से बचने के उपाय (Shani ka rashi parivartan 2022 Shani ke upay):
 
1. मेष राशि : नहाते वक्त पानी में कुछ काले तिल डालकर नहाएं।
 
2. वृषभ राशि : मध्यमा अंगली में लोहे का छल्ला धारण करें।
 
3. मिथुन राशि : सेहत के लिए छाया दान करें और शनिदेव के यहां सरसों तेल का दीया जलाएं।
 
4. कर्क राशि : शनिवार के दिन अंधे या गरीब लोगों को जुले-चप्पल या काले कपड़े दान में दें।
5. सिंह राशि : संध्या के समय काले कुत्ते को रोटी खिलाएं।
 
6. कन्या राशि : शनिवार की शाम को पीपल के वृक्ष के पास सरसों के तेल का दीपक जलाएं।
 
7. तुला राशि : शनिवार के दिन नीले या काले रंग के वस्त्र धारण करें।
ALSO READ: आज आसमान में दुर्लभ नजारा, 1000 साल बाद शनि, मंगल, शुक्र, बृहस्पति एक सीध में
8. वृश्चिक राशि : शनिवार को शनि मंदिर में काली वस्तुओं का दान करें।
 
9. धनु राशि : शनिवार के दिन किसी गरीब को सरसों का तेल का दान करें।
 
10. मकर राशि : मध्यमा अंगुली में शनि का कोई उपरत्न पहनें।
 
11. कुंभ राशि : शनिवार का व्रत रखकर शनि स्तोत्र का पाठ करें।
 
12. मीन राशि : शनिवार की शाम में गरीबों और मजदूरों को कपड़े दान करें।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

गुरुदेव श्रीश्री रविशंकर ने यूएन को संबोधित करते हुए कहा- सद्भाव के लिए एक साथ आएं