Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

महात्मा गांधी पर कविता : क्यों शहीद हुए बापू

हमें फॉलो करें webdunia
webdunia

सुबोध श्रीवास्तव

तुम,
सिर्फ एक दिन जीने के लिए
क्यों जिए बापू
और/ क्यों शहीद हुए?
तुम्हारे ही देश में-
जहां देखा था
तुमने
रामराज्य का स्वप्न,
तुम्हारी संतानें 
राम को-
देखना भी नहीं चाहतीं।
तुम,
अहिंसा के पुजारी थे 
और/ इसी रास्ते पे
चलने को कह गए थे
मगर
तुम्हारी ही प्रतिमूर्तियां
तुम्हारी शांत लाठी
भूखों-नंगों के सब्र पे
बरसा रही हैं/ अथक
जबकि
तुम तो शायद थक भी जाते होगे!
जब तुम्हारी संतानें
तुम्हारी ही समाधि पर 
गोलियां बरसा रहीं हैं तो
उस दिन/ तुम
असहाय से-
'राम' कहकर क्यों चुप हो गए थे
बापू!
बस,
एक रोज जिंदा रहने को
क्यों तुम
उम्र भर जिए बापू?

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Lal kila: आखि‍र इस हिंसा के असली दोषी कौन?