Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

वेबदुनिया की खबर पर मुहर : 1 फरवरी को होने वाला किसानों का संसद मार्च टला, योगेंद्र यादव बोले- लाल किले पर तिरंगे के साथ बेअदबी बर्दाश्त नहीं

संसद मार्च को रद्द नहीं टाला जा रहा है : योगेंद्र यादव

हमें फॉलो करें webdunia
webdunia

विकास सिंह

बुधवार, 27 जनवरी 2021 (21:32 IST)
गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में हुई हिंसा के बाद अब संयुक्त किसान मोर्चा ने एक फरवरी को होने वाला संसद मार्च स्थगित कर दिया है। ‘वेबदुनिया’ ने आज सबसे पहले इस बात को बताया था कि दिल्ली में हुई हिंसा के बाद अब किसान संगठन प्रस्तावित संसद मार्च को टालने पर विचार कर रहे है। 
दिल्ली हिंसा के बाद बुधवार देर शाम तक चली संयुक्त किसान मोर्चा की बड़ी बैठक के बाद किसान नेताओं ने सामूहिक प्रेस कॉफ्रेंस कर लाल किले में हुए उत्पात की निंदा करते हुए एलान किया कि अब एक फरवरी को होने वाला किसानों का संसद मार्च स्थगित कर दिया गया। हिंसा के विरोध में अब किसान 30 जनवरी को महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर एक दिन का उपवास करेंगे।
webdunia
संयुक्त किसान मोर्चा के नेता योगेंद्र यादव ने कहा कि किसान गणतंत्र परेड के दौरान लाल किले पर तिरंगे के अपमान की जो घटना हुई उससे पूरे देश की भावना आहत हुई है। इसलिए पूरे देश को एक संदेश देने के लिए अगर तिरंगे का अपमान किया जाता है तो वह किसानों के लिए भी दुख की बात है इसलिए संसद मार्च को फिलहाल स्थगित किया जा रहा है। उन्होंन साफ कहा कि संसद मार्च रद्द नहीं किया जा रहा है केवल पोस्टफोन कर रहे है।
वहीं स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव ने कहा कि किसान आंदोलन पूरे देश के किसानों का है और संयुक्त किसान मोर्चा ने हमेशा देश के लिए हमेशा काम किया है। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन जारी रहेगा। योगेंद्र यादव ने कहा कि लालकिले में एक संगठन विशेष के लोगों को पुलिस ने जानूझकर जाने दिया। वहीं दिल्ली की संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने पर कहा कि किसान एफआईआर से डकरने वाला नहीं है जब कोई आंदोलन शुरु होता तो उसमें शामिल लोगों को एफआईआर  और जेल का पता होता है।
 
 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Live Updates : राकेश टिकैत का विवादित बयान, बोले- लालकिले की घटना संगठन को बदनाम करने की साजिश, पुलिस ने क्यों नहीं चलाई गोली?