Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

एग्रीकल्चर से जुड़े क्षेत्रों में बनाएं शानदार करियर

हमें फॉलो करें Agriculture
शुक्रवार, 3 जून 2022 (18:59 IST)
- संदीप भट्ट
भारत दुनिया के सबसे बड़े कृषि आधारित समाज वाले देशों में शामिल है। यहां की अधिकतम आबादी प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से खेती पर निर्भर करती है। साल 2020-2021 में देश का कृषि निर्यात लगभग 50.21 अरब डालर तक पहुंच गया है।

देश में खेती के तौर तरीकों में आये बदलावों का नतीजा है कि कृषि व्यापार खूब फल फूल रहा है। यही कारण है कि आज हमारे यहां खेती से जुड़े आर्गेनिक खेती, फार्म मैनेजमेंट, फूड प्रोसेसिंग, एग्रीकल्चरल सप्लाई चेन मैनेजमेंट, एग्रीकल्चर सेल्स एंड मार्केटिंग, बायोफर्टिलाइजर्स डेवलपमेंट, बायोइंजीनियरिंग जैसे कई नए क्षेत्र उभरे हैं जिनमें शानदार करियर आप्शंस मौजूद हैं।

आज हमारा कृषि क्षेत्र फास्ट ग्रोइंग सेक्टर बन चुका है। तो अगर आप खेती में करियर या रोजगार तलाशना और तराशना चाहते हैं तो जानते हैं कि किस तरह शुरूआत करें-

एग्रीकल्चर सेक्टर में करियर के लिए सबसे अच्छा है कि आप दसवीं और बारहवीं में एक सब्जेक्ट बतौर कृषि विज्ञान को पढ़ें। एक विषय के बतौर अगर आप एग्रीकल्चर पढ़ते हैं तो इसके कोर सेक्टर याने प्रोडक्शन और डेवलपमेंट में काम करने के अवसर मिलते हैं। हालांकि लाइफ साइंसेस खासकर वनस्पति विज्ञान, जूलाजी, बायोटेक्नालोजी, हार्टिकल्चर, सॉइल कंजर्वेशन; मृदा संरक्षण (साइल कंजर्वेशन) या इससे मिलते जुलते विषयों को पढ़ते हैं तो भी आप कोर एग्रीकल्चर सेक्टर में काम कर सकते हैं। चूंकि ये सारे ही सब्जेक्ट्स कहीं न कहीं कृषि से संबंधित हैं इसलिए इन क्षेत्रों के रिसर्च करने वालों की भी एग्रीकल्चर सेक्टर में खासी मांग रहती है। लेकिन अगर आप इन तमाम सब्जेक्ट्स के स्टूडेंट नहीं हैं और फिर भी आप एग्रीकल्चर या इससे संबंधित सेक्टर्स में काम करना चाहते हैं तो भी आपके लिए अच्छे अवसर मौजूद हैं।

आजकल एग्रीकल्चर फील्ड की किसी बड़ी फर्म में काम करने के लिए विविध कौशल वाले मैनपावर की आवश्यकता होती है। यहां सोइल टेक्नालाजी से प्लांट पैथोलाजिस्ट, जेनेटिक इंजीनियरिंग, बायोटैक्नालाजी, फार्म एंड प्रोडक्शन मैनेजमेंट, सप्लाइ चेन मैनेजमेंट, रिटेल एंड कस्टमर रिलेशंस, वेयरहाउसिंग, प्रोसेसिंग आदि सब्जेक्ट्स के स्किल्ड और सेमी-स्किल्ड लोगों की जरूरत होती है।

दरअसल एग्रीकल्चर अपने आप में बहुत से सब्जेक्ट्स का काम्प्लेक्स एरिया है। इससे कई विषय सीधे जुड़े हुए हैं तो कुछ विषय अप्रत्यक्ष तौर पर भी इससे जुड़े हुए होते हैं। इस तरह बहुत से आयामों वाले एग्रीकल्चर सेक्टर में नान अलग अलग विषयों के नान- एग्रीकल्चर बैकग्राउंड वाले प्रोफेशनल्स की भी बहुत डिमांड रहती है।

