Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

फिलीपींस ‘लॉकडाउन’ की ओर, ब्रिटेन ‘पटरी’ पर लौटने को तैयार

webdunia
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
share
सोमवार, 5 अप्रैल 2021 (18:31 IST)
कोरोनावायरस को दुनियाभर में अपने पांव पसारे एक साल से अधिक का वक्त हो गया है। ऐसे में वैज्ञानिकों ने कोरोना की वैक्सीन को तो तैयार कर लिया है, लेकिन संक्रमण की रफ्तार कई मुल्कों में जस की तस बनी हुई है।
दुनिया के कई हिस्सों में सामने आए वायरस के नए वेरिएंट ने लोगों की चिंताएं बढ़ाई हुई हैं। दुनिया के कई मुल्कों में फिर से लॉकडाउन लागू किया जा रहा है, तो कई मुल्क फिर से सामान्य जीवन में लौट रहे हैं।

अभी तक दुनियाभर में 13.1 करोड़ लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। वहीं, कोरोना मृतकों की संख्या 28.5 लाख से अधिक हो चुकी है। संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच फिलीपींस ने कोरोना लॉकडाउन की अवधि में इजाफा कर दिया है। दूसरी ओर, फ्रांस ने चार हफ्तों के हल्के लॉकडाउन को लागू करने का ऐलान किया है। ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने ऐलान किया है कि वह एक योजना के तहत देश की अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लेकर आएंगे। ऐसे में आइए जानते हैं दुनिया का कोरोना से क्या हाल है।

फिलीपींस में कोविड-19 के बढ़ते मामलों और कई अस्पतालों में क्षमता से अधिक संख्या में मरीजों के आने के मद्देनजर सोमवार को लॉकडाउन एक और सप्ताह के लिए बढ़ा दिया गया। फिलीपींस के राष्ट्रपति रोद्रिगो दुर्तेते ने मेट्रोपोलिटन मनीला और चार प्रांतों में पिछले सप्ताह लॉकडाउन लगाया था। ऐसा इसलिए किया गया था, क्योंकि दैनिक मामलों की संख्या 10,000 के भी पार चली गई थी। अस्पतालों में मरीजों की बढ़ती संख्या की वजह से बेड्स कम पड़ने लगे हैं। अस्पतालों ने कहा है कि वे बिस्तरों की संख्या बढ़ा सकते हैं, लेकिन उनके पास पर्याप्त स्वास्थ्यकर्मी नहीं हैं क्योंकि कई संक्रमित हो चुके हैं।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने लंबे लॉकडाउन के बाद देश की अर्थव्यवस्था को फिर से खोलने का ऐलान किया है। इसके तहत लोगों की हर सप्ताह दो बार कोविड-19 जांच की जाएगी। ब्रिटेन 300 सालों में सबसे बुरी आर्थिक मंदी का सामना कर रहा है। इससे बाहर निकालने के लिए जॉनसन ने कहा कि आने वाले महीनों में लोगों को कोरोना पासपोर्ट दिया जाएगा।  इसके तहत जिन लोगों के पास ये पासपोर्ट होगा, उन्हें स्पोर्ट्स इवेंट्स, नाइटक्लब और थिएटर में शामिल होने की इजाजत दी जाएगी। पब्स, रेस्तरां जैसी सुविधाओं को फिर से खोला जाएगा।

चीन में लोगों को तेजी से वैक्सीन लगाई जा रही है। इसका लक्ष्य है कि ये वैक्सीनेशन में अमेरिका को पीछे छोड़ दे। इसी कड़ी में अब चीन में बैंककर्मियों और कॉलेज के स्टाफ को वैक्सीन लगाई जाएगा। चीन में औसतन हर रोज 50 लाख वैक्सीन डोज लोगों को लगाई जा रही है। चीन में प्रति 100 लोगों पर वैक्सीन की 5 डोज लगाई जा रही हैं। ये आंकड़ा अमेरिका में 25 है और इजरायल में 56 है। ऐसे में चीन जल्द ही वैक्सीनेशन के मामले में शीर्ष पर काबिज हो जाएगा।

फ्रांस में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के बीच सरकार ने मुख्य भू-भाग के 19 इलाकों समेत कोर्सिका द्वीप पर हल्का लॉकडाउन लागू कर दिया है। इसकी शुरुआत रविवार से हो गई है और ये चार हफ्तों तक जारी रहेगा। फ्रांस की सरकार कोरोना की रफ्तार को काबू में करने के लिए प्रांतीय उपाय अपना रही है। लेकिन अब सभी गैर-जरूरी दुकानों को बंद कर दिया गया है और लोगों को अपने घर से 10 किमी के दायरे से बाहर नहीं जाने को कहा गया है।

Share this Story:
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

webdunia
मुस्लिम नेताओं का दावा, बंगाल में भाजपा को रोकने के लिए तृणमूल कांग्रेस को वोट देंगे अल्पसंख्यक