Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Navratri health Tips - नवरात्रि पारण के बाद भूलकर भी नहीं खाएं जंक फूड, जानें क्यों

webdunia
गुरुवार, 14 अक्टूबर 2021 (13:23 IST)
नवरात्रि में नौ दिन तक उपवास कर मां की आराधना की जाती है।  अलग - अलग प्रकार से नौ दिन तक भक्तगण आराधना करते हैं। इस दौरान सिर्फ फलाहार ही खाया जाता है। हालांकि इसमें भी कई प्रकार की खाने के आइटम अब उपलब्‍ध होने लगे हैं। लेकिन युवाओं को जंक फूड बहुत हद तक पसंद है। वे घर के खाने से ज्यादा जंक फूड खाकर अपना पेट भरते हैं। लेकिन अगर आपने 9 दिन तक उपवास किया है तो भूलकर भी जंक फूड, तीखा आयटम जरा भी नहीं खाएं। आइए जानते हैं ऐसा करने से क्‍या हो सकता है -  

- 9 दिन तक सिर्फ उपवास के दौरान हल्‍का और ज्यादा तीखा नहीं खाने से आपके पेट बहुत हल्‍का हो जाता है। कई लोगों का वजन भी कम हो जाता है। ऐसे में सीधे आटा या जंक फूड और भारी खाना खाते हैं तो आपको पेट दर्द और अपच की समस्या हो सकती है।  

- 9 दिन तक सिर्फ हल्‍का फलाहार खाने के बाद पारण के दिन मुंग की दाल, हरी कम मिर्च की भगरी हुई दाल या तोरई की सब्जी रोटी का सेवन करें। इससे आपको पेट से संबंधित किसी भी प्रकार की समस्‍या नहीं होगी। ना ही अपच की समस्‍या होगी।  

- कई लोग नवरात्रि बॉडी डिटॉक्‍स करने के लिए करते हैं। एक्‍सपर्ट के मुताबिक अगर आप जंक फूड, तैलीय फूड या अन्‍य हैवी आयटम नहीं खाते हैं तब भी आपकी बॉडी बहुत अच्‍छे से डिटॉक्‍स कर सकती है। जी हां, सीमित मात्रा में समय से खाने पर आपका वजन कम हो सकता है।

- 9 दिन तक बॉडी को आराम देने के बाद अचानक से 10वें दिन हैवी आयटम खाने पर आपको भोजन हजम करने में बहुत अधिक परेशानी आएगी। एक रोटी खाने पर ही आपका पेट भारी हो जाएगा। इसलिए 9 दिन तक उपवास करने के बाद 9 दिन तक धीरे-धीरे अपने खाने का रूटीन फॉलो करें।  

- व्रत के दौरान कई लोग सीमित मात्रा में खाना, सिर्फ ज्यूस से ही उपवास करना या सिर्फ एक प्रकार के फल का सेवन करना। जितना कम खाते हैं बॉडी कमजोर हो जाती है और आंत भी सिकुड़ सी जाती है। ऐसे में पारण के दिन सिर्फ लिक्विड चीजों का ही सेवन करें। और उसके अगले दिन रोटी खाएं और जंक फूड 9 दिन बाद ही खाएं। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

विश्व मानक दिवस क्यों मनाया जाता है