Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

सोशल मीडिया पर हजारों फ्रेंड्स बना तो लिए हैं लेकिन अब जरा बचकर रहिए

webdunia
webdunia

नम्रता जायसवाल

इन दिनों जितने दोस्त आपके असल जिंदगी में नहीं होते, उससे कई गुना ज्यादा दोस्त तो वर्चुअल दुनिया में बन जाते हैं। जी हां, यहां बात हो रही है उन दोस्तों की जिन्हें आप अलग-अलग सोशल मीडिया की साइट्स पर बनाते हैं। सोशल मीडिया की साइट्स पर बनाए गए दोस्तों के भी कई प्रकार होते हैं। कुछ आपकी असल जिंदगी के दोस्त या रिश्तेदार होते हैं जिन्हें आप बाद में सोशल साइट पर भी जोड़ लेते हैं।
 
इसके बाद कुछ ऐसे लोग होते हैं, जो आपको केवल एक-दो बार ही किसी समारोह या कार्यक्रम में मिलते हैं और आपको झट से फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज देते हैं। इनसे चूंकि आप कुछेक बार मिल चुके होते हैं और आगे भी किसी काम से या पारिवारिक मामलों के चलते इनसे मिलने का काम पड़ सकता है, तो ऐसे में आप इनकी फ्रेंड रिक्वेस्ट को रिजेक्ट नहीं कर पाते।
 
हालांकि न तो ये आपके दोस्त होते हैं और न ही आप इन्हें और वे आपको कोई खास जानते हैं। यहां केवल औपचारिक मैनर्स के तहत आपको उनकी फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकारनी पड़ती है। यदि नहीं स्वीकारते तो होता ये है कि जब अगली बार ये लोग आपको किसी कार्यक्रम में मिलते हैं, तो सभी के सामने पूछ देते हैं कि अरे भाई... मेरी रिक्वेस्ट एक्सेप्ट नहीं की? फिर आपके पास कोई जवाब नहीं होता और आपको शर्मिंदा होना पड़ता है। अब आप ये तो नहीं कह सकते कि आपने जान-बूझकर ऐसा किया है, क्योंकि असल जीवन में भी वे आपके दोस्त नहीं हैं।
webdunia
कुछ ऐसे भी लोग आपको फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजते हैं, जो आपके दोस्त के दोस्त हैं। अब ये आपकी मर्जी पर होता है कि आपको इनकी रिक्वेस्ट स्वीकारना है या नहीं? कुछ तो आपका प्रोफाइल देखकर आपके फैन हो जाते हैं और आपको पसंद करने लगते हैं। इस वजह से आपके वर्चुअल दोस्त बनना चाहते हैं। दरससल, ये आपसे सिर्फ इसलिए जुड़ना चाहते हैं कि वे आपके जीवन में जो भी कुछ हो रहा है, वो सब कुछ आपके पेज की पोस्ट के माध्यम से जानना चाहते हैं।
 
इस तरह से अनेक फ्रेंड रिक्वेस्ट्स आपके पास आती हैं। कई बार आप बिना सोचे-समझे उन्हें एक्सेप्ट कर लेते हैं फिर इन्हीं में से कुछ लोग आपसे ईर्ष्या भी करने लगते हैं। इनके ईर्ष्या की वजह होती है आपकी पोस्ट से दिखती हुई आपकी जीवनशैली या आपकी खूबसूरती भी हो सकती है। अब आप सोच भी नहीं सकते हैं कि कैसे-कैसे कारणों से लोग आपसे ईर्ष्या करके आपको नुकसान पहुंचाने की सोच सकते हैं और इन सबसे बेखबर आप अपने जीवन के सभी अच्छे-बुरे पल या कह लें कि पल-पल की खबर सोशल मीडिया पर डालते रहते हैं। तो अब जरा हजारों फ्रेंड्स की रिक्वेस्ट स्वीकारने से पहले एक बार जरूर सोचिए और वर्चुअल दोस्ती में थोड़ी सावधानी बरतिये।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

1 अगस्त : बाल गंगाधर तिलक की पुण्यतिथि पर विशेष