Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

VIDEO : युद्ध का मैदान बनी पाकिस्तान की सिंध असेंबली, इमरान खान के विधायकों में जमकर चले लात-घूंसे

webdunia
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
share
मंगलवार, 2 मार्च 2021 (20:01 IST)
पाकिस्तान के नेताओं-मंत्रियों के कारनामों के वीडियो अक्सर सामने आते रहते हैं। इन वीडियोज की सोशल मीडिया पर खूब खिल्ली उड़ती है। इस बार पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी तहरीक-ए-इंसाफ के नेताओं के बीच मारपीट का वीडियो सामने आया है। यह वीडियो सिंध एसेंबली का है। नेताओं के बीच मारपीट से सिंध एसेंबली जंग का मैदान बन गई। इस पूरी घटना का सोशल मीडिया पर वीडियो जमकर वायरल हो रहा है।
 
सिंध विधानसभा में तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के नेताओं और 'बागी' नेताओं के बीच में झगड़ा हो गया। बागी नेताओं ने सीनेट चुनाव के दौरान अपनी मर्जी से वोट डालने की बात कही थी। पीटीआई के नेताओं ने असेंबली को ही युद्ध का मैदान बना दिया।
 
पीटीआई के तीन बागी नेता असलम आबरो, शहरयार शार और करीब बख्श गाबोल जैसे ही सिंध असेंबली में आए, वैसे ही पीटीआई के नेताओं ने उन पर हमला बोल दिया। पीटीआई नेता उनके अपनी 'मर्जी' से वोटिंग करने की बात से नाराज थे। 
सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि नेताओं के बीच में मारपीट हो रही है। मारपीट के दौरान असेंबली में कई सुरक्षाकर्मी भी पहुंच गए और नेताओं को एक-दूसरे से अलग करने की कोशिश की। इस मारपीट में पीपीपी के नेता भी शामिल हो गए।
 
आबरो ने पहले घोषणा की थी कि वे और उनके साथ वाले नेता पार्टी लाइन पर वोट नहीं करेंगे। उन्होंने सीनेट टिकटों को बेचे जाने का आरोप लगाया था और कहा था कि वह सैफुल्लाह आबरो और फैसल वावडा के चुने के पक्ष में नहीं है।
 
पीटीआई के स्थानीय नेताओं ने आरोप लगाया था कि पीपीपी उनके विधायकों को आगामी सीनेट चुनाव में अपनी ओर करने के लिए दबाव बना रही है।

पीटीआई के कराची अध्यक्ष खुर्रम शेर जमां ने कहा था कि उनके विधायकों का अपहरण कर लिया गया है। बाद में विधायकों ने इस दावे को खारिज करते हुए कहा था कि उन लोगों का अपहरण नहीं किया गया है।

Share this Story:
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

webdunia
50 लाख लोगों ने Co-Win पोर्टल पर कराया पंजीकरण