Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

AstraZeneca Vaccine के बाद खून का थक्का बनने की दर में मामूली वृद्धि, शोध में हुआ खुलासा

हमें फॉलो करें webdunia
गुरुवार, 6 मई 2021 (23:16 IST)
नई दिल्ली। डेनमार्क और नॉर्वे में बड़े अध्ययन से पता चला है कि सामान्य आबादी में संभावित दर के मुकाबले ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका के कोरोनावायरस (Coronavirus) कोविड-19 रोधी टीके की पहली खुराक लेने वाले कुछ लोगों में दिमाग समेत खून की नसों में थक्के बनने की दर मामूली सी बढ़ी हुई पाई गई है। हालांकि ‘द बीएमजे’ में बुधवार को प्रकाशित अध्ययन में कहा गया है कि इस तरह के दुष्प्रभाव के मामले अपेक्षाकृत बहुत कम हैं।

‘यूनिवर्सिटी ऑफ सदर्न डेनमार्क’ और ‘नार्वेजियन इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक हेल्थ’ के अध्ययनकर्ताओं ने सामान्य आबादी और ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रोजेनेका के कोविड-19 रोधी टीके की खुराक लेने वाले लोगों में खून के थक्के और संबंधित जटिलताओं की तुलना की।

डेनमार्क और नॉर्वे में फरवरी 2021 से 11 मार्च के बीच टीके की पहली खुराक लेने वाले 18-65 उम्र समूह के 280,000 लोगों पर यह विश्लेषण किया गया। शोधकर्ताओं ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य रिकॉर्ड का इस्तेमाल करते हुए पहली खुराक लेने के 28 दिन के भीतर हृदयाघात, खून का थक्का बनने, रक्तस्राव जैसे दुष्प्रभाव का विश्लेषण किया।
ALSO READ: भारत में Coronavirus त्रासदी के बीच चीन ने की बेहद घटिया हरकत
शोधकर्ताओं ने पाया कि एक लाख खुराकों पर 59 लोगों में खून के थक्के पाए गए। दिमाग की नसों में खून का थक्का बनने की दर संभावित से ज्यादा रही। हालांकि टीम ने पाया कि हृदयाघात का कारण बनने वाले, धमनियों में रक्त के थक्के जमने की दर में कोई वृद्धि नहीं देखी गई। शोधकर्ताओं ने कहा कि इन मामलों को देखते हुए टीका लेने वालों पर निगरानी बढ़ाई जा सकती है।(भाषा)

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

रेलवे का बड़ा फैसला : राजधानी, शताब्दी समेत 28 जोड़ी फेस्टिव स्पेशल ट्रेनें 9 मई से रद्द