Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Varad Chaturthi 2022: वरद चतुर्थी आज, जानिए महत्व, पूजन विधि, मंत्र और कथा एवं आरती

हमें फॉलो करें webdunia
महत्व : पुराणों के अनुसार शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायक तथा कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी कहते हैं। श्री गणेश की कृपा जीवन के सभी असंभव कार्य भी सहज ही पूर्ण हो जाते हैं। हिन्दू धर्मग्रंथों के अनुसार पौष मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को विनायक चतुर्थी या वरद चतुर्थी (Varad Chaturthi 2022) के नाम से जाना जाता है। यह चतुर्थी आज यानी 6 जनवरी 2022, गुरुवार को मनाई जा रही है। 
 
इस दिन विधि-विधान से श्री गणेश की पूजा करने से गणेश जी प्रसन्न होते हैं। विनायक चतुर्थी के दिन श्री गणेश की पूजा मध्याह्न समय में की जाती है। इस दिन गणेश की उपासना करने से घर में सुख-समृद्धि, धन, संपन्नता एवं बुद्धि की प्राप्ति भी होती है। साथ ही श्री गणेश जी के निम्न महामंत्र का जाप करने से विशेष पुण्यफल की प्राप्ति होती है। 
 
भगवान श्री गणेश को विघ्नहर्ता कहा जाता है, विघ्नहर्ता यानी आपके सभी दु:खों को हरने वाले देवता। इसीलिए भगवान श्री गणेश को प्रसन्न करने के लिए वरद चतुर्थी व्रत किया जाता हैं। यहां जानिए महत्व, तिथि, शुभ मुहूर्त और पूजन विधि और कथा आदि के बारे में-Varad Chaturthi 
 
विनायक चतुर्थी पूजन विधि-Vinayak Chaturthi worship 
 
* चतुर्थी के दिन व्रतधारी ब्रह्म मुहूर्त में उठकर नित्य कर्म से निवृत्त होकर स्नान करें, लाल रंग के वस्त्र धारण करें। 
 
* पूजन के समय अपने-अपने सामर्थ्य के अनुसार सोने, चांदी, पीतल, तांबा, मिट्टी अथवा सोने या चांदी से निर्मित शिव-गणेश प्रतिमा स्थापित करें। 
 
* संकल्प के बाद भगवान शिव और श्री गणेश का पूजन करके आरती करें। 
 
* तत्पश्चात अबीर, गुलाल, चंदन, सिंदूर, इत्र चावल आदि चढ़ाएं। 
 
* गणेश मंत्र- 'ॐ गं गणपतयै नम:' बोलते हुए 21 दूर्वा दल चढ़ाएं। 
 
* अब बूंदी के 21 लड्डुओं और शिव जी को मालपुए का भोग लगाएं। 
 
* पूजन के समय श्री गणेश स्तोत्र, अथर्वशीर्ष, संकटनाशक गणेश स्त्रोत का पाठ करें। 
 
* ब्राह्मण को भोजन करवाकर दक्षिणा दें। अपनी शक्ति हो तो उपवास करें अथवा शाम के समय खुद भोजन ग्रहण करें। 
 
* शाम के समय गणेश चतुर्थी कथा, श्रद्धानुसार गणेश स्तुति, श्री गणेश सहस्रनामावली, गणेश शिव चालीसा, गणेश पुराण आदि का स्तवन करें। संकटनाशन गणेश स्तोत्र का पाठ करके श्री गणेश की आरती करें। 
 
वरद चतुर्थी के मंत्र- 'ॐ गणेशाय नम:' मंत्र की माला जपें। 
 
वरद चतुर्थी के शुभ मुहूर्त-Chaturthi 2022 Shubh Muhurat
 
चतुर्थी तिथि बुधवार, 05 जनवरी को दोपहर 02.34 मिनट से शुरू होकर गुरुवार, 6 जनवरी को देर रात 12.29 मिनट पर समाप्त होगी। 06 जनवरी उदयातिथि पड़ रही है अत: विनायक चतुर्थी व्रत गुरुवार को रखा जाएगा। 
 
