Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

कोरोना से यदि संक्रमित होने का शक है तो तुरंत करें ये काम

webdunia
कोरोना काल में कब किसे संक्रमण हो रहा है कोई नहीं जानता। कई लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं। बिना कोई लक्षण के कोरोना वायरस सभी पर हावी होता जा रहा है। कोरोना वायरस से बचाव के लिए हर तरह से एहतियात बरतने के बाद इसकी चपेट में आ रहे हैं तो अधिक सतर्क और सावधान रहने की जरूरत है। अगर आपको शक है कि आप कोविड की चपेट में आ गए तो ये 5 काम तुरंत करें -

1. तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें - जी हां, लक्षण नहीं होने पर भी लग रहा है या किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आ गए थे। डाॅक्‍टर से चर्चा करें। और जरूरी प्रिकॉशन लें। ताकि उस अनुसार आप समय पर सही इलाज ले सकें। और संक्रमण का अधिक खतरा फैलने से बच सकें।  

2. खुद को आइसोलेट करें- जी हां, जब तक टेस्ट नहीं हो जाता या रिपोर्ट नहीं आ जाती। तब तक खुद को आइसोलेट करें। ताकि बुजुर्ग लोग संक्रमण की चपेट में नहीं आए। क्योंकि बुजुर्ग को संक्रमण जल्दी होता है और ठीक होने में भी वक्त लगता है।  साथ ही 15 साल से छोटे बच्चों के लिए किसी भी प्रकार का वैक्सीन नहीं आया ऐसे में अधिक सावधानी बरतना जरूरी है।  

3. संक्रमित होने की बात नहीं छिपाएं - अगर संक्रमित होते हैं तो आप अपने आस-पास के लोगों से नहीं छिपाएं। ऐसे में आपके संपर्क में आए लोगों के लिए परेशानी बढ़ सकती है।  उन्‍हें भी टेस्‍ट कराने की सलाह दें। ऐसे में एहतियात बरतकर अन्‍य को चपेट में आने से बचाया जा सता है।  

4. खुद को हाइड्रेट रखें - संक्रमण के लक्षण महसूस होने पर खाना पीना नहीं छोड़े। पेट भरकर भोजन करें। पानी अधिक से अधिक पीएं। ताकि शरीर संतुलित रहे और संक्रमण से लड़ सकें। पानी पीने से शरीर में पानी की कमी नहीं होगी साथ ही डॉक्टर की सलाह से आप जूस का सेवन भी कर सकते हैं।  

5.आराम करें - अगर कमजोरी या थकान महसूस हो रही है तो जरा भी काम नहीं करें। क्‍योंकि संक्रमण आपके फेफड़ों पर असर डालता है।इस दौरान अपनी डाइट में हरी सब्जियों का सेवन करें। ताकि आपकी इम्‍युनिटी मजबूत होगी और आपको संक्रमण से लड़ने में मदद मिलेगी।  



Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

क्‍या युवाओं के लिए आज भी प्रासंगि‍क हैं स्‍वामी विवेकानंद के विचार?