CoronaVirus effect : भारत में 70 प्रतिशत घटी सोने की मांग, भाव आसमान पर

गुरुवार, 30 जुलाई 2020 (15:09 IST)
मुंबई। भारत में अप्रैल-जून की तिमाही में सोने की मांग 70 प्रतिशत घटकर 63.7 टन रह गई। विश्व स्वर्ण परिषद (डब्ल्यूजीसी) की रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि कोविड-19 की वजह से देश में लागू लॉकडाउन के चलते सोने की मांग में गिरावट आई है। इससे पिछले साल यानी 2019 की दूसरी तिमाही में भारत में सोने की मांग 213.2 टन रही थी।

डब्ल्यूजीसी की दूसरी तिमाही में सोने की मांग के रुख पर रिपोर्ट में कहा गया है कि मूल्य के हिसाब से दूसरी तिमाही में भारत में सोने की मांग 57 प्रतिशत घटकर 26,600 करोड़ रुपए रह गई, जो इससे पिछले साल की समान तिमाही में 62,420 करोड़ रुपए थी।

दूसरी तिमाही में आभूषणों की मांग 74 प्रतिशत घटकर 168.6 टन से 44 टन पर आ गई। मूल्य के हिसाब से आभूषणों की मांग 63 प्रतिशत घटकर 18,350 करोड़ रुपए रह गई, जो 2019 की समान अवधि में 49,380 करोड़ रुपए थी।

इसी तरह निवेश के लिए सोने की मांग 56 प्रतिशत घटकर 19.8 टन रह गई, जो एक साल पहले समान अवधि में 44.5 टन थी। मूल्य के हिसाब से सोने की निवेश मांग 37 प्रतिशत घटकर 8,250 करोड़ रुपए रह गई, जो इससे पिछले साल की समान तिमाही में 13,040 करोड़ रुपए थी।

इस अवधि में देश में सोने की रीसाइक्लिंग (पुन:चक्रीकरण) भी 64 प्रतिशत घटकर 13.8 टन रह गई, जो एक साल पहले समान अवधि में 37.9 टन थी। इसी तरह दूसरी तिमाही में देश में सोने का आयात 95 प्रतिशत की भारी गिरावट के साथ 11.6 टन रह गया, जो 2019 की समान अवधि में 247.4 टन रहा था।

डब्ल्यूजीसी के प्रबंध निदेशक, भारत सोमसुंदरम पीआर ने कहा, दूसरी तिमाही में जहां सोने के दाम ऊंचाई पर थे, वहीं इस दौरान देश में महामारी की वजह से लॉकडाउन भी था। इन कारणों से देश में सोने की मांग 70 प्रतिशत घटकर 63.7 टन रह गई।
उन्होंने कहा कि कुल मिलाकर पहली छमाही में देश में सोने की मांग 56 प्रतिशत घटकर 165.6 टन रही है। यह वैश्विक रुख के अनुरूप है। हालांकि इस दौरान गोल्ड ईटीएफ की खरीदारी में मामूली इजाफा हुआ।(भाषा)

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख विकास दुबे के करीबी सहयोगी गोपाल सैनी ने किया अदालत में आत्मसमर्पण