Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

कपड़े का मास्‍क पहने संक्रमित के संपर्क में आए तो 20 मिनट में हो जाएंगे Omicron Variant का शि‍कार!

हमें फॉलो करें webdunia
शुक्रवार, 7 जनवरी 2022 (12:35 IST)
(इस स्‍टडी ने बताया कपड़े, सर्जिकल और एन95 मास्क के बीच का अंतर और फायदा नुकसान)

बाजार में तरह तरह के मास्‍क आ रहे हैं। इनमें कॉटन भी है तो कपड़े के भी हैं। कई लोग अपनी सहूलियत के लिए N95 मास्‍क के बजाए कपड़े का मास्क इस्‍तेमाल कर रहे हैं।

हालांकि विशेषज्ञ लगातार सर्जिकल मॉडल्स के साथ कपड़े का मास्क पहनने की सलाह देते रहे हैं। कपड़े के मास्क की केवल एक परत बड़े ड्रॉपलेट्स को रोक सकती है, लेकिन ये एयरोसोल्स को रोकने में सक्षम नहीं हैं। अगर कोई वेरिएंट तेजी से फैलता है, तो कपड़े का मास्क या सर्जिकल मास्क खास सुरक्षा नहीं दे पाएंगे।

मास्‍क को लेकर कई तरह की गलतफहमियां हैं, लेकिन अब एक स्टडी में सामने आया है कि कोविड-19 से बचाव में N95 मास्क की भूमिका काफी अहम है। स्टडी में कहा गया है कि कपड़े का मास्क आपको संक्रमण से नहीं बचा पाएगा।

अमेरिकन कॉन्फ्रेंस ऑफ गवर्नमेंटल इंडस्ट्रियल हाईजीनिस्ट्स के अनुसार, वायरस के प्रसार के खिलाफ सबसे ज्यादा सुरक्षा देने में N95 सबसे बेहतर हैं।

N95 के मामले में अगर संक्रमित व्यक्ति मास्क नहीं पहना है, तो भी संक्रमण फैलने में कम से कम 2.5 घंटे लगेंगे। वहीं, अगर दोनों N95 का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो वायरस को फैलने में 25 घंटों का समय लगेगा।

डेटा दिखाता है कि कपड़े के मास्क की तुलना में सर्जिकल मास्क बेहतर काम करते हैं। अगर संक्रमित व्यक्ति मास्क नहीं पहना है और दूसरा व्यक्ति मास्क का इस्तेमाल कर रहा है, तो संक्रमण फैलने में 30 मिनट लग सकते हैं।

ओमिक्रॉन को कोरोना वायरस का काफी तेजी से फैलने वाला वेरिएंट माना जा रहा है। दो-तीन डोज लेने वाले भी संक्रमित हो रहे हैं। ऐसे में कोविड अनुरूप व्यवहार का पालन करना जरूरी है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर दो लोग मास्क नहीं पहने हैं और उनमें से एक संक्रमित है, तो वायरस 15 मिनट में फैल जाएगा। अगर दूसरा व्यक्ति कपड़े का मास्क पहनता है, तो वायरस को 20 मिनट लगेंगे। अगर दोनों कपड़े का मास्क पहने हैं, तो संक्रमण को फैलने में 27 मिनट का समय लगेगा।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

कोरोना की तीसरी लहर की शुरुआत के साथ ही पर्यटन सुन्न होने लगा जम्मू-कश्मीर में