विनायक चतुर्थी कथा- Ganesh Katha
 
कथा Vinayaki Chaturthi Katha- एक दिन भगवान भोलेनाथ स्नान करने के लिए कैलाश पर्वत से भोगवती गए। महादेव के प्रस्थान करने के बाद मां पार्वती ने स्नान प्रारंभ किया और घर में स्नान करते हुए अपने मैल से एक पुतला बनाकर और उस पुतले में जान डालकर उसको सजीव किया गया। पुतले में जान आने के बाद देवी पार्वती ने पुतले का नाम 'गणेश' ganesha रखा। पार्वतीजी ने बालक गणेश को स्नान करते जाते वक्त मुख्य द्वार पर पहरा देने के लिए कहा। 
 
माता पार्वती ने कहा कि जब तक मैं स्नान करके न आ जाऊं, किसी को भी अंदर नहीं आने देना। भोगवती में स्नान कर जब भोलेनाथ अंदर आने लगे तो बालस्वरूप गणेश ने उनको द्वार पर ही रोक दिया। भगवान शिव के लाख कोशिश के बाद भी गणेश ने उनको अंदर नहीं जाने दिया। गणेश द्वारा रोकने को उन्होंने अपना अपमान समझा और बालक गणेश का सिर धड़ से अलग कर वे घर के अंदर चले गए।
 
शिवजी जब घर के अंदर गए तो वे बहुत क्रोधित अवस्था में थे। ऐसे में देवी पार्वती ने सोचा कि भोजन में देरी की वजह से वे नाराज हैं इसलिए उन्होंने 2 थालियों में भोजन परोसकर उनसे भोजन करने का निवेदन किया। 
 
शिव ने लगाया था हाथी के बच्चे का सिर- 2 थालियां लगीं देखकर शिवजी ने उनसे पूछा कि दूसरी थाली किसके लिए है? तब पार्वतीजी ने जवाब दिया कि दूसरी थाली पुत्र गणेश के लिए है, जो द्वार पर पहरा दे रहा है। तब भगवान शिव ने देवी पार्वती से कहा कि उसका सिर मैंने क्रोधित होने की वजह से धड़ से अलग कर दिया है।
 
इतना सुनकर पार्वतीजी दु:खी हो गईं और विलाप करने लगीं। उन्होंने भोलेनाथ से पुत्र गणेश का सिर जोड़कर जीवित करने का आग्रह किया। तब महादेव ने एक हाथी के बच्चे का सिर धड़ से काटकर गणेश के धड़ से जोड़ दिया। अपने पुत्र को फिर से जीवित पाकर माता पार्वती अत्यंत प्रसन्न हुईं। 

Aarti आरती- शेंदुर लाल चढ़ायो
 
शेंदुर लाल चढ़ायो अच्छा गजमुखको।
दोंदिल लाल बिराजे सुत गौरिहरको।
 
हाथ लिए गुडलद्दु सांई सुरवरको।
महिमा कहे न जाय लागत हूं पादको ॥1॥
 
जय जय श्री गणराज विद्या सुखदाता।
धन्य तुम्हारा दर्शन मेरा मन रमता ॥धृ॥
 
अष्टौ सिद्धि दासी संकटको बैरि।
विघ्नविनाशन मंगल मूरत अधिकारी।
 
कोटीसूरजप्रकाश ऐबी छबि तेरी।
गंडस्थलमदमस्तक झूले शशिबिहारि ॥2॥
 
जय जय श्री गणराज विद्या सुखदाता।
धन्य तुम्हारा दर्शन मेरा मन रमता ॥
 
भावभगत से कोई शरणागत आवे।
संतत संपत सबही भरपूर पावे।
 
ऐसे तुम महाराज मोको अति भावे।
गोसावीनंदन निशिदिन गुन गावे ॥3॥
 
जय जय श्री गणराज विद्या सुखदाता।
धन्य तुम्हारा दर्शन मेरा मन रमता ॥ 
 
webdunia
 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Lal Kitab Rashifal 2022 : वृषभ राशि के लिए वर्ष 2022 कैसा रहेगा, जानिए 10 खास बातें