Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

World AIDS Day 2021 : HIV और AIDS में होता है अंतर, जानें AIDS से बचने के उपाय

हमें फॉलो करें webdunia
मंगलवार, 30 नवंबर 2021 (18:34 IST)
हर साल 1 दिसंबर को एड्स विश्‍व दिवस मनाया जाता है। इस बीमारी के बारे में जागरूक करने के लिए आज भी लोगों को प्रेरित किया जा रहा है।  एड्स /AIDS (Aquired Immnue Deficiency Syndrome) होता और एचआईवी /HIV (Human  Immnuno Deficiency Virus) को एक ही माना जाता है लेकिन यह दोनों अलग-अलग है। अमेरिका के राष्‍ट्रपति ने वर्ष  1995 में एड्स के बारे में आधिकारिक घोषणा की थी। इसके बाद से हर साल 1 दिसंबर को विश्‍व एड्स दिवस मनाया जाता है।
 
एड्स एक ऐसी बीमारी है जिसका अभी तक किसी प्रकार का सही उपचार नहीं मिला है। इस बीमारी में इंसान के शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता पर असर पड़ता है। सालों से जारी  रिसर्च में एड्स की कोई वैक्‍सीन और प्रभावी इलाज सामने नहीं आया है। हालांकि एचआईवी और एड्स का नाम सुनते ही हवाइया उड़ जाती है। लेकिन बहुत से ऐसे लोग है जिन्‍हें एचआईवी और एड्स के बारे में नहीं पता है। तो आइए जानते हैं 
 
एचआईवी और HIV/एड्स AIDS में क्‍या अंतर है। साथ ही इससे बचने के उपाय - 
 
- दरअसल, एचआईवी एक वायरस है। जिस वजह से AIDS की बीमारी होती है। एचआईवी वायरस से प्रतिरक्षा प्रणाली पर असर पड़ता है। जबकि एड्स एक मेडिकल सिंड्रोम है। जो एचआईवी वायरस होने के बाद की स्थिति में होता है। 
 
- एचआईवी एक इंसान से दूसरे इंसान को हो सकता है। लेकिन एड्स नहीं हो सकता है। 
 
- यदि कोई एचआईवी से संक्रमित है तो ऐसा जरूरी नहीं है कि उसे एड्स हुआ हो। लेकिन एचआईवी संक्रमित व्‍यक्ति को एड्स हो सकता है। 
 
- एचआईवी हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता पर असर करता है। इस वायरस की चपेट में आने पर इंसान संक्रमण और बीमारियों से लड़ नहीं पाते हैं। और धीरे - धीरे इंफेक्‍शन फैलने लगता है। जिसके बाद एड्स से पीड़ति हो जाते हैं। 
 
- सहीं समय पर सही उपचार मिलने से स्‍वस्‍थ जीवन जी सकते हैं।     
 
आइए जानते हैं AIDS से बचने के उपाय -  
 
 
दुनिया में इस लाइलाज बीमारी का फिलहाल कोई उपाचार नहीं है लेकिन अंग्रेजी दवाओं के माध्‍यम से इसका कुछ समय के लिए उपचार किया जा सकता है। अलग-अलग डॉक्‍टर अलग-अलग प्रकार से इसका उपचार करते हैं। 
 
एड्स का कोई इलाज मौजूद नहीं है, लेकिन एंटी-रेट्रोवायरल रेजीम का पालन कर इस रोग का बढ़ना कम किया जा सकता है।
 
एचआईवी एंटीवायरल - संक्रमण के खतरे का कम कर HIV का प्रभाव कम करता है। साथ ही दूसरों को संक्रमित करने से बचते हैं। 
 
मनोविज्ञानी - बातचीत कर मानसिक रूप से संक्रमित मरीजों को ठीक किया जाता है। 
 
प्राथमिक उपचार - रोग की पहचान कर रोकथाम के लिए इलाज करते हैं। 
 
क्‍या खाना चाहिए -

- कम फैट वाला आहार करें। 
- फल और सब्जियां।
- साबुत अनाज।
- दालें।
 
घरेलू उपाय क्‍या कर सकते हैं? 
 
- अपने हाथों को बार-बार धोएं। खाने बनाने से पहले धोएं, खाना खाने से पहले धोएं, शोचालय जाने के बाद अच्‍छे हाथों को धोएं। 
- नाखूनों को साफ रखें। 
- रुखी त्‍वचा होने पर क्रीम लगाते रहे। 
- स्‍वच्‍छता का पूरा ख्‍याल रखें। 
- तनाव मुक्‍त रहे, मेडिटेशन करें, योग करें।
- मादक पदार्थ का सेवन नहीं करें। 
- आराम करें।

यह एक सामन्‍य जानकारी है। ठीक नहीं लगने पर डॉक्‍टर से जरूर चर्चा करें

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Drawbacks of Dates : खजूर खाने से पहले ये 5 नुकसान भी जान लें