Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

मिशेल ओबामा और जॉर्ज बुश की यह ‘क्‍यूटनेस’ क्‍यों भा रही लोगों को?

webdunia

नवीन रांगियाल

शुक्रवार, 23 अक्टूबर 2020 (12:32 IST)
पिछले दिनों मिशेल ओबामा और जॉर्ज बुश का एक वीडि‍यो वायरल हुआ था, इस वीडि‍यो में जॉर्ज बुश चुपके से मिशेल को एक टॉफी दे रहे हैं और मिशेल हल्‍के से मुस्‍कुराते हुए अपने हाथ में टॉफी ले लेती हैं।

इस वीडि‍यो को लाखों लोगों ने सोशल मीडि‍या में देखा था और पसंद किया था। अब एक बार फि‍र से दोनों की कई मौकों पर ली गई तस्‍वीरें सोशल मीडि‍या में वायरल हो रही हैं।

इन तस्‍वीरों में मिशेल ओबामा और जॉर्ज बुश की नजदीकियां दिखाई जा रही हैं। इनमें नजर आता है कि वे दोनों कितने कम्‍फर्टेबल हैं।

बुश द्वरा टॉफी देने वाला वीडि‍यो उस वक्‍त का है जब पूर्व यूएस सीनेटर जोए लीवरमैन वाशिंगटन नेशनल कैथेड्रल में प्रशंसा भाषण पढ़ रहे थे। उस वक्त अमेरिकी सीनेटर जॉन मैक्केन को अंतिम श्रद्धांजलि दी जा रही थी। वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि जॉर्ज बुश ने अपनी पत्नी के हाथ से टॉफी लेकर मिशेल ओबामा के हाथ में रख दी। बराक ओबामा ने भी तिरछी निगाहों से इस पूरे वाकये को देखा था।

अब हाल ही में ट्व‍िटर पर ऊबेर फैक्‍टस नाम के एक अकांउट से जॉर्ज डब्‍लू बुश और मिशेल ओबामा की कई मौकों पर पास-पास में बैठने की तस्‍वीरें पोस्‍ट की हैं।

ऊबेर फैक्‍ट्स ने इन तस्‍वीरों के कैप्‍शन में लिखा है, मिशेल ओबामा एंड जॉर्ज डब्‍लू बुश आर फॉरएवर सीटमेट्स


इस ट्वीट के बाद कई यूजर्स के मजेदार कमेंट आ रहे हैं। एक यूजर द सिनियर बोस ने लिखा, इस ट्वीट से आप क्‍या साबि‍त करना चाहते हैं।

एंडी गि‍थरोड नाम के एक यूजर ने कमेंट में लिखा, मैंने ही यहां का सीटिंग अरेंजमेंट देखा था, मुझे बुश ने कहा था कि उन्‍हें मिशेल ओबामा के पास ही बैठाए, क्‍योंकि मुझे उन पर क्रश है।

शेरी मॉरिसन ने लिखा कि मुझे इन दोनों को साथ देखना अच्‍छा लगता है।

एक यूजर ने लिखा कि यह वही महिला है जो कहती थी कि अमेरिका एक रेसिस्‍ट कंट्री है और यहां रहना बहुत मुश्‍कि‍ल है।

एक ने लिखा बराक और नैंसी इन पर नजर रखे हुए हैं।
कुल मिलाकर दोनों की फोटो पर लोग मजेदार कमेंट कर रहे हैं, किसी को यह सब क्‍यूट लग रहा है तो कोई इसे क्रश बता रहा है।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

विदेशी कर्मचारियों पर ट्रंप का आदेश पड़ा महंगा, 100 अरब डॉलर का हुआ नुकसान