Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

अमेरिका में बढ़ा कोरोना का कहर, प्रतिदिन आ रहे 150000 से ज्‍यादा नए मामले

webdunia
शुक्रवार, 10 सितम्बर 2021 (00:53 IST)
वॉशिंगटन। कोरोनावायरस (Coronavirus) कोविड-19 से निजात मिलने की उम्मीद के बीच अमेरिका में फिर से संक्रमण के मामले बढ़ने लगे हैं। अमेरिका में अब प्रतिदिन औसतन 1,50,000 से अधिक नए मामले आ रहे हैं, जो जनवरी के बाद कभी भी इतने मामले नहीं आए थे। प्रतिदिन करीब 1500 मृत्यु हो रही है।

वायरस के डेल्टा स्वरूप से संक्रमित मरीजों से अस्पताल भर रहे हैं, बड़ी संख्या में बच्चे बीमार पड़ रहे हैं और कुछ जगहों पर कोरोना वायरस से काफी मौतें हो रही हैं। कहीं कहीं महामारी के बाद सबसे अधिक मौत हो रही हैं।

स्कूलों ने अपनी कक्षाओं को फिर से खोल दिया था, वे अब प्रकोप के कारण अचानक दूरस्थ शिक्षा में वापस आ रहे हैं। मास्क और टीके की आवश्यकताओं को लेकर कानूनी विवाद तेज हो गई है और हिंसा भड़क रही है, जिससे खतरा और बढ़ रहा है।
webdunia

अमेरिका में महामारी से अब तक मरने वालों की संख्या 6,50,000 से अधिक है। अनुमान है कि यह एक दिसंबर तक मृतकों की संख्या बढ़कर 7,50,000 से अधिक हो जाएगा।इस गर्मियों में अमेरिका में कोविड-19 से निजात मिलने की उम्मीद की जा रही थी, लेकिन उम्मीद को झटका लगता दिख रहा है।

अमेरिकी टीकाकरण अभियान शुरू होने के छह महीने से अधिक समय बाद राष्ट्रपति जो बाइडन ने देश की वायरस से आजादी का जश्न मनाने के लिए चार जुलाई को व्हाइट हाउस में पार्टी आयोजित की थी। एल स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के डॉ. स्टेन वर्मुंड ने कहा कि इस गर्मी में वायरस के अधिक संक्रामक डेल्टा संस्करण का प्रसार बढ़ रहा है।
ALSO READ: Coronavirus : तीसरी लहर को लेकर चेतावनी, गृह मंत्रालय के पैनल ने PMO को सौंपी रिपोर्ट
जून से अगस्त तक संकट तेजी से बढ़ा। पूरे जून में कोविड-19 के लगभग 4,00,000 मामले आए थे। इसी संख्या तक पहुंचने में पिछले सप्ताह महज तीन दिन लगे। अमेरिका में अगस्त में 26,800 मौतें हुईं और 42 लाख से अधिक मामले दर्ज किए गए। अमेरिका में अब प्रति दिन औसतन 1,50,000 से अधिक नए मामले आ रहे हैं, जो जनवरी के बाद कभी भी इतने मामले नहीं आए थे। प्रति दिन करीब 1,500 मृत्यु हो रही है।(भाषा) 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

कांग्रेस की हैसियत उस 'जमींदार' जैसी जो 'हवेली' के रखरखाव में सक्षम नहीं...