Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

ओमिक्रॉन बीक्यू.1 और बीक्यू.1.1 : इन नए कोविड वैरिएंट के बारे में 3 प्रमुख सवालों के जवाब

हमें फॉलो करें webdunia
मंगलवार, 1 नवंबर 2022 (19:38 IST)
वेस्टमिंस्टर। 2 नए ओमिक्रॉन उपप्रकार, बीक्यू.1 और बीक्यू.1.1  अमेरिका में तेजी से पैर पसार रहे हैं, जो सामूहिक रूप से 29 अक्टूबर तक संक्रमण के 27 प्रतिशत मामलों के लिए जिम्मेदार हैं। दोनों बीए.5, ओमिक्रॉन संस्करण जो कुछ महीनों से दुनियाभर में हावी है, के वंशज हैं। नवंबर के मध्य से दिसंबर 2022 की शुरुआत तक 50 प्रतिशत से अधिक कोविड संक्रमण बीक्यू.1 और बीक्यू.1.1 के कारण होंगे।
 
हालांकि इस मौके पर वे अमेरिका में सबसे आम प्रतीत होते हैं। बीक्यू.1 और बीक्यू.1.1 की पहचान यूके और यूरोप के कई देशों में भी की गई है जिसमें यूरोपीय सेंटर फॉर डिजीज प्रिवेंशन एंड कंट्रोल (ईसीडीसी) ने बीक्यू को नजर रखने लायक एक वैरिएंट के रूप में वर्गीकृत किया है।
 
मॉडलिंग के अनुमानों के आधार पर ईसीडीसी को उम्मीद है कि नवंबर के मध्य से दिसंबर 2022 की शुरुआत तक 50 प्रतिशत से अधिक कोविड संक्रमण बीक्यू.1 और बीक्यू.1.1 के कारण होंगे। 2023 की शुरुआत तक वे 80 प्रतिशत से अधिक मामलों के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं।
 
जब हम नए कोविड वैरिएंट के बारे में सुनते हैं तो 3 प्रमुख प्रश्न दिमाग में आते हैं- क्या यह पिछले वैरिएंट की तुलना में अधिक लोगों को संक्रमित करता है? क्या यह अधिक गंभीर बीमारी का कारण बन सकता है? और क्या यह हमारी प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया से बच सकता है?
 
आइए एक नजर डालते हैं कि हम अब तक क्या जानते हैं?
 
1. क्या ये प्रकार अधिक पारगम्य हैं?

संक्रमणीयता एक वायरस को एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में पारित करने में सक्षम होने के लिए संदर्भित करती है। यह विशेषता वायरस, उसके मेजबान और पर्यावरण से संबंधित कई कारकों द्वारा निर्धारित की जाती है।
 
इस स्तर पर हमारे पास सीमित डेटा है कि ये 2 नए वैरिएंट कितने संक्रामक हैं? लेकिन बीक्यू.1.1 एजी को 5 अनुक्रमों से 200 अनुक्रमों तक 8 गुना बढ़ने में केवल 19 दिन लगे।
 
हालांकि बीक्यू.1 और बीक्यू.1.1 में वर्तमान में वैश्विक स्तर पर सभी कोविड मामलों का एक छोटा अनुपात शामिल है। कुछ देशों में मामलों का अनुपात उस दर से बढ़ रहा है, जो यह बताता है कि यह अन्य परिसंचारी रूपों की तुलना में अधिक संक्रमणीय है।
 
2. क्या वे हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली से बच सकते हैं?
 
ईसीडीसी का सुझाव है कि बीक्यू.1 की बढ़वार में देखी गई वृद्धि शायद मुख्य रूप से प्रतिरक्षा से बचने से प्रेरित है। यह पूर्व संक्रमण या टीकाकरण से हमारी प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया से बचने के लिए वायरस की क्षमता को संदर्भित करता है।
 
बीक्यू.1 और बीक्यू.1.1 में स्पाइक प्रोटीन में उत्परिवर्तन होता है। सार्स-कोव-2 (वायरस जो कोविड-19 का कारण बनता है) की सतह पर एक प्रोटीन होता है, जो इसे हमारी कोशिकाओं से जुड़ने और संक्रमित करने में मदद देता है। इन म्यूटेशनों में के444टी, एन460के, एल452आर और एफ486वी शामिल हैं। बीक्यू.1.1 में एक अतिरिक्त उत्परिवर्तन, आर346टी है, जो बीए.5 संस्करण में भी पाया जाता है। ये उत्परिवर्तन महत्वपूर्ण प्रतिरक्षा को चकमा देने और एंटीबॉडी से बचने से जुड़े हैं।
 
एक अध्ययन ने संकेत दिया कि यह संभावना है कि पिछले ओमिक्रॉन सबलाइनेज और टीकाकरण से संक्रमण से प्रेरित प्रतिरक्षा बीक्यू.1.1 संक्रमण के खिलाफ व्यापक सुरक्षा प्रदान नहीं करेगी। हालांकि यह अध्ययन अभी प्रकाशित नहीं हुआ है जिसका अर्थ है कि इसकी अभी समीक्षा की जानी बाकी है।
 
हालांकि वर्तमान कोविड टीके और पिछले संक्रमण गंभीर बीमारी से अच्छी सुरक्षा प्रदान करते हैं लेकिन वे संक्रमण या पुन: संक्रमण से पूर्ण सुरक्षा प्रदान नहीं करते हैं। इसी तरह जबकि वे कोविड संचरण को कम करते हैं, वे इसे पूरी तरह से नहीं रोकते हैं और ऐसा प्रतीत होता है कि इन नए प्रकारों में अभी तक प्रतिरक्षा को भेदने की उच्चतम क्षमता है।
 
3. क्या वे अधिक गंभीर बीमारी का कारण बन सकते हैं?
 
हम अभी भी बीक्यू.1 या बीक्यू.1.1 से जुड़ी बीमारी की गंभीरता के बारे में अधिक नहीं जानते हैं। लेकिन उपलब्ध सीमित आंकड़ों के आधार पर इस मोर्चे पर अच्छी खबर है। इस बात का कोई प्रमाण नहीं है कि बीक्यू.1 बीए.4 और बीए.5 की तुलना में अधिक गंभीर बीमारी से जुड़ा है।
 
हालांकि चिंता की बात यह है कि हाल ही के एक प्रीप्रिंट अध्ययन से पता चलता है कि बीक्यू.1.1 एवुशेल्ड के लिए प्रतिरोधी हो सकता है। एक एंटीबॉडी थैरेपी जो उन लोगों की रक्षा के लिए डिज़ाइन की गई है जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है और जिन पर कोविड टीके भी प्रभावी नहीं हैं।
 
अमेरिका और यूरोप से परे बीक्यू.1 और बीक्यू.1.1 को दुनियाभर के अन्य देशों में भी पहचाना गया है जिनमें न्यूजीलैंड, थाईलैंड, सिंगापुर और कनाडा शामिल हैं, जहां वे अपशिष्ट जल में पाए गए हैं। सीवेज के नमूने अक्सर हमें संभावित कोविड स्पाइक्स का एक अच्छा संकेत देते हैं।
 
नए कोविड रूपों का निरंतर उभरना यह दर्शाता है कि वायरस अभी भी हमारे साथ है और तेजी से विकसित हो रहा है। जैसा कि हम उत्तरी गोलार्द्ध में सर्दियों में इसके फिर उभरने का सामना कर रहे हैं। हमें इन और किसी भी अन्य नए रूपों पर अपनी नजर रखने की जरूरत है और ध्यान से देखें कि वे कैसे व्यवहार करते हैं?
 
हमें ऐसे अध्ययनों की भी आवश्यकता है, जो यह परीक्षण करे कि नए द्विसंयोजक टीके, जो सार्स-कोव-2 के मूल तनाव के साथ-साथ ओमिक्रॉन को लक्षित करते हैं, बीक्यू.1 और बीक्यू.1.1 के खिलाफ कैसे काम करते हैं?(भाषा)
 
Edited by: Ravindra Gupta

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

cyber attack : दुनियाभर में पनप रहा है अवैध उद्योग, डेटा में सेंधमारी का कौन है जिम्मेदार ?