Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

फिर दिखीं रहस्यमय उड़न तश्तरियां, 2 माह में 15 पायलटों ने देखे UFO

हमें फॉलो करें webdunia

राम यादव

  • 2 माह में 15 पायलटों ने यूएफओ देखने का किया दावा
  • F-18 जेट विमान के पायलट ने देखीं रहस्यमय उड़न तश्तरियां
  • विमान के 1500 से 3000 मीटर ऊपर उड़ रही थीं ये रहस्यमय उड़न तश्तरियां
  • पायलट ने बताया कि हर 10 सेकंड में रोशनी तेज और मंद हो जाती थी
  • प्रशांत महासागर के ऊपर जापान से लेकर अमेरिका में दिखाई देती हैं इस तरह की रहस्यमय वस्तुएं
अगस्त और सितंबर महीने के दौरान, प्रशांत महासागर पर उड़ान के समय एक दर्जन से अधिक जेट विमान चालकों ने अपने ऊपर आकाश में 'अज्ञात उड़नशील वस्तुएं (यूएफ़ओ)' देखने के दावे किए हैं। 
 
कई विमान चालक जो कुछ देख रहे थे, उसकी सूचना उन्होंने उसी समय अमेरिकी 'हवाई यातायात सुरक्षा प्रशासन (एफएए) को भी दी। कुछ अवलोकनों की ऑडियो और वीडियो रिकॉर्डिंग भी उपलब्ध हैं। यूट्यूब पर प्रसारित एक रेडियो संदेश में, एक पायलट लॉस एंजिल्स के 'हवाई यातायात मार्ग नियंत्रण केंद्र' (एयर रूट ट्रैफिक कंट्रोल सेंटर (ARTCC) को अपना अवलोकन बताते हुए सुना जा सकता है। उसका कहना है कि उसने शुरू में 3, बाद में 7 उड़नशील चीज़ें देखीं, जो उसके विमान से अनुमानतः 1,500 से 3,000 मीटर ऊपर उड़ रही थीं। उसने कहा 'मैं नौसाना के F-18 जेट विमान का पायलट था और मैं आपको बताना चाहता हूं कि मैंने इससे पहले कभी ऐसा कुछ नहीं देखा है।'
 
जब पायलट ने 'एआरटीसीसी' के व्यक्ति से पूछा कि यह क्या हो सकता है, तो वह व्यक्ति कोई जानकारी नहीं दे सका। एआरटीसीसी वाले को आमतौर पर पता रहता है कि वर्तमान में कितने और कौन से दूसरे विमान उसके हवाई क्षेत्र में हैं। एआरटीसीसी वाले को शुरू में संदेह था कि यह कोई उपग्रह (सैटेलाइट) हो सकता है, लेकिन उसे जल्दी ही इस विचार को त्यागना पड़ा। पायलट का कहना है कि जो रोशनियां वह देख रहा था, वे एक-दूसरे के फेरे लगा रही थीं। 
webdunia
एक अन्य पायलट ने बताया कि हर 10 सेकंड में रोशनी तेज और मंद हो जाती थी। उसकी वीडियो रिकॉर्डिंग आकाश में प्रकाश के उज्ज्वल बिंदुओं जैसी दिखती है, जिनमें से एक को देखना विशेष रूप से आसान है। बाक़ी को पहचानना कतई आसान नहीं है। एक विमान चालक ने बाद में अख़बार 'डेली मेल' को बताया कि उसकी एयरलाइन ने इस तरह की घटनाओं के बारे में सार्वजनिक रूप से कुछ भी बोलने से मना किया है।
 
उसने ऐसे कई विमान चालकों से बात की है, जिन्होंने 6 अगस्त से 23 सितंबर के बीच प्रशांत महासागर वाले हवाई मार्ग पर वाणिज्यिक उड़ानें भरी हैं। उनमें से 15 ने रहस्यमय अज्ञात उड़नशील चीज़ों की रोशनी भी देखी है। 6 विमान चालक अपने नाम आदि के साथ किसी भी जांच के लिए अपने बयान देने को तैयार हैं। प्रशांत महासागर के ऊपर जापान से लेकर अमेरिका में मायमी तक इस तरह की घटनाएं बार-बार देखने में आती हैं।
 
इस विमान चालक ने इस बात की आलोचना कि विमान चालकों द्वारा देखे गए इस प्रकार के अवलोकनों को रिपोर्ट करने के बारे में कोई नियम आदि नहीं है। लेकिन 'एफएए' के अनुसार, पायलट इस तरह के अवलोकन रिपोर्ट कर सकते हैं। उन्हें लिखकर नोट किया जाएगा और अमेरिका की 'अज्ञात हवाई प्रघटना (यूएपी) टास्क फोर्स' को भेजा जाएगा। इस कार्यदल को ऐसी घटनानाओं की ही जांच के लिए विशेष रूप से गठित किया गया है।
 
63 वर्षीय बहुत ही अनुभवी अमेरिकी विमान चालक क्रिस फ़ान फ़ूरहिस का कहना है कि 2004 में जब वे जापान एयरवेज़ के पायलट थे और एक बार जापान से होनोलूली जा रहे थे, तभी अपने चालक कक्ष से उन्हें तीन उड़न तश्तरियां दिखीं। विलुप्त होने से पहले वे एक त्रिकोणीय आकार में उड़ती लग रही थीं। सारा दृश्य केवल 15 सेकंड तक का ही था। एक दूसरा विमान, जो उनके विमान से आगे उड़ रहा था, उसके चालक ने भी यह दृश्य देखा और पूछा कि क्या आप इसे किसी को बताएंगे। क्रिस फ़ान फ़ूरहिस ने कहा, नहीं।  
 
अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा भी इस समय यूएफओ अवलोकनों संबंधी कई रिपोर्टों की जांच कर रही है। अमेरिकी संसद की प्रतिनिध सभा (हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स) की खुफिया उपसमिति के अध्यक्ष आंद्रे कार्सन ने इस तरह की रिपोर्टों को गंभीरता से लेने का आश्वासन दिया है।
 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

किसी भी लड़की को 'आइटम' कहना अपमानजनक, अदालत ने दोषी को दी यह सजा...