राहुल गांधी के 'रहस्यमय तीसरे हाथ' का सच

गुरुवार, 11 अप्रैल 2019 (10:34 IST)
- फ़ैक्ट चेक टीम 
 
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की एक बुजुर्ग महिला से गले मिलने की फ़ोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो गई है। इस वायरल तस्वीर पर लोग सवाल पूछ रहे हैं कि तस्वीर में तीसरा 'रहस्यमय हाथ' किसका है।
 
 
भारतीय जनता पार्टी की दिल्ली इकाई के प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने ट्वीट किया, "ये तीसरा हाथ किसका है? मैंने आपसे कल ही एक अच्छी पीआर एजेंसी के साथ करार करने के लिए कहा था।"
 
वायरल हो रही इस तस्वीर का इस्तेमाल दरअसल कांग्रेस पार्टी की न्यूनतम आय गारंटी योजना (NYAY) के प्रचार विज्ञापन में किया गया है।
 
एबीपी न्यूज़ के पत्रकार विकास भदौरिया ने भी ट्वीट किया, "क्या आप पहली तस्वीर में राहुल गांधी के तीन हाथों को खोज सकते हैं। अगर नहीं तो कृपया दूसरी तस्वीर देखें। यह तीसरा हाथ किसका है?"
 
 
भारतीय जनता पार्टी की सीनियर नेता और केंद्र सरकार में मंत्री स्मृति ईरानी ने इसका जवाब दिया कि कांग्रेस का ये 'छल-कपट वाला हाथ' पार्टी की भ्रष्ट मानसिकता को दिखाता है।
 

Snapshots from Rahul Gandhi's visit to flood affected areas of Tamil Nadu & Puducherry, yesterday (2/4) pic.twitter.com/kA4Qq320D9

— Congress (@INCIndia) December 9, 2015
फ़ोटो की सच्चाई
रिवर्स इमेज सर्च से पता चलता है कि ये तस्वीर साल 2015 की है। कांग्रेस ने दिसंबर 2015 में अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर राहुल गांधी के तमिलनाडु और पुदुचेरी के बाढ़ प्रभावित इलाक़ों के दौरे के बाद कई तस्वीरें जारी की थीं।
 
 
कांग्रेस पार्टी के ट्वीट में शामिल ओरिजनल फ़ोटो को देखकर पता चलता है कि यह फ़ोटो एक बड़ी तस्वीर का हिस्सा है। इस तस्वीर में कई अन्य लोगों को पीछे देखा जा सकता है।
 
विज्ञापन में इस्तेमाल के लिए तस्वीर में दिख रहे अन्य लोगों को और पृष्ठभूमि को धुंधला कर दिया गया था। लेकिन न्याय योजना के विज्ञापन के लिए इस तस्वीर को प्रकाशित करने से पहले इसे अच्छे ढंग से एडिट नहीं किया गया।
 
 
इस तस्वीर का इस्तेमाल कांग्रेस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर गरीबी उन्मूलन योजना के प्रचार के लिए भी किया गया है।
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

अगला लेख क्या यह भारत का पहला "व्हाट्सएप चुनाव" है?