Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Indore में रेमडेसिविर की कालाबाजारी करने वालों पर लगेगी रासुका

webdunia
सोमवार, 19 अप्रैल 2021 (22:42 IST)
इंदौर। कोरोनावायरस (Coronavirus) कोविड-19 की दूसरी लहर के घातक प्रकोप के बीच रेमडेसिविर दवा की कालाबाजारी पर रोक के लिए जिला प्रशासन ने सोमवार को अहम फैसला किया। प्रशासन ने तय किया है कि इस अपराध में शामिल लोगों को सख्त प्रावधानों वाले राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा।

कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा कि ऐसी शिकायतें आ रही हैं कि खासकर छोटे अस्पतालों के कर्मचारी रेमडेसिविर की कालाबाजारी कर रहे हैं। हम इस दवा की कालाबाजारी में शामिल लोगों को एनएसए के तहत जेल भेजेंगे। उन्होंने कहा कि हम अस्पतालों में रेमडेसिविर के वितरण पर नजर रख रहे हैं। इस दवा की कालाबाजारी में शामिल पाए जाने पर अस्पताल संचालकों के खिलाफ भी उचित कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

कलेक्टर ने बताया कि राजेंद्र नगर पुलिस द्वारा रविवार को रेमडेसिविर की कथित कालाबाजारी में पकड़े गए आरोपियों में शामिल एक डॉक्टर और एक मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव पर रासुका लगाया जा रहा है। सिंह के मुताबिक, जिले में रेमडेसिविर की किल्लत का प्रमुख कारण मरीजों की बढ़ती मांग के मुकाबले दवा निर्माता कंपनियों की आपूर्ति घटना है।

हालांकि अगले कुछ दिनों में इसकी आपूर्ति में इजाफे की उम्मीद है। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, जिले में 24 मार्च 2020 से लेकर अब तक महामारी के कुल 91,015 मरीज मिले हैं। इनमें से 1,054 लोगों की इलाज के दौरान मौत हो चुकी है।

अस्पताल के बिस्तर के बदले 60 हजार की घूस : कोविड-19 के एक मरीज को यहां शासकीय सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में बिस्तर दिलाने के बदले 60,000 रुपए की कथित घूस मांगे जाने से जुड़ी बातचीत की ऑडियो क्लिप सोमवार को सोशल मीडिया पर वायरल हो गई। अस्पताल प्रबंधन ने पुलिस को जांच के लिए मामला सौंप दिया है।
ALSO READ: 100 दिन तक रह सकती है Coronavirus की दूसरी लहर
वायरल ऑडियो क्लिप में एक संदिग्ध दलाल महामारी के मरीज के परिजन से कहता सुनाई पड़ रहा है कि वह इस संक्रमित को सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में 60,000 रुपए में बिस्तर दिलवा देगा। हालांकि फोन पर बात कर रहे दोनों व्यक्तियों की फिलहाल पहचान नहीं हो सकी है। सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, शासकीय महात्मा गांधी स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय के अधीन है।
ALSO READ: ‘जीनोम सीक्वेंसिंग’ से लगेगा Coronavirus के Double Mutation का पता
महामारी की दूसरी लहर के घातक प्रकोप के कारण शहर के अन्य अस्पतालों की तरह इस सरकारी चिकित्सालय में भी मरीजों को एक बिस्तर हासिल करने में खासी मुश्किल हो रही है। महात्मा गांधी स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय के डीन संजय दीक्षित ने बताया कि हमने सोशल मीडिया पर वायरल ऑडियो क्लिप का संज्ञान लेते हुए पुलिस को पत्र लिखकर कहा है कि वह इस मामले की जांच करे।

उन्होंने बताया कि अस्पताल प्रबंधन की ओर से पुलिस को वे सभी ऑडियो क्लिप भी सौंप दी गई हैं जो सोशल मीडिया पर सामने आई हैं।(भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

महाराष्ट्र में 58,924 नए मामले, 351 लोगों की मौत, 2 दिन में सख्‍त लॉकडाउन का फैसला ले सकते हैं CM उद्धव ठाकरे