Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

भाजपा की जन विश्वास यात्रा, जगह-जगह स्वागत, ओमिक्रॉन के खतरे से लापरवाह होकर निकाली यात्रा

हमें फॉलो करें webdunia

हिमा अग्रवाल

शनिवार, 25 दिसंबर 2021 (12:38 IST)
भारतीय जनता पार्टी चुनावी रण संग्राम के लिए पूरी तरह तैयार हो गई है। वेस्ट यूपी के जिले-जिले में भाजपा कार्यकर्ताओं में जोश भरने और लोगों में विश्वास जगाने की लिए जन विश्वास यात्रा निकाल रही है। मेरठ की सभी विधानसभाओं से ये जन विश्वास यात्रा गाजियाबाद पहुंच गई है। 
 
मेरठ में जहां से यह यात्रा गुजरी, उस विधानसभा के विधायक, भावी प्रत्याशी और कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत करते हुए शक्ति प्रदर्शन किया।
 
इस यात्रा के माध्यम से भारतीय जनता पार्टी ने अपने कार्यकर्ताओं को संदेश देने की कोशिश की है कि वे विधानसभा 2022 चुनावी समर में दिलोजान से जुट जाएं, क्योंकि भाजपा एक बार फिर से यूपी में आ रही है। 
 
webdunia
मेरठ की सिवालखास विधानसभा क्षेत्र में भाजपा के क्षेत्रीय अध्यक्ष मोहित बेनीवाल और केंद्रीय पशुपालन एवं मत्स्य राज्यमंत्री संजीव बालियान ने कहाकि उत्तरप्रदेश में एक बार फिर से भाजपा की सरकार बनेगी इसलिए भाजपा लाओ, अपराध पर लगाम लगाओ।
 
मेरठ शहर क्षेत्र में श्रम कल्याण राज्यमंत्री सुनील भराला और पूर्व विधायक अमित अग्रवाल के नेतृत्व में जगह-जगह जनविश्वास यात्रा का भव्य स्वागत किया गया। फिलहाल यह यात्रा मेरठ से मोदीनगर यानी गाजियाबाद जिले में प्रवेश पहुंच चुकी है। यात्रा का नेतृत्व बागपत जिले के सांसद सत्यपाल सिंह, अलीगढ़ के सांसद सतीश गौतम कर रहे हैं।
 
इस जनविश्वास यात्रा के लिए सड़कों पर भाजपा कार्यकर्ता एकत्रित हैं और अपने-अपने ढंग से स्वागत कर रहे हैं। 
भले ही कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन तेजी से पैर पसार रहा है, उच्चतम न्यायालय ने भी ओमिक्रॉन के खतरे को देखते हुए चुनाव आगे बढ़ाने की सलाह दी है। ऐसे में सड़कों के ऊपर सत्तारूढ़ पार्टी का भीड़भाड़ में जन विश्वास यात्रा को निकालना खतरे की घंटी को निमत्रंण दे रहा है।
 
हालांकि यूपी में आज शनिवार से से रात 11 से सुबह 5 बजे तक नाइट कर्फ्यू लगा दिया गया है, लेकिन 24 दिसंबर की देर रात्रि तक लोगों की भीड़ सड़कों पर होना, बिना मास्क के होना ये बताने के लिए काफी है कि ओमिक्रॉन को लेकर कितने सतर्क है राजनीतिक दल और उनके नेता?

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

करीना और सैफ के बेटे का नाम पूछा प्रश्नपत्र में, स्कूल को नोटिस