RSS कार्यकर्ता हत्या मामले में नया मोड़, पाटीदार खुद निकला हत्‍यारा, डीएनए रिपोर्ट से हुआ खुलासा

सोमवार, 28 जनवरी 2019 (16:32 IST)
मध्यप्रदेश के रतलाम में आरएसएस कार्यकर्ता हिम्मत पाटीदार की हत्या के मामले में सनसनीखेज खुलासा सामने आया है। इस हत्याकांड से पूरे प्रदेश में हड़कंप मच गया था। सोमवार को डीएनए रिपोर्ट में जो बात सामने आई वह चौंकाने वाली है। जांच में पता चला है कि वह हिम्मत पाटीदार का शव नहीं है।


इस रिपोर्ट के बाद रतलाम पुलिस भी सकते में आ गई, उसने जांच की तो पता चला कि बीमा के 10 लाख रुपए पाने के लिए हिम्मत पाटीदार ने खुद अपने कत्ल की साजिश रची। पुलिस जांच में सामने आया कि हिम्मत पाटीदार पर 10 लाख रुपए का कर्ज था और उसने 20 लाख रुपए की बीमा पॉलिसी ले रखी थी। कर्ज से छुटकारा पाने के लिए उसने खौफनाक साजिश रची और उससे रंजिश रखने वाले गांव के ही मदन मालवीय का बेरहमी के साथ कत्ल कर दिया।

मालवीय ने दो साल पहले पाटीदार के खेत में काम किया था। पॉलिसी के रुपए पाने के लिए उसने यह खौफनाक कदम उठाया। आरएसएस कार्यकर्ता ने अपने मजदूर की हत्या कर लाश की पहचान छुपाने के लिए उसका चेहरा जला दिया। डीएनए जांच में सामने आया कि लाश हिम्मत पाटीदार की नहीं, बल्कि उसी के गांव के मदन मालवीय की थी। यह वही शख्स था, जिसे पुलिस हिम्मत का कातिल मानकर उसकी तलाश कर रही थी।

पुलिस को मदन पर शक इसलिए था, क्योंकि पाटीदार की हत्या की सूचना के बाद से ही वह लापता था, लेकिन डीएनए टेस्ट से खुलासा हुआ कि मरने वाला मदन मालवीय ही था। पुलिस को लाश के पास से हिम्मत पाटीदार के कपड़े, मोबाइल और डायरी भी मिली थी।

पुलिस ने आरएसएस कार्यकर्ता के हत्यारे की जानकारी देने वाले को 10 हजार रुपए का इनाम भी घोषित किया था। शव मिलने के बाद दक्षिणपंथी हिंदू संगठनों ने अधिकारियों को एक पत्र सौंपकर आरोप लगाया था कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद आरएसएस और भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले बढ़ गए हैं।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख मारुति की हैचबैक बलेनो का नया मॉडल लांच, कीमत 8.77 लाख तक