Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Corona India Update : देशभर में कोरोना के उपचाराधीन मरीजों की संख्या हुई कम, 98.75 फीसदी पर पहुंची रिकवरी दर

हमें फॉलो करें webdunia
रविवार, 22 मई 2022 (11:03 IST)
नई दिल्ली। भारत में एक दिन में कोरोनावायरस (Coronavirus) के 2226 नए मामले आने से संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 4,31,36,371 पर पहुंच गई जबकि उपचाराधीन मरीजों की संख्या कम होकर 14955 रह गई है। जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर 98.75 प्रतिशत दर्ज की गई है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के रविवार सुबह आठ बजे तक अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, देश में 65 और मरीजों के संक्रमण से जान गंवाने से मृतकों की संख्या 5,24,413 पर पहुंच गई है। उपचाराधीन मरीजों की संख्या संक्रमण के कुल मामलों का 0.03 प्रतिशत है जबकि कोविड-19 से स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर 98.75 प्रतिशत दर्ज की गई है।

आंकड़ों के अनुसार, बीते 24 घंटों में कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या में 41 मामलों की कमी दर्ज की गई है। संक्रमण की दैनिक दर 0.50 प्रतिशत दर्ज की गई और साप्ताहिक संक्रमण दर भी 0.50 प्रतिशत रही। इस बीमारी से उबरने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 4,25,97,003 हो गई है जबकि मृत्यु दर 1.22 प्रतिशत दर्ज की गई है। देशव्यापी कोविड-19 रोधी टीकाकरण अभियान के तहत अभी तक 192.28 करोड़ खुराकें दी जा चुकी हैं।

गौरतलब है कि देश में सात अगस्त 2020 को कोरोनावायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त 2020 को 30 लाख और पांच सितंबर 2020 को 40 लाख से अधिक हो गई थी। संक्रमण के कुल मामले 16 सितंबर 2020 को 50 लाख, 28 सितंबर 2020 को 60 लाख, 11 अक्टूबर 2020 को 70 लाख, 29 अक्टूबर 2020 को 80 लाख और 20 नवंबर 2020 को 90 लाख के पार चले गए थे।

देश में 19 दिसंबर 2020 को ये मामले एक करोड़ से अधिक हो गए थे। पिछले साल चार मई को संक्रमितों की संख्या दो करोड़ और 23 जून 2021 को तीन करोड़ के पार पहुंच गई थी। इस साल 26 जनवरी को मामले चार करोड़ के पार हो गए थे।

मंत्रालय के अनुसार, देश में जिन 65 और मरीजों ने जान गंवाई है, उनमें से 63 की मौत केरल में और एक-एक मरीज की मौत दिल्ली तथा उत्तर प्रदेश में हुई। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि अब तक जिन लोगों की कोरोनावायरस के संक्रमण से मौत हुई है, उनमें से 70 प्रतिशत से अधिक मरीजों को अन्य बीमारियां भी थीं।

मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर बताया कि उसके आंकड़ों का भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के आंकड़ों के साथ मिलान किया जा रहा है।(भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

राज ठाकरे की आज पुणे में रैली, पुलिस ने दी चेतावनी- भाषण में किसी समुदाय का अपमान न हो