Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

पहले ‘सुसाइड’ था अमेरिका में मौतों का कारण, अब यह है सबसे बड़ा ‘डेथ रीजन’

webdunia
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
share
शनिवार, 3 अप्रैल 2021 (17:48 IST)
अमेरिका में पिछले साल कोविड-19 महामारी समेत विभिन्न कारणों से 33 लाख से अधिक लोगों की मौत हुई, जो एक साल में होने वाली सर्वाधिक मौत है।

सरकार ने हाल ही में इसकी जानकारी दी। कोरोना वायरस के कारण करीब 3,75,000 लोगों की मौत हुई, जो 2020 में दिल की बीमारी और कैंसर से होने वाली मौत के बाद तीसरे स्थान पर है।

अमेरिका में महामारी की शुरुआत के बाद से अब तक कोविड-19 के कारण 5,50,000 लोगों की मौत हो चुकी है। रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र द्वारा बुधवार को जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि मौत के शीर्ष दस कारणों में पहले आत्महत्या भी एक वजह थी, जिसका स्थान अब कोविड-19 ने ले लिया है।

रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल की अपेक्षा इस साल लगभग 16 फीसदी अधिक मौतें हुई हैं। रिपोर्ट के अनुसार, दिल की बीमारी से 690,000 लोगों की मौत हुई, जबकि 598,000 मौतें कैंसर की वजह से हुई। इसके अलावा 345,000 मौतें कोविड-19 की वजह से हुई है।

मीड‍िया रिपोर्ट के मुताबिक गंभीर बीमारियों के अलावा अचानक से कोई चोट, स्ट्रोक, पुरानी निचली सांस की बीमारी, अल्जाइमर रोग, मधुमेह, इन्फ्लूएंजा और निमोनिया और गुर्दे की बीमारियों की वजह से भी लोगों की मौतें हुईं हैं। कोरोना संक्रमण से हुई मौतों के मामले में देखा गया कि 85 वर्ष से ज्यादा उम्र के लोगों की संख्या अधिक थी। इसके अलावा काले लोगों, मूल अमेरिकियों और पुरुषों की सबसे ज्यादा मौतें हुईं हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, 2020 तक अमेरिकी क्षेत्रों और विदेशों के निवासियों को छोड़कर कुल 3,358,814 लोगों की मृत्यु हुई है। वहीं, 14 से एक वर्ष की आयु के बच्चों में कोविड की मृत्यु दर केवल 0.2 प्रति 100,000 थी, लेकिन 85 और उससे अधिक उम्र के लोगों में नाटकीय रूप से 1,797.8 प्रति 100,000 हो गई। पुरुषों के बीच आयु-समायोजित कोविड की मृत्यु दर 115 प्रति 1,00,000 थी, और महिलाओं में 72.5 प्रति 100,000 थी।

इस रफ्तार के बीच, आयु-समायोजित कोविड मृत्यु दर 66.7 प्रति 100,000 पर एशियाई गैर-हिस्पैनिक लोगों में सबसे कम थी, और हिस्पैनिक लोगों में उच्चतम 164.3 प्रति 100,000 थी। गोरे लोगों में यह प्रति 100,000 पर 72.5 और काले लोगों में यह प्रति 100,000 पर 151.1 था।

Share this Story:
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

webdunia
एंटीलिया मामला : सचिन वाजे की एनआईए हिरासत 7 अप्रैल तक बढ़ाई