Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Alert ! कोविड-19 वैक्‍सीनेशन के बाद ये लक्षण दिखने पर हो सकते हैं संक्रमित

webdunia
कोरोना वायरस की दूसरी लहर का प्रकोप अभी भी किसी साये की तरह मन में बैठा हुआ है। लेकिन कुछ ही लोगों के मन में अब डर नजर आ रहा है।  लोग सड़कों पर बिना खौफ के नजर आ रहे। जहां अभी लोगों से दूरी बनाना है, मास्‍क लगाना है लेकिन जनता ने वैक्‍सीनेशन के बाद कोविड नियमों से दूरी बना ली। शायद वो मंजर जनता भूल गई जब मरीज मौत और जिदंगी के बीच खतरनाक संघर्ष कर रहे थे। जनता के मन में गलतफहमी पैदा हो रही है। वैक्‍सीनेशन के बाद उन्‍हें कुछ नहीं होगा। तो कुछ लोगों के मन में सवाल है कि वैक्‍सीन लगवाने के बाद भी कोरोना होना है तो फिर वैक्‍सीन क्‍यों लगाएं? सबसे पहले जानते हैं वैक्‍सीनेशन के बाद कुछ लक्षण नजर आते हैं तो सतर्क हो जाएं। क्‍योंकि वह कोरोना वायरस के भी हो सकते हैं। 
 
वैक्‍सीनेशन के बाद ये संकेत दिखने पर हो जाएं सतर्क
 
- नाक बहना
-सुगंध नहीं आना
-गले में खराश होना
-सिरदर्द
-जुकाम होना
 
टीका लगवाने से पहले ये लक्षण नजर आ रहे हैं तो सतर्क हो जाएं -
 
- सिरदर्द
- ठंड लगकर बुखार आना 
- गले दुखना 
- नाक बहना
- खांसी होना
- हाथ पैर दुखना 
 
ऐसे कर सकते हैं खुद का बचाव
 
जी हां, दूसरी लहर पूरी तरह से खत्‍म नहीं हुई। कई राज्‍यों, शहरों में आज भी हजारों की तादाद में केस मिल रहे हैं। वहीं विशेषज्ञों द्वारा लगातार तीसरी लहर की संभावना जताई जा रही है। यह भी कहना है कि अगर लोग इस तरह से बेपरवाह घुमेंगे तो तीसरी लहर को किसी भी हालत में टाला नहीं जा सकता है। तीसरी लहर के जल्‍दी आने संभावना और अधिक बढ़ जाएगी। 
 
- वैक्‍सीन लगवाने के बाद भी मास्‍क लगाना जरूरी है। क्‍योंकि वायरस अभी भी हमारे बीच है। 
- कोविड नियमों का पालन करें। दो गज की दूरी, हैंड सैनिटाइजर, और मास्‍क जरूर लगाएं। 
- घर में ही रहें। जरूरी होने पर ही बाहर निकलें। भीड़-भाड़ वाली जगहों पर नहीं जाएं। कोविड लगातार म्‍यूटेट हो रहा है।  
- दुकान या सार्वजनिक जगहों पर दूरी बनाकर रखें। 
 
वैक्‍सीनेशन के बाद भी कोविड हो जाता है तो क्‍या फायदा 
 
दरअसल, वैक्‍सीनेशन के बाद भी कई लोग कोरोना की चपेट में आए है लेकिन उन्‍हें हॉस्पिटल जाने की जरूरत नहीं पड़ी। वह घर पर ही ट्रीटमेंट लेकर ठीक हो गए। वैक्‍सीनेशन के बाद वायरस की गंभीरता कम हो जाती है। 
 
 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

विश्व स्वप्न दिवस : कहीं आपको भी तो नहीं आ रहे धन के सपने, सपनों से जानिए कब मिलेगा धन