Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

ऐसा क्या करें धनतेरस पर कि घर आए खुशहाली और मिले भय से मुक्ति

webdunia

आचार्य डॉ. संजय

धनतेरस पर पीतल और चांदी के बर्तन खरीदने की परंपरा है। मान्यता है कि धन्वंतरि देव जब समुद्र मंथन से प्रकट हुए थे उस समय उनके हाथ में अमृत से भरा कलश था। इसी वजह से धन तेरस के दिन बर्तन खरीदने की परंपरा है।
 
मान्यता है कि बर्तन खरीदने से धन समृद्धि होती है। इसी आधार पर इसे धन त्रयोदशी या धनतेरस कहते हैं। इस दिन सोने-चांदी के आभूषण या वस्तुएं भी खरीदी जाती हैं।
 
इस दिन शाम के समय घर के मुख्य द्वार और आंगन में दीये जलाने चाहिए। क्योंकि धनतेरस से ही दीपावली के त्योहार की शुरुआत होती है।
 
धनतेरस के दिन शाम के समय यम देव के निमित्त दीपदान किया जाता है। मान्यता है कि ऐसा करने से मृत्यु के देवता यमराज के भय से मुक्ति मिलती है।


Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

गोवत्स द्वादशी 2019 : जन्म-जन्मांतर के पापों से मुक्ति दिलाती है यह कथा