Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

मां पर कविता : क्या है मां

हमें फॉलो करें webdunia
अथर्व पंवार 
 
अपने उजाले से जो पूरा संसार प्रकाशमय कर दे 
वह भोर की पहली किरण है मां 
 
गर्मी के थपेड़ों से भरी राह में 
पेड़ की शीतल छांव है मां 
 
जिस भू पर महकते फूल हैं 
उस धरा की माटी है मां 
 
किसी मरते वृक्ष को जीवित कर दे 
वह फूटती कोपल है मां 
 
अन्धकार में जो राह बताए 
वह पूर्णिमा की चांदनी है मां
 
पतझड़ जीवन में जो वसंत लाए
ऐसा एक व्यक्तित्व है मां  
 
समुद्र के तूफान की उत्तुंग लहरों में 
दृढ़ से डटी नाव है मां
 
जीवन के इस महासंग्राम में 
लक्ष्यपूर्ति की विजयपताका है मां....

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

White onion Murabba : सफेद प्याज का मुरब्बा है मर्दों के लिए अमृत समान