10 name of shani : शनि के 10 नाम देते हैं हर कष्ट से मुक्ति

शनि की प्रतिकूलता, साढ़ेसाती और ढैया से सभी भलीभांति परिचित है। शनि का जिक्र होते ही व्यक्ति के मन में भय व शंका का भाव आता है। जबकि सच यह है कि शनि ग्रह थोड़ी-सी स्तुति से तुरंत प्रसन्न हो जाते हैं। 
 
शनि देव की संतुष्टि के लिए महर्षि पिप्लाद ने उनके इन 10 नामों की रचना की है। इन नामों का उच्चारण प्रतिदिन प्रातःकाल स्नान करके करने से शनि की प्रतिकूलता, उनकी साढ़ेसाती, उनकी ढैया में किसी प्रकार का कष्ट नहीं होकर उनकी कृपा होती है। 
 
शनि के दस नाम
 
नमस्ते कोण संस्थाय पिंगलाय नमोऽस्तुते। 
नमस्ते बभ्रुरुपाय कृष्णाय नमोऽस्तुते॥ 
 
नमस्ते रौद्रदेहाय नमस्ते चांतकायच। 
नमस्ते यमसंज्ञाय नमस्ते सौरये विभो॥ 
 
नमस्ते मंदसंज्ञाय शनैश्चर नमोऽस्तुते। 
प्रसादं कुरू देवेश दीनस्य प्रणतस्य च॥
 
अत: हर मनुष्य को शनि के इन नामों का प्रतिदिन स्मरण अवश्य करना चाहिए।

ALSO READ: शनिवार को हनुमानजी ऐसे होंगे प्रसन्न, पढ़ें 9 खास बातें

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख छठ महोत्सव 2019 : पूजा की सावधानियां और शुभ समय भी जान लें अगर कर रहे हैं व्रत