आजकल बहुत संगठित तौर पर भी एग्रीकल्चर में काम हो रहा है। बड़ी-बड़ी कंपनियां कृषि व्यापार में उतर चुकी हैं। पिछले कुछ सालों में गोदरेज, कोरोमंडल, यूपीएल लिमिटेड से लेकर जे के आदि दिग्गज कंपनियों ने एग्रीकल्चर सेक्टर में दिल्चस्पी दिखाई है। फर्टिलाइजर, पेस्टिसाइड और बायोफर्टिलाइजर में तो देश की तमाम बड़ी कंपनियां पहले से ही मौजूद हैं। इस तरह एग्रीकल्चर स्टडीज के स्टूडेंट्स के लिए करियर के लिहाज से इन टॉप कंपनियों में ढेरों ऑप्शंस मौजूद हैं। आज की नई पीढ़ी खासकर यंगस्टर्स एग्रीकल्चर स्टडीज के जरिये विदेशों में भी अच्छी सैलरी पा रहे हैं। एग्रीकल्चर साइंस में बहुत से नए प्रयोग कर खेती को उन्नत और फायदेमंद बनाने वाले रिसर्च प्रोफेशनल्स की डिमांड भी बीते सालों में बहुत बढ़ गई है। इसलिए एग्रीकल्चर रिसर्च भी एक बहुत अच्छा करियर फील्ड है।

एग्री सेक्टर के टॉप फीचर्स
*एग्रीकल्चर एक बेसिक सेक्टर है यह एक एवरग्रीन फील्ड है।
*यह एक अकेला सेक्टर है जिसमें हमेशा डिमांड बढ़ती रहेगी।
*एग्रीकल्चर में कोर सेक्टर के साथ अन्य संबंधित क्षेत्रों में भी भरपूर ऑप्शंस मौजूद।
*इनोवेटिव आइडियाज वाले मैनपावर की खास जरूरत।
*एग्रीकल्चर एक बहुत पोटेंशियल वाला फील्ड है।
*मौजूदा दौर में सस्टेनेबल टेक्नालाजी और जैविक पद्धति के साथ खेती बहुत लाभकारी हो सकती है।
एग्रीकल्चर को एक मेन सब्जेक्ट बतौर नहीं पढने वाले लोग भी देश विदेश में इस क्षेत्र में अच्छा करियर बना सकते हैं। मौजूदा वक्त में दुनिया भर में जैसे जैसे किसान नई टेक्नोलॉजी अपना रहे हैं, वैसे वैसे एग्रीकल्चर से जुड़े हुए सब्जेक्ट्स में भी अच्छे कॅरियर ऑप्शंस खुल रहे हैं।

आज खाद्यान्न, फल-फूल और सब्जियों की मांग बढ़ने और निर्यात के कारण खेती में नान-एग्रीकल्चर बैकग्राउंड वाले अलग-अलग प्रोफेशनल्स के लिए भी अच्छे कॅरियर के कई विकल्प खुल रहे हैं। मसलन नेशलन और इंटरनेशनल मार्केट्स के जानकार लोगों के लिए एग्रीबिजनेस में बहुत ही जबरदस्त अवसर हैं। इसी तरह रिटेल और सप्लाई मैनेजमैंट के सब्जेक्ट्स के स्टूडेंट्स भी एग्रीकल्चर में बहुत सी नौकरियां खोज सकते हैं। फार्म और ईस्टेट मैनेजमेंट वाले लोगों की भी एग्रीकल्चर कंपनियों में जरूरत होती है। फार्म मैनेजर, खेती की जमीन उसके सिंचाई आदि संसाधनों के मैनेजमेंट से जुड़े हुए होते हैं। फार्म मैनेजर्स इस बात को भी देखते हैं कि एग्रीकल्चर प्रोडक्शन में इनकी भूमिका बहुत अहम है। उपलब्ध भूमि का उच्च कृषि उत्पादन के लिए कैसे बेहतर इस्तेमाल किया जा सकता है।

फूड प्रोसेसिंग एग्रीकल्चर से ही जुड़ा हुआ ऐसा सब्जेक्ट है जिसके एक्सपर्टस की बहुत मांग है। देश के भीतर भी प्रोसेस्ड फूड का बहुत बड़ा बाजार है। इसके अलावा विदेशी बाजारों में भी खासे अवसर मौजूद हैं। फल और सब्जियों की प्रोसेसिंग कर उन्हें अच्छी पैकेजिंग के साथ एक बहुत बड़े मार्केट में पहुंचाने से बहुत लाभ कमाया जा सकता है। अभी भी हमारे देश में इस सेक्टर के प्रोफेशनल्स की बहुत डिमांड हैं। वेयरहाउसिंग और स्टॅाक मैनेजमैंट क्षेत्रों के लोग कृषि उत्पादों के भंडारण में सहायक होते हैं।

किसी खास मौसम में उत्पादन अधिक होने पर फल, सब्जियां और फसलों को सुरक्षित वेयरहाउसेस में रखा जाता है। इन वेयरहाउसेज के मैनेजर्स इस बात को सुनिश्चित करते हैं कि किसी विशेष एग्रि प्रोडक्ट को किस तरह लंबी समयावधि के लिए सुरक्षित वेयरहाउस में रखा जा सकता है। इसीतरह जेनेटिक्स, बायोटेक्नालाजी, प्लांट पैथालाजी जैसे एक्सर्पट्स भी एग्रीकल्चर सेक्टर में बहुत अच्छा करियर बना सकते हैं। फसलों की प्रजातियों में आवश्यक बदलाव उन पर रिसर्च आदि कर उन्हें बदलती वातावरणीय परिस्थितियों के अनुकूल बनाना, उनके रोगों का पता लगाकर उनके लिए उचित उपाय खोजने आदि का काम जैनेटिक्स और पैथोलाजिस्ट का ही होता है। इस तरह के प्रोफेशनल्स की डिमांड भी एग्रीकल्चर में बहुत होती है। एग्रीकल्चर सब्जेक्ट में देश-दुनिया के कालेज और यूनिवर्सिटीज के साथ ही बहुत से संस्थानो में अलग-अलग स्तर के कोर्सेज चलाए जा रहे हैं। इनमें प्रवेश के लिए योग्यताएं भी अलग-अलग होती हैं।

शीर्ष एग्रीकल्चर कार्सेस
*बीएससी एग्रिकल्चर
*बीएससी लाईफसाइंसेज
*एग्रीबिजनेस मैनेजमेंट में डिग्री/डिप्लोमा
*बीबीए/एमबीए मार्केटिंग
*बैचलर/मास्टर इन फार्म मैनेजमेंट
*एग्रीकल्चर इंजीनियरिंग में डिग्री/डिप्लोमा
*बीएससी/एमएससी इन हार्टिकल्चर
*सर्टिफिकेट कोर्स इन एग्रिकल्चर सप्लाई चेन एंड रिटेल मैनेजमेंट
*एग्रीकल्चर इंश्योरेंस, रिस्क मैनेजमेंट में डिग्री या डिप्लोमा

किसी भी सेक्टर में काम करने के लिए अगर उससे जुड़े कुछ बेसिक कोर्स कर लिए जाएं तो बहुत अच्छा रहता है। अगर एग्रिकल्चर से जुड़ा कोई कोर्स करने के बाद आप इस फील्ड की किसी कंपनी में नौकरी खोजते हैं तो 4-5 लाख रूपये सालाना का पैकेज मिल सकता है। हालांकि किसी शीर्ष इंस्टिट्यूट से पढ़ने के बाद यह पैकेज 10-12 लाख सालाना तक हो सकता है। इसके अलावा सभी बड़े सरकारी क्षेत्र के बैंक और बीमा कंपनियों में भी एग्रीकल्चर क्रेडिट मैनेजर्स की भर्तियां होती हैं। इसके अलावा नाबार्ड आदि बड़े संस्थाओं में भी इस सेक्टर के एक्सपर्टस की भर्तियां होती हैं। तमाम रिसर्च इंस्टिट्यूट्स में भी एग्रीकल्चर के रिसर्चस की आवश्यकता होती है।

भारत जैसे कृषि प्रधान देश में केंद्रीय स्तर पर कृषि मंत्रालय, रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय, राज्यों के कृषि मंत्रालयों आदि के विविध विभागों में कृषि अधिकारियों, विस्तार अधिकारियों तथा वैज्ञानिकों और सलाहकारों की भर्तियां भी समय-समय पर होती हैं। इस तरह अगर आप एग्रीकल्चर के विषयों की पढ़ाई करते हैं तो इसके बाद आपको सरकारी एजेंसियों के साथ ही कई देशी-विदेशी प्रतिष्ठित गैर-सरकारी संगठनों के साथ मिलकर देश के आधारभूत क्षेत्र खेती में बेहतर काम करने के शानदार अवसर भी मिलते हैं। इस तरह एग्रीकल्चर की औपचारिक शिक्षा के बाद करियर के शानदार आप्शंस खुलते हैं।

एग्रीकल्चर एक ऐसा फील्ड है कि अगर आपने इससे संबंधित कोई कोर्स नहीं भी किया है, लेकिन आपका इस तरफ रूझान है तो आप इसमें बेहतरीन काम कर सकते हैं। इन दिनों अक्सर खबरें आती हैं कि लाखों के सैलरी पैकेज छोडकर भी नौजवान  खेती का रूख कर रहे हैं। कोई अपने घरों में ही मशरूम बिजनेस शुरू कर रहा है तो कोई हाइड्रोपोनिक्स या पालिहाउस जैसी एडवांस तकनीकों से एग्रीकल्चर से जुड़ रहे हैं और नौकरी के बजाय खुद का काम कर रहे हैं। ये लोग ऐसे लोग हैं जो एग्रीकल्चर बैकग्राउंड के नहीं हैं, दरअसल लोग इन दिनों स्वयं का काम करना ज्यादा पसंद करते हैं। हमारे आस-पास ही बहुत से लोग एग्रीकल्चर में बहुत अच्छा कर रहे होते हैं। हमारे युवा साथी जो एग्रीकल्चर में हाथ आजमाना चाहते हैं या जिनको खेती पसंद है वे ऐसे लोगों से भी सीख सकते हैं जो बिना किसी डिग्री के ही खेती में बेमिसाल काम कर रहे हैं। ऐसे कई लोग हैं जो खेती के क्षेत्र में शौकिया आते हैं लेकिन बहुत अच्छा काम करते हैं।

अपनी इनोवेटिव अप्रोच के साथ ऐसे लोग एग्रीकल्चर सेक्टर में बहुत अच्छा परफार्म करते हैं। बहुत थोड़े से इन्वेस्टमैंट के साथ वे खेती को हाईप्रोफिट वाला बिजनेस बना लेते हैं। हाल ही में एक खबर आई कि एक नौजवान ने एमएनसी की लाखों की पैकेज वाली नौकरी छोड़कर वर्मिकम्पोस्ट का काम शुरू किया और बहुत थोड़े वक्त में ही आज उनका टर्नओवर करोड़ों का बिजनेस बन चुका है। ऐसे बहुत से उदाहरण आए दिन मीडिया की खबरों में आते रहते हैं।

...तो कतई जरूरी नहीं है कि एग्रीकल्चर सेक्टर में कुछ अच्छा काम करने के लिए आपको इसकी पढ़ाई करने की आवश्यकता है। हां इसके कोर सेक्टर्स में पढ़ाई काम आ सकती है लेकिन एग्रीकल्चर इतने सारे आप्शंस वाला क्षेत्र है कि इसमें हर फील्ड का व्यक्ति बहुत अच्छा करियर बना सकता है। तो अगर खेती में आपकी रूचि है, आप इस सेक्टर में कुछ इनोवेटिव काम करना चाहते हैं, अगर आप एग्रीकल्चर में ब्राइट करियर बनाना चाहते हैं तो एग्रीकल्चर आपके लिए बहुत ही शानदार फील्ड है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

राज्यसभा के लिए मध्यप्रदेश से तीनों प्रत्याशी निर्विरोध निर्वाचित, 2 पर BJP और 1 पर CONG की जीत