Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

मैं वायु हूँ : सरल तरल पवन की दास्तां, किसने किया मुझे जहरीली

हमें फॉलो करें webdunia
शनिवार, 4 जून 2022 (17:10 IST)
air
Air pollution : भोजन के बगैर कुछ दिन रहा जा सकता है। पानी के बगैर एक दिन रहा जा सकता है लेकिन वायु के बगैर एक पल भी नहीं रहा जा सकता है। ऐसे में जब हमें शुद्ध वायु नहीं मिलेगी तो आप समझें कि क्या हो सकता है। यदि हम उत्तम भोजन करते हैं, स्वच्छ पानी पीते हैं तो हमें अधिकार है कि हम स्वच्छ वायु भी ग्रहण करें। किनसे किया है इस वायु को जहरीला?  वायु का शुद्ध होना जीवन की दीर्घता के लिए बेहद जरूरी है। वायु से ही आयु है।
 
 
मैं वायु हूं (I am air) : पांच तत्वों में से एक मैं वायु हूं जो तुम्हारे शरीर के भीतर पांच प्रकार से रहती हूं- 1. समान, 2 प्राण, 3. उदान, 4. अपान और 5. व्यान। जब तुम्हारे प्राण निकलते हैं तो मैं ही निकलती हूं। मुझे ही प्राण कहा गया है। ब्रह्मांड में भी में भिन्न भिन्न रूप धारण करते बहती हूं। मुझे महसूस किया जा सकता है लेकिन देखा नहीं जा सकता है। मेरे कारण ही अग्नि की उत्पत्ति हुई है। जितना भी प्राण सब मैं ही हूं। मैं धरती का भी प्राण हूं। जो भी श्वांस ले रहा है वहां मैं ही हूं।
 
वायु क्या है-What is Air? : वायु गैसों का मिश्रण होती है। जिसमें नाइट्रोजन 78%, ऑक्सीजन 21%, ऑर्गन 0.9% और अन्य गैसे 0.1 प्रतिशत होती है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि वायु गैसों के 100% मिश्रण से बनती है। जिसका कोई भी रंग नहीं होता और यह सभी दिशाओं में अपना प्रभाव डालती है।
 
 
किसने किया मुझे जहरीला : 
1. वाहनों, विद्युत संयंत्र तथा फैक्ट्रियों से निकलने वाले धुएं, गैसों के कारण हवा प्रदूषित होती है। वायु प्रदूषण के जिम्मेदार प्रमुख प्रदूषकों में मोनोऑक्साइड, क्लोरोफ्लोरोकार्बन, सल्फर डाइऑक्साइड और वाहनों और फैक्ट्रियों से निकलने वाला धुआं शामिल है।
webdunia
2. ज्वालामुखी की राख और धुएं से भी हवा प्रदूषित होती है। ज्वालामुखी से कार्बन डाइऑक्साइड और हाइड्रोजन सल्फाइड निकलते हैं। इसके साथ ही कुछ अन्य गैसें जैसे कि सल्फर डाइऑक्साइड, हाइड्रोजन क्लोराइड, कार्बन मोनोऑक्साइड और हाइड्रोजन फ्लोराइड इत्यादि भी ज्वालामुखी से निकलती हैं जो वायु को दूषित करती हैं।
 
3. खेतों में जलाई जा रही पराली और जंगलों में लगी आग से भी वायु प्रदूषित होती है। 
 
4. कचरा शोधन या कचरे को जलाने से भी वायु प्रदूषित होती है। 
 
5. धुआं उगलते ईंट के भट्टे भी वायु को प्रदूषित करते हैं।
 
6. कोयला, जलावन लकड़ी और उपलों को जलाने से भी वायु प्रदूषित होती है।
 
7. जीवाश्म ईंधनों के अधिक इस्तेमाल और जंगलों की कटाई की वजह से वातावरण में ग्रीन हाउस गैसों की मात्रा काफी बढ़ रही है। जीवाश्म ईंधन जैसे कि कोयला, तेल और प्राकृतिक गैसों का उपयोग। पेट्रोल गाड़ी के कारण कार्बन मोनोऑक्साइड गैस हवा को जहरीला बना देती है।
 
8. एसी और रेफ्रिजरेटर के कारण भी वायु प्रदूषित हो रही है, क्योंकि क्लोरोफ्लोरोकार्बन वायु प्रदूषण का एक खतरनाक रूप है। यह केमिकल रेफ्रिजरेटर को ठंडा करने के लिए इस्तेमाल होने वाली गैस, झाग वाले उत्पाद और एयरोसोल कैन में पाया जाता है। यह धरती की ओजोन परत को डेमेज करता है, जिससे सूर्य से आने वाली हानिकारक पराबैंगनी किरणें धरती पर पहुंचने लगती हैं।
 
9. वृक्ष की तादाद कम होते जाने के कारण भी वायु प्र‍दूषित हो रही है क्योंकि वृक्ष हवा में स्थित कार्बन डाई आक्साइड को सोखकर ऑक्सीजन को छोड़ते हैं।
 
10. वातावरण में मौजूद हानिकारक जीवन नाशक और जहरीले पदार्थ एकत्रित होकर वायु प्रदूषित कर देते हैं। पृथ्वी के वायुमंडल में हानिकारक प्रदूषक जैसे धूल और मिट्टी के कण, रसायन और अन्य सूक्ष्म जीव इत्यादि के शामिल होने को वायु प्रदूषण कहा जाता है।
 
वायु प्रदूषण का प्रभाव : वैज्ञानिक कहते हैं कि वायु प्रदूषण (ग्रीन हाउस गैसों) के कारण धरती का तापमान बढ़ता जा रहा है। ग्लेशियर पिघल रहे हैं और ऑक्सिजन कम होती जा रही है। इससे कुदरत का मौसम और जलवायु चक्र बदल रहा है और जल भी खत्म हो रहा है। वायु प्रदूषण के कारण जहां मानव की उम्र पर असर पड़ रहा है वहीं धरती भी अकाल मृत्यु मरने के लिए तैयार हो रही है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

TamilNadu : हड़बड़ाहट में फैसले ने ले ली साथी मजदूर की जान, JCB से अलग हो गया सिर