Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

अयोध्या भूमि पूजन, श्रीराम मंदिर की नींव में क्या-क्या स्थापित करेंगे नरेन्द्र मोदी...

webdunia
webdunia

संदीप श्रीवास्तव

सोमवार, 3 अगस्त 2020 (16:24 IST)
अयोध्या। रामनगरी अयोध्या (Ayodhya) पूरी सजधज के साथ तैयार है। श्रीराम के भव्य मंदिर के निर्माण की शुरुआत की घड़ी जैसे-जैसे करीब आ रही है देशवासियों की जिज्ञासाएं भी बढ़ती जा रही हैं। भूमि पूजन के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) कुछ खास वस्तुएं मंदिर की नींव में रखेंगे। 
 
जानकारी के अनुसार भूमि पूजन के समय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी मंदिर की नींव में सोने के शेषनाग, सोने के वास्तुदेवता, चांदी के कच्छप, चांदी के 5 बेलपत्र, पंचरत्न, सवा पाव चंदन आदि सामग्रिया रखेंगे। इन सभी वस्तुओं को काशी से अयोध्या लाकर श्रीराम मंदिर की नींव में पीएम मोदी के द्वारा स्थापित कराया जायगा। 
 
काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के ज्योतिष विभाग के प्रमुख प्रो. विनय कुमार पांडेय ने वेबदुनिया से बातचीत में बताया कि हमारी वैदिक सनातन परंपरा में किसी भी भवन व देवालय का भूमि पूजन और शिला पूजन का बहुत बड़ा महत्व है। क्योंकि भूमि पूजन में जो शिला स्थापित की जाती है, वह भवन व देवालय का आधार होती है।
 

उन्होंने बताया कि इसी क्रम में हम लोग शिला पूजन के क्रम में शेष नाग व कच्छप का पूजन करते हैं और नींव में स्थापित करते हैं। क्योंकि हमारी ऐसी पौराणिक मान्यता है कि पृथ्वी शेषनाग के फन पर स्थित है और शेषनाग कच्छप पर स्थित हैं। अर्थात कच्छप शेषनाग का आधार बने हुए हैं और शेषनाग पृथ्वी का आधार। 
 
पांडे ने बताया कि इसी संकल्पना के साथ भवन या देवालय के भार वहन के लिए हम लोग प्रतीक रूप में शेषनाग और कच्छप की आकृति बनाकर पूजन व प्रतिष्ठापूर्वक पंच शिलाओं के साथ नींव में स्थापित करते हैं, जिससे भवन या देवालय लंबे समय तक सुरक्षित और मजबूत रहे। इसी क्रम में अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर का शिलान्यास होने जा रहा हैं।
 
शिलान्यास मौके पर सर्प व कच्छप का भी पूजन करके नींव में स्थापित किया जाएगा, जिससे कि आध्यात्मिक शक्ति सम्पन्न एक सुदृढ़ भव्य देवालय का निर्माण हो सके और समग्र विश्व प्रेरणा व आध्यात्मिक ऊर्जा प्राप्त कर सके। साथ ही पूरे विश्व में सुख, शांति व समृद्धि की स्थापना भी हो। 
उल्लेखनीय है कि पीएम नरेंद्र मोदी 5 अगस्त को मंदिर का भूमिपूजन और शिलान्यास करेंगे। खास बात यह है कि अयोध्या में भगवान राम के इस भव्य और दिव्य मंदिर का सबसे करीबी रिश्ता राम के अराध्य शिव से बनता दिख रहा है। शिव नगरी काशी के सांसद नरेंद्र मोदी मंदिर का भूमि पूजन करेंगे।
 
काशी से आएगी भूमि पूजन की सामग्री : भूमि पूजन कराने के लिए तीन आचार्य काशी से आ रहे हैं और अब भूमि पूजन में नींव के अंदर विराजित होने के लिए वाराणसी से ही सोने के शेषनाग, चांदी के कच्छप, चांदी के पांच बेलपत्र, सोने के वास्तु देवता, सवा पाव चंदन और पंचरत्न जाएंगे। सभी बनकर तैयार हो गए हैं और काशी विद्वत परिषद के महामंत्री और बनारस हिंदू विश्वविदयालय के धर्म विज्ञान संकाय के प्रोफेसर डॉ. रामनारायण द्विवेदी के पास पहुंच गए हैं। 
 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

क्वारंटाइन सेंटर से शिवराज का वीडियो, घरों में दीपमालाएं जला भगवान राम की पूजा व सुंदरकांड का पाठ